Halloween party ideas 2015

    ऋषिकेश :

                                                                                                                                                                       मुख्यमंत्री के नागरिक उड्डयन सलाहकार कैप्टन दीप श्रीवास्तव  ने कहा कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में हेलीपैड सुविधा उपलब्ध होने से उत्तराखंड में एयर एंबुलेंस सेवा को बढ़ावा मिलेगा,जिससे उत्तराखंड के सुदूरवर्ती इलाकों में गंभीर बीमार मरीजों व आपदा, सड़क दुर्घटनाओं में घायलों को समय पर अस्पताल पहुंचाकर मृत्युदर को कम किया जा सकेगा। इस सेवा से आम व्यक्ति को जोड़ने के लिए राज्य सरकार एक टोल फ्री अथवा टोलफ्री नंबर जारी करने पर विचार कर रही है।    
    
                                                                                       
   एम्स ऋषिकेश में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत  के नागरिक उड्डयन सलाहकार कैप्टन दीप श्रीवास्तव  ने कहा कि संस्थान में हेलीपैड बनने से सरकार राज्य के दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले गरीब पृष्ठभूमि के गंभीर मरीजों को एयर एंबुलेंस सेवा से जोड़ने के लिए योजना पर कार्य कर रही है। सरकार का प्रयास है कि एयर एंबुलेंस सुविधा का आर्थिक बोझ गरीब व्यक्ति पर न पड़े, इसके लिए सरकार इसे राज्य द्वारा संचालित स्वास्थ्य योजनाओं से जोड़ने पर भी विचार कर रही है।                                                                                    
  उन्होंने बताया कि वर्तमान में उत्तराखंड में 12 कंपनियां हेली सेवा प्रदान कर रही हैं। लिहाजा उनसे सरकार की हेली एंबुलेंस सेवा के लिए वार्ता चल रही है। सीएम के उड्डयन सलाहकार कैप्टन श्रीवास्तव ने बताया कि उत्तराखंड में हेली एंबुलेंस सेवा को बढ़ावा देने व प्रत्येक व्यक्ति को इससे जोड़ने के लिए जल्द टोल फ्री नंबर अथवा वाट्सएप नंबर जारी करेगी,जिस पर विचार चल रहा है। उन्होंने बताया कि एम्स में हेलीपैड निर्माण में राज्य सरकार के सहयोग व सहमति का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड में आपदाओं अथवा सड़क दुर्घटनाओं के समय लोगों को त्वरित उपचार मुहैया कराकर लोगों की जान बचाना है।                                                                                                                                                                        
  इस अवसर पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने कहा कि संस्थान उत्तराखंड के लोगों को विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने को लेकर कृत संकल्पित है, इसके लिए अस्पताल में अति अत्याधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने की दिशा में सततरूप से कार्य किया जा रहा है। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने कहा कि आपदा, सड़क दुर्घटनाओं के समय घायलों को तत्काल चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराने के लिए एम्स ऋषिकेश पूर्णरूप से उत्तराखंड सरकार के साथ है। इस अवसर पर एम्स के हेली सर्विसेस इंचार्ज डा. मधुर उनियाल  आदि मौजूद थे।        
   
 मुख्यमंत्री के नागरिक उड्डयन सलाहकार कैप्टन श्रीवास्तव ने बताया कि दूरस्थ क्षेत्रों के गंभीर रोगियों व घायलों को एयर एंबुलेंस से तत्काल अस्पताल पहुंचाने की उत्तराखंड का यह मॉडल व अस्पताल परिसर में ही हेलीपैड सुविधा उत्तर प्रदेश के महानिदेशक सिविल एविएशन को काफी पसंद आई है व उन्होंने इसकी सराहना की है, साथ ही इसे उत्तर प्रदेश में भी लागू करने पर विचार करने की बात कही है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में विभिन्न गंभीर रोगों से ग्रसित 4 कोविड पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। इसके अलावा 20 लोगों की कोविड सेंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिनमें 8 स्थानीय लोग भी शामिल हैं। संस्थान की ओर से इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।                                                                                                                                            एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि ज्वालापुर, हरिद्वार निवासी 35 वर्षीय  महिला सांस लेने में तकलीफ की शिकायत पर बीती 5 अगस्त को एम्स में भर्ती हुई थी, जिसका कोविड सेंपल पॉजिटिव पाया गया था, उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था। जहां कोविड वार्ड आईसीयू में वेंटिलेटर पर थी,उक्त मरीज की उपचार के दौरान मौत हो गई। दूसरा मामला बागपत, उत्तरप्रदेश का है। उत्तरप्रदेश के बागपत निवासी 60 वर्षीय पुरुष जो कि फेफड़ों से संबंधी दिक्कतों के चलते बीते माह 22 जुलाई को एम्स आया था,जिसकी कोविड सेंपल रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई थी। उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था, जहां उपचार के दौरान उक्त व्यक्ति की मौत हो गई।                                                                                                                                                                                                                                               तीसरा मामला हरिद्वार का है। आर्यनगर ज्वालापुर, हरिद्वार निवासी 72 वर्षीय पुरुष जो कि किडनी व सांस रोग से ग्रसित था व बुखार आदि शिकायत के साथ बीती 10 अगस्त को एम्स ऋषिकेश आया था। जिसका कोविड सेंपल पॉजिटिव आने पर उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था, उक्त पेशेंट की उपचार के दौरान मौत हो गई। जब​कि चौथा मामला कनखल हरिद्वार का है। हरिद्वार निवासी 76 वर्षीय पुरुष जो कि डायबिटीज, हाईपरटेंशन, सांस लेने में तकलीफ तथा बुखार की शिकायत पर बीती 4 अगस्त को एम्स में आया था,जिसकी कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, उसके बाद उक्त व्यक्ति को कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था। बुधवार सुबह कोविड आईसीयू में उपचार के दौरान उक्त व्यक्ति की मौत हो गई।  

इसके अलावा बीस बीघा,ऋषिकेश निवासी 31 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स ऋषिकेश में नर्सिंग ऑफिसर है कोविड संक्रमित पाया गया है, इसके अलावा ऋषिकेश निवासी एक 50 वर्षीय पुरुष, वीरभद्र मार्ग निवासी 29 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स कोविड ओटी में हेल्थ केयर वर्कर है की कोविड सेंपल रिपोर्ट भी पॉजिटिव पाई गई है। इसके अलावा टिहरी विस्थापित आमबाग, ऋषिकेश एक 25 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स में नर्सिंग ऑफिसर है की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। एम्स का एक 28 वर्षीय व दूसरा एक 23 वर्षीय हेल्थ केयर वर्कर की कोविड सेंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। शिव मंदिर,ऋषिकेश निवासी 42 वर्षीय पुरुष व टिहरी विस्थापित क्षेत्र निवासी 26 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स में हेल्थ केयर वर्कर है, की कोविड सेंपल रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।
नगीना बिजनौर निवासी 45 वर्षीय महिला व झबरेड़ा, हरिद्वार निवासी 42 वर्षीय पुरुष, देहरादून निवासी 57 वर्षीय पुरुष की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है। बिहारीगढ़, हरिद्वार निवासी 83 वर्षीय पुरुष तथा देहरादून निवासी 39 वर्षीय पुरुष की कोविड सेंपल रिपोर्ट बुधवार को पॉजिटिव पाई गई है। उधमसिंहनगर निवासी 55 वर्षीय पुरुष, ज्वालापुर, हरिद्वार 29 वर्षीय पुरुष, मोतीबाजार देहरादून निवासी 28 वर्षीय पुरुष, ज्वालापुर, हरिद्वार निवासी 21 वर्षीय पुरुष की कोविड सेंपल रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। इसके अलावा हरिद्वार निवासी 35 वर्षीय पुरुष व देहरादून निवासी 42 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स में हेल्थ केयर वर्कर है की सेंपल रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है। मुरादाबाद निवासी 36 वर्षीय एक व्यक्ति की रिपोर्ट भी कोविड पॉजिटिव पाई गई है। उन्होंने बताया कि उक्त सभी कोविड पॉजिटिव रोगियों के बाबत एम्स की ओर से स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को अवगत करा दिया गया है।

Post a comment

Powered by Blogger.