Halloween party ideas 2015


देहरादून :


कॉमन सर्विस सेंटर पर लेबर कार्ड के बनाए जाने को लेकर आम जनता और वीएलई अत्यन्त उत्साहित है.कॉमन सर्विस सेंटर द्वारा उपलब्ध कराई गई इस सेवा के विषय में  प्रोजेक्ट मैनेजर पवन गैरोला और कॉमन सर्विस सेंटर सचिव ललित बोरा ने बताया की आम जनता को फायदा पहुंचाने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर के मैनेजर 06 माह से इस प्रयास में लगे थे .
 श्रम विभाग के द्वारा दिए जाने वाले श्रम कार्ड का कार्य कॉमन सर्विस सेंटर को मिल जाए, जिससे वीएलई के द्वारा आम जनता को और मजदूरों को फायदा पंहुचाया जा सके. इस दिशा में वह लगातार काम करते रहे और प्रस्ताव बनाकर विभाग से बातचीत की अंततः सफलता प्राप्त करते हुए ,बीते सप्ताह कॉमन सर्विस सेंटर ने अपने समस्त वीएलई को उत्तराखंड में यह कार्य उपलब्ध करा दिया.
 उन्होंने बताया की जहां पहले लेबर कार्ड बनाने के लिए आम जनता को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता था .वही अब मात्र 150 रुपए में उनको लेबर कार्ड उपलब्ध हो सकेगा.  इसके लिए उन्हें अपने क्षेत्र में स्थित कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा और सभी जरूरी कागजात उपलब्ध कराने होंगे.
 बहुत दिनों से राज्य में कॉमन सर्विस सेंटर के इस कार्य कार्य लेने की होड़ विभिन्न राजनीतिक दलों में मची हुई है इस पर उन्होंने कहा कि इसके लिए प्रोजेक्ट मैनेजर और उनकी टीम ने अथक प्रयास किया है इसके पश्चात यह कार्य संभव हो पाया है.




प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी 9 अगस्त को सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कृषि अवसंरचना कोषके तहत 1 लाख करोड़ रुपये की वित्तपोषण सुविधा का शुभारंभ किया।  उन्होंने पीएम किसान योजना के तहत 8.5 करोड़ किसानों को 17,000 करोड़ रुपये की धनराशि की छठी किस्त भी जारी की। देश भर के लाखों किसान, सहकारी समितियां और नागरिक इस आयोजन के साक्षी बनें। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर भी इस अवसर पर उपस्थित रहें।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा है कि एग्री इंफ्रा फंड से कृषि सेक्टर को मजबूती मिलेगी और आत्मनिर्भर कृषि से आत्मनिर्भर भारत का मार्ग प्रशस्त होगा। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को प्राथमिकता देकर ही देश की अर्थव्यवस्था को रफ्तार दी जा सकती है। इसके लिए कृषि और किसान की भूमिका महत्वपूर्ण है। मुख्यमंत्री ने एक लाख करोड़ रूपए से एग्री इंफ्रा फंड की घोषणा करने पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की छठी किश्त की राशि भी जारी की है।  इस मद के लिए 17 हजार करोड़ रुपये की धनराशि जारी की गई है। इसका सीधा लाभ देश के 8.5 करोड़ किसानों को मिलेगा। उनके बैंक खातों में सीधे दो हजार रुपये जमा होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि की राशि जारी होने से उत्तराखंड के किसान भी लाभान्वित होंगे। राज्य में इस योजना में अभी तक 8.33 लाख किसान पंजीकृत है।

राज्य सरकार ने भी किसानों के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की हैं। किसानों को तीन लाख रूपये तक का ऋण बिना ब्याज के दिया जा रहा है। जबकि स्वयं सहायता समूह को पांच लाख रूपये तक ऋण बिना ब्याज के उपलब्ध कराया जा रहा है। पशुपालन, हार्टिकल्चर, हर्बल, मत्स्य, आदि क्षेत्रों में भी अनेक पहल की गई है।

किसानों को सब्जी बीज अनुदान पर उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री एकीकृत बागवानी विकास योजना शुरू की की गई है। भारत सरकार द्वारा 251.71 करोङ रूपए की उत्तराखंड एकीकृत औद्यानिकी विकास परियोजना को स्वीकृति प्रदान की गई है। मौसम आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत सेब में ओलावृष्टि से होने वाली क्षति को भी रिस्क फेक्टर में शामिल किया गया है। इसी प्रकार सगंध खेती के लिए एरोमा वैली विकसित की जा रही हैं। आगामी पांच वर्षों में एक हजार हैक्टेयर में नया चाय प्लांटेशन की योजना पर काम किया जा रहा है। 
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 1 लाख करोड़ रुपये के कृषि अवसंरचना कोषके तहत वित्त पोषण सुविधा के लिए केंद्रीय क्षेत्र योजना को मंजूरी दे दी है। यह कोषकटाई बाद फसल प्रबंधन अवसंरचनाऔर सामुदायिक कृषि परिसंपत्तियोंजैसे कि कोल्ड स्टोरेज, संग्रह केंद्रों, प्रसंस्करण इकाइयों, इत्‍यादि के सृजन को उत्प्रेरित करेगा। ये परिसंपत्तियां किसानों को अपनी उपज के अधिक मूल्य प्राप्त करने में सक्षम करेंगी। दरअसल, इन परिसंपत्तियों की बदौलत किसान अपनी उपज का भंडारण करने एवं ऊंचे मूल्यों पर बिक्री करने, बर्बादी को कम करने, और प्रसंस्करण एवं मूल्यवर्धन में वृद्धि करने में समर्थ हो सकेंगे। कई ऋणदाता संस्थानों के साथ साझेदारी में वित्तपोषण सुविधा के तहत 1 लाख करोड़ रुपये मंजूर किए जाएंगे;  सार्वजनिक क्षेत्र के 12 बैंकों में से 11 बैंकों ने पहले ही कृषि सहयोग और किसान कल्याण विभाग के साथ सहमति पत्रों (एमओयू) पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। इन परियोजनाओं की व्यवहार्यता या लाभप्रदता बढ़ाने के लिए लाभार्थियों को 3% ब्याज सब्सिडी और 2 करोड़ रुपये तक की ऋण गारंटी दी जाएगी। योजना के लाभार्थियों में किसान, पीएसीएस, विपणन सहकारी समितियां, एफपीओ, एसएचजी, संयुक्त देयता समूह (जेएलजी), बहुउद्देशीय सहकारी समितियां, कृषि-उद्यमी, स्टार्ट-अप्‍स, और केंद्रीय/राज्य एजेंसी अथवा स्थानीय निकाय द्वारा प्रायोजित सार्वजनिक-निजी भागीदारी परियोजनाएं शामिल होंगी।



उत्तराखंड में आज कोरोना पॉजिटिव के 230 मामले आए हैं।  जिसे मिलाकर उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के कुल मामले अब 9632 हो गए हैं। जिसमें सक्रिय केसों की संख्या 3334 है,  आज 171 लोग ठीक हो चुके है, रिकवर मामलों की संख्या 6134 है। अभी तक 125 लोगों मृत्यु हो चुकी है, आज 3283  लोगों के सैंपल रिपोर्ट  नेगेटिव पाए गए हैं।  उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के ठीक होने की दर घटकर 63.68% हो गयी है।

 उत्तराखंड में कंटेनमेंट जोन 459  है। आज चमोली जनपद से 01, चंपावत से 07, देहरादून से 34, हरिद्वार से 127, नैनीताल से 16, पौड़ी से 03, रुद्रप्रयाग से 08, टिहरी से 11, उधमसिंह नगर से 19 और उत्तरकाशी से 04 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं।
07 सेना के जवान हैं, 114 व्यक्ति पहले से संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने से कोरोना के शिकार हुए है, 104 लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री ज्ञात नहीं है, बाकी सब प्रवासी उत्तराखंड है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स संस्थान में पिछले 24 घंटे में विभिन्न जटिल रोगों से ग्रसित 4 कोविड पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। इसके अलावा कोविड सेंपल जांच में 26 लोगों की रिपोर्ट कोविड पाॅजिटिव पाई गई है। जिनमें 9 स्थानीय व्यक्ति भी शामिल है। संस्थान की ओर से इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।
एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि आमपड़ाव,कोटद्वार निवासी एक 55 वर्षीय महिला जो कि 8 अगस्त को एम्स इमरजेंसी में आई थी, जो कि डायबिटीज, हाईपरटेंशन व किडनी संबंधी समस्या से ग्रसित थी,साथ ही उसे सांस लेने में दिक्कत थी। महिला का कोविड सेंपल पॉजिटिव आने पर उसे कोविड आईसीयू में भर्ती किया गया था, जहां शनिवार मध्यरात्रि में उपचार के दौरान महिला की मौत हो गई। इसके अलावा  दयाल कॉलोनी सहारनपुर की 75 वर्षीय महिला सांस की दिक्कत व छाती में गांठ की शिकायत के साथ एम्स में बीते शनिवार को आई थी। उन्हें कोविड आईसीयू में वेंटीलेटर पर रखा गया था। जिसको इलाज के दरमियान रविवार सुबह दिल का दौरा पड़ा, जिससे उनकी मृत्यु हो गई । एक अन्य मामला मुरादाबाद, यूपी की 37 वर्षीय महिला का है जो पिछले 4 दिन से छाती में दर्द बुखार एवं सांस की दिक्कत के साथ बीती 28 जुलाई को एम्स इमरजेंसी में आई थी। उनका 2018 में स्तन कैंसर का इलाज भी हुआ था रविवार सुबह कोविड-19 वार्ड में इलाज के दौरान इनकी मृत्यु हो गई । चौथा मामला टेम्ना, रुद्रप्रयाग के 61 वर्षीय व्यक्ति का है, जो बीते माह 11 तारीख को खांसी एवं सांस की दिक्कत के साथ एम्स ओपीडी में आए थे, चिकित्सकों ने उनके फेफड़े में कैंसर बताया था, इलाज के दरमियान रविवार सुबह 8:00 बजे उनकी मृत्यु हो गई। इसके अलावा गली नं दो सर्वहारा नगर, ऋषिकेश निवासी 24 वर्षीय पुरुष जो कि अपने कोविड पॉजिटिव भाई के प्राइमरी कांटेक्ट में आया था,7 अगस्त को एम्स में उसका कोविड सेंपल पॉजिटिव आया है।   वीरभद्र रोड ऋषिकेश निवासी एम्स की कोविड वार्ड में बतौर अटेंडेंट तैनात 30 वर्षीय पुरुष का 8 अगस्त को लिया गया सेंपल पॉजिटिव आया है। टिहरी विस्थापित क्षेत्र ऋषिकेश निवासी26 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स कोविड वार्ड में अटेंडेंट है, उसका 8 अगस्त को खांसी व बुखार की शिकायत के साथ एम्स ओपीडी में आया था, जिसका सेंपल पॉजिटिव आया है। आवास विकास कॉलोनी निवासी एम्स यूरोलॉजी विभाग में कार्यरत 31 वर्षीय हेल्थ केयर वर्कर जिसे बुखार, गला व शरीर में दर्द की शिकायत थी, 7 अगस्त को उसका सेंपल पॉजिटिव पाया गया है। अद्वेतानंद मार्ग ऋषिकेश निवासी 25 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स में भर्ती एक अन्य मरीज का अटेंडेंट है, उसका 7 अगस्त को लिया गया सेंपल पॉजिटिव आया है। ऋषिकेश निवासी 32 वर्षीया महिला जो कि एम्स में भर्ती एक कोविड पॉजिटिव मरीज की अटेंडेंट है, महिला का 6 अगस्त को लिया गया सेंपल पॉजिटिव आया है, उसे कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। ऋषिकेश निवासी 65 वर्षीया महिला जो कि कैंसर ग्रसित है जिसे एम्स के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था,इसका 6 अगस्त को लिया गया सेंपल पॉजिटिव आने पर कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। आईडीपीएल ऋषिकेश निवासी 52 वर्षीय पत्नी व 56 वर्षीय पति जिनका 7 अगस्त को फिरोजाबाद से ऋषिकेश लौटने पर लिया गया कोविड सेंपल पॉजिटिव आया है। ज्वालापुर हरिद्वार के80 वर्षीय पुरुष जो कि 6अगस्त को बुखार व सांस लेने में तकलीफ की शिकायत पर एम्स इमरजेंसी में आया था, कोविड पॉजिटिव आने पर उसे भर्ती कर दिया गया है। रामपुर यूपी का 35 साल का पुरुष जो कि शरीर के बाईं ओर कमजोरी की शिकायत के साथ7अगस्त को इमरजेंसी में आया था, सेंपल पॉजिटिव मिलने पर उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है। कनखल हरिद्वार निवासी 59 वर्षीय पुरुष जिसका 7अगस्त को इमरजेंसी में लिया गया सेंपल पॉजिटिव आने पर उसे कोविड आईसीयू में भर्ती किया गया। देहरादून निवासी 40 वर्षीय पुरुष का 7अगस्त को इमरजेंसी में लिया गया सेंपल पॉजिटिव आने पर उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया। बहादराबाद हरिद्वार के 75 वर्षीय पुरुष का 6 अगस्त को इमरजेंसी में सेंपल पॉजिटिव आने पर उसे कोविड आईसीयू में भर्ती कराया गया। बेरीबाग सहारनपुर के45 वर्षीय पुरुष का पेट दर्द की शिकायत पर इमरजेंसी में 6 अगस्त को सेंपल पॉजिटिव आने पर कोविड वार्ड में भर्ती कराया। रोशनाबाद हरिद्वार निवासी27 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स में भर्ती मरीज का अटेंडेंट है, व्यक्ति का7 को लिया गया सेंपल पॉजिटिव आया है। सहारनपुर निवासी60 वर्षीय महिला जिसका पति कोविड पॉजिटिव है व एम्स में उपचाराधीन है,6 अगस्त को महिला का सेंपल पॉजिटिव आया है। मोतीबाजार हरिद्वार निवासी 68 वर्षीय पुरुष जो बुखार, सांस लेने में दिक्कत व अस्थमा से ग्रसित है ,6 अगस्त को इमरजेंसी में सेंपल पॉजिटिव आने पर उसे कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया है। मंगलौर हरिद्वार के 32 वर्षीय पुरुष जो कि बुखार, सांस लेने में दिक्कत होने पर6 अगस्त को इमरजेंसी में आया, पॉजिटिव आने पर कोविड वार्ड में भर्ती कराया। नगीना बिजनौर की 30 वर्षीय महिला जो कि सड़क दुर्घटना में घायल होने पर7अगस्त को इमरजेंसी में आई,सेंपल पॉजिटिव आने पर कोविड वार्ड में भर्ती किया गया। बल्लीवाला देहरादून के 26 वर्षीय पुरुष जो कि बुखार व सांस संबंधी दिक्कत होने पर 6 अगस्त को इमरजेंसी में आया था,7अगस्त को सेंपल पॉजिटिव आने पर कोविड वार्ड में भर्ती कराया। बहादराबाद निवासी 65 वर्षीय पुरुष जो कि अस्थमा रोगी है व सांस लेने में दिक्कत होने पर6 अगस्त को इमरजेंसी में आया था, रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर कोविड वार्ड में भर्ती कराया। बीजनौर यूपी निवासी 41 वर्षीय पुरुष जो सांस लेने में तकलीफ व गले में दर्द की शिकायत पर 8 अगस्त को इमरजेंसी में आया, पॉजिटिव पाया गया है। टिबड़ी,हरिद्वार की 65  वर्षीय महिला जो कि सांस लेने में तकलीफ होने पर7 अगस्त को इमरजेंसी में आई थी,उसे पॉजिटिव रिपोर्ट पर भर्ती किया गया। ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 30 वर्षीय पुरुष जो अस्थमा से ग्रसित है, सांस लेने में दिक्कत व गले में दर्द की शिकायत पर8अगस्त को इमरजेंसी में आया था ,पॉजिटिव पाए जाने पर कोविड वार्ड में भर्ती कराया। ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 75 वर्षीय पुरुष 8 अगस्त को सांस लेने में दिक्कत, बुखार, खांसी व गला दर्द होने पर 8 अगस्त को इमरजेंसी में आया था, जिसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है।  उन्होंने बताया कि संबंधित कोविड पॉजिटिव मामलों के बाबत स्टेट स​र्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।

डोईवाला;

 जौलीग्रांट अस्पताल डोईवाला में तीन कोरोना पॉजिटिव डॉक्टर की पुष्टि हुई है ।इनमें से एक डॉक्टर एनेस्थीसिया के हैं ,जो यहां से पंजाब चले गए थे।वहां जाने के बाद उनकी सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और उनके संपर्क सूत्रों को क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है।

 इसके अलावा  तीसरे वर्ष के 02 मेडिसिन के छात्र हैं । जिनकी कोरोना  रिपोर्ट कल पॉजिटिव आई है। इन दोनों की भी कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है ।

जानकारी देते हुए नोडल ऑफिसर डॉक्टर संजय दास ने बताया कि दोनों मेडिसन के डॉक्टर को  क्वार्टर्स में आइसोलेट कर दिया गया है।
  बिहार से आए  हिमालयन हॉस्पिटल के ही एक छात्र की  एयरपोर्ट पर ही सैंपल टेस्ट किए जाने पर रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जिन्हें सीमा डेंटल अस्पताल में क्वॉरेंटाइन किया गया है ।

अतिरिक्त डोईवाला बाजार में स्थित एक ज्वेलर्स भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं लक्षण दिखाई देने पर 7 तारीख को उनका टेस्ट हिमालयन अस्पताल में हुआ जिसमें कल शाम रिपोर्ट आने पर वह पॉजिटिव पाए गए। जानकारी देते हुए चिकित्सा अधिकारी डॉ भंडारी ने बताया की कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है और संपर्क में आए लोगों को क्वॉरेंटाइन रहने की सलाह दी जाती है ।इसके अतिरिक्त दुकान पर काम करने वाले लोगों को क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है।

डोईवाला;


 कल रात तेज बारिश के चलते कल वाला के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में घरों में पानी ने अपनी दस्तक दी वही शेरगढ़ के निवासी  जसवीर सिंह पुत्र जुझार सिंह वार्ड नंबर 7 का कच्चा मकान तेज बारिश के चलते गिर गया।  श
 उनका कहना है कि प्रशासन द्वारा कोई भी मदद नही की जा रही हैं।


इसी प्रकार कमला देवी पत्नी पीताम्बर सिंह, वार्ड नंबर 13 मे भी एक अच्छा मकान गिर गया है। लाल तप्पर में भी एक मकान के गिरने की सूचना है।   इन सब की सूचना माजरी ग्रांट के उपप्रधान रामचंद्र ने दी।

 उन्होंने बताया कि कच्चे मकानों की लिस्ट उन्होंने  पटवारी को भी सौंपी परंतु उस पर कोई कार्यवाही नहीं की गई ।

  वही आज राज्यमंत्री  करन बोहरा बुल्लावाला के दौरे पर रहे उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी देहरादून, सिंचाई विभाग अधिकारी  को तुरंत आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए।






श्रीलंका में होने वाले आम चुनावों में अपनी पार्टी की शानदार जीत के बाद, महिंदा राजपक्षे आज नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेंगे। उनकी पार्टी और सहयोगियों ने संसद में दो-तिहाई बहुमत हासिल किया है।

शपथ ग्रहण समारोह कोलंबो के निकट एक प्राचीन बौद्ध मंदिर में आयोजित किया जाएगा। उन्हें उनके छोटे भाई गोतबया राजपक्षे द्वारा शपथ दिलाई जाएगी। हालांकि, अन्य कैबिनेट सदस्यों को अगले हफ्ते कैंडी में एक समारोह में शपथ दिलाई जाएगी।

महिंद्रा राजपक्षे ने 2006 से 2015 तक देश के राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। नवंबर राष्ट्रपति चुनावों में गोतबया की जीत के बाद उन्हें प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया था, हालांकि उनके पक्ष में संसद में बहुमत नहीं था।


उत्तराखंड में आज कोरोना पॉजिटिव के 501 मामले आए हैं।  जिसे मिलाकर उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के कुल मामले अब 9402 हो गए हैं। जिसमें सक्रिय केसों की संख्या 3283 है, आज 232 लोग ठीक हो चुके है, रिकवर मामलों की संख्या 5963 है। अभी तक 117 लोगों मृत्यु हो चुकी है, आज 6206 लोगों के सैंपल रिपोर्ट  नेगेटिव पाए गए हैं।  उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के ठीक होने की दर घटकर 63.42% हो गयी है। उत्तराखंड में कंटेनमेंट जोन बढ़कर 459 हो गये है। आज बागेश्वर से 10, चमोली से 1, चंपावत से 1, देहरादून से 38,  हरिद्वार से 172, नैनीताल से 85, पौड़ी से 9, पिथौरागढ़ से 3, रुद्रप्रयाग से 2, टिहरी से 4, उधमसिंह नगर से 171 और उत्तरकाशी से 5 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं। 11 सेना के जवान हैं, 138 व्यक्ति पहले से संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने से कोरोना के शिकार हुए है, 13 फ्लू के मरीज हैं, 333 लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री ज्ञात नहीं है, बाकी सब प्रवासी उत्तराखंड है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स संस्थान में पिछले 24 घंटे में हुई कोविड सेंपल जांच में 6 लोगों की रिपोर्ट कोविड पाॅजिटिव पाई गई है। जिनमें 1 स्थानीय व्यक्ति भी शामिल है। संस्थान की ओर से इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।
एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि टिहरी विस्थापित गली नंबर-दो, ऋषिकेश निवासी 26 वर्षीय पुरुष जो कि एम्स के कोविड वार्ड में तैनात नर्सिंग ऑफिसर हैं, वह सिर दर्द व बुखार की शिकायत होने पर  5 अगस्त को एम्स इमरजेंसी में आए, जहां उनका कोविड सेंपल लिया गया व आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया। शनिवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उन्हें कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। दूसरा मामला हरिद्वार का है। ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 35 वर्षीय महिला जो कि 5 अगस्त को स्वांस रोग,खांसी, कफ की गंभीर शिकायत पर इमरजेंसी में आई थी। जहां इसका कोविड सेंपल लिया गया, जो कि पॉजिटिव पाया गया है, लिहाजा उसे कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। तीसरा मामला मोतीबाजार, हरिद्वार निवासी 65 वर्षीय व्यक्ति जो कि पिछले एक सप्ताह से बुखार की शिकायत पर 5 अगस्त को एम्स में आया था, जहां इसका सेंपल लेकर उसे आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया, सेंपल पॉजिटिव मिलने पर कोविड वार्ड में शिफ्ट किया गया है। चंदनपुर,उत्तराखंड निवासी एक 28 वर्षीय पुरुष जो कि तपेदिक रोग से ग्रसित है व एम्स के पल्मोनरी वार्ड में भर्ती है। उक्त व्यक्ति का 5 अगस्त को सेंपल लिया गया था, जो कि पॉजिटिव आया है, इसके बाद उसे कोविड वार्ड में शिफ्ट किया गया है। बताया गया है कि उक्त व्यक्ति इसी वार्ड में भर्ती एक अन्य पेशेंट के कोविड संक्रमित अटेंडेंट के प्राइमरी कांटेक्ट में आया था। रोशनाबाद ,हरिद्वार निवासी 38 वर्षीया महिला जो कि एम्स में भर्ती एक मरीज की अटेंडेंट है, उक्त महिला का 5 अगस्त को ओपीडी में सेंपल लिया गया जो कि पॉजिटिव पाया गया है, महिला को नजदीकी कोविड केयर सेंटर में भर्ती होने को कहा गया है। हरिद्वार निवासी एक 45 वर्षीय पुरुष जिसे मूर्छित अवस्था में बीती 5 अगस्त को एम्स इमरजेंसी में लाया गया था, उक्त व्यक्ति का इससे पूर्व हरिद्वार कोविड एंटीजन टेस्ट हो चुका था,जिसमें वह पॉजिटिव पाया गया था। एम्स में 5 अगस्त को उसका कोविड सेंपल लिया व उसे कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया, उक्त व्यक्ति का एम्स में लिया गया सेंपल भी कोविड पॉजिटिव पाया गया है। उन्होंने बताया कि संबंधित कोविड पॉजिटिव मामलों के बाबत स्टेट स​र्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।

                                                                                                                                                                                                               कोविड19 के विश्वव्यापी लगातार जारी इस संक्रमणकाल में आयुर्वेद, होम्योपैथिक व योग पद्धति से उपचार कराने वाले मरीजों के लिए अच्छी खबर है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश ने लोगों की सुविधा के लिए एलोपैथी के बाद अब आयुष विभाग में भी टेलिमेडिसिन ओपीडी सुविधा शुरू कर दी है।
देश-दुनिया में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सुरक्षा कारणों से एम्स ऋषिकेश में भी जनरल ओपीडी के साथ- साथ आयुष विभाग की आयुर्वेद, होम्योपैथी व योग पद्धति की ओपीडी को भी स्थगित कर दिया गया था। जिसके बाद संस्थान में दूर-दराज क्षेत्रों के मरीजों की सुविधा के लिहाज से कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी व एलोपैथी की टेलिमेडिसिन ओपीडी संचालित की गई। इसी क्रम में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान योग, होम्योपैथी व आयुर्वेद पद्धति से उपचार कराने वाले मरीजों के लिए आयुष विभाग की ओर से चिकित्सीय परामर्श के लिए टेलिमेडिसिन वर्चुअल ओपीडी सुविधा उपलब्ध कराई गई है।                                                                                                                                                                                                                                                                        एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने बताया कि संस्थान द्वारा लॉकडाउन के दौरान गंभीर मरीजों की सुविधा के लिए ट्रॉमा एवं इमरजेंसी सुविधाएं सुचारू रूप से संचालित की गई,जिससे उपचार के अभाव में मरीजों की जीवनरक्षा की जा सके। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने बताया कि इसके अलावा लॉकडाउन के चलते उत्तराखंड के सुदूरवर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों का ट्रांसपोर्ट सुविधा के अभाव में अस्पताल तक पहुंच पाना संभव नहीं है, ऐसे में जरुरतमंद लोगों को समय पर घर बैठे ही चिकित्सकीय परामर्श मिल सके, लिहाजा एम्स संस्थान द्वारा टेलिमेडिसिन वर्चुअल ओपीडी की सुविधा उपलब्ध कराई गई है।                                                                                                                                                                                                                     इस बाबत आयुष विभागाध्यक्ष प्रो. वर्तिका सक्सेना  ने बताया कि टेलिमेडिसन ओपीडी दैनिक तौर से अपराह्न 2 बजे से सायं 6 बजे तक संचालित की जा रही है। मरीजों की परेशानी के मद्देनजर ओपीडी सुविधा सोमवार से शनिवार तक प्रत्येक दिन उपलब्ध रहेगी। जिसमें आयुर्वेद, होम्योपैथी व योग तीनों पद्धतियों के विशेषज्ञ चिकित्सक उपलब्ध रहेंगे। उन्होंने बताया कि उक्त पद्धतियों से उपचार कराने वाले मरीज आयुष विभाग द्वारा जारी टेलिमेडिसिन ओपीडी के संपर्क नंबर- 7302895044 पर नियत समय पर चिकित्सकीय परामर्श के लिए संपर्क कर सकते हैं।
Powered by Blogger.