Halloween party ideas 2015

केदारनाथ:




 वैश्विक महामारी कोरोना से सबकी रक्षा हो सभी को आरोग्यता मिले। उत्तराखंड प्रदेश सहित देश दुनिया कोरोना मुक्त हो इसी प्रार्थना के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की ओर से  ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग श्री केदारनाथ धाम में आज प्रात: रूद्राभिषेक का पाठ किया गया। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम् बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़ ने बताया कि आज प्रात: छ बजे से पौने सात बजे तक  माननीय मुख्यमंत्री जी  की ओर से धाम के मुख्य पुजारी शिवशंकर लिंग ने पूजा संपन्न की। इस दौरान रूद्र अष्टाध्यायी पाठ हुआ। स्यंभू शिवलिंग का पंचामृत अभिषेक एवं जलाभिषेक  हुआ  मानवता के कल्याण  आरोग्यता की कामना की गयी‌।
इस अवसर पर वेदपाठी यशोधर मैठाणी, देवस्थानम बोर्ड की ओर से मंदिर सुपरवाइजर यदुवीर पुष्पवान,  मृत्यंजय हीरेमठ आदि मौजूद रहे।


देर रात अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में गुरुग्राम से आए एक मां और बेटा कोविड पॉजिटिव पाए गए।
60 वर्षीया यह महिला गाजियाबाद की निवासी है, जो आज ही गुरुग्राम से ऋषिकेश आई थी । यह महिला बुखार तथा खांसी की शिकायत पर एम्स ऋषिकेश में भर्ती थी, आज उसका सैंपल लिया गया जो कि कोविड पॉजिटिव पाया गया। इस महिला के साथ उसका 31 वर्षीय पुत्र भी गुरुग्राम से आया था, जोकि एसिंप्टोमेटिक  है, इसका सैंपल भी आज कोविड पॉजिटिव पाया गया। यह दोनों ही एम्स में भर्ती हैं।



डोईवाला;



 राजीव गांधी पंचायत राज संगठन की राष्ट्रीय अध्यक्षा व पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन के आह्वान पर संगठन द्वारा महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी (मनरेगा) के तहत "काम मांगो अभियान" का कार्यक्रम पूरे प्रदेश में शुरू किया गया । इस कार्यक्रम की शुरुआत टिहरी गढ़वाल जिले के थोलदार ब्लॉक से की गई । टिहरी गढ़वाल संयोजक कुलदीप सिंह पवार के नेतृत्व में थौलधार ब्लॉक के ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने मुख्य विकास अधिकारी को ज्ञापन सौंपा जिसमें ग्राम सभा में आए प्रवासियों को मनरेगा के तहत काम देने की मांग की गई ।

 इस कार्यक्रम के तहत प्रदेश की सभी पंचायतों में प्रवासी मजदूरों के लिए काम मांगा जायेगा व जिनके जॉब कार्ड नही बने हैं उनका जॉब कार्ड बनाया जाएगा । उत्त्तराखण्ड राजीव गांधी पंचायत राज संगठन के प्रदेश संयोजक मोहित उनियाल ने बताया कि ज़ूम मीटिंग के माध्यम से संगठन के प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों का संवाद राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ किया गया व यह फैसला लिया गया कि यह कार्यक्रम पूरे प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में नियमित रूप से आयोजित किये जाएंगे । उन्होंने बताया कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी (मनरेगा) ने श्रमिकों को दस अधिकार दिये हैं । इनमें प्रत्येक परिवार को अपनी ही पंचायत में साल में 100 दिनों के रोजगार की गारंटी, रजिस्ट्रेशन के बाद परिवार के जॉब कार्ड पाने,आवेदन के पश्चात दिनाक सहित रसीद पाने,काम मांगने के 15 दिनों में 5 किमी के दायरे में काम पाने, काम उपलब्ध नही होने की स्थिति में बेरोजगारी भत्ता पाने, कार्य पूरा करने पर न्यूनतम मजदुरी पाने, कार्य स्थल पर छाया, पानी जैसी आधारभूत सुविधा होने,15 दिनों में भुगतान नही होने पर क्षतिपूर्ति भत्ता पाने, कार्य से संबंधित दस्तावेजों को देखने तथा शिकायत दर्ज करवाने के एक सप्ताह के भीतर निपटारे का हक सम्मिलित है । उन्होंने बताया कि उत्त्तराखण्ड प्रदेश में अभी 100 दिन की जगह औसत सिर्फ 42 दिन का ही रोजगार दिया गया है व काम न मिलने पर राज्य में किसी को भी बेरोजगारी भत्ता नही दिया गया है । प्रदेश में 11 लाख जॉबकार्ड धारकों में से सिर्फ 22 हज़ार लोगो को ही 100 दिन का रोजगार मिला है जो बहुत ही दुख का विषय है ।
उनियाल ने बताया कि अभियान के दौरान ग्रामीणों को इन सभी प्रावधानों के बारे में बताया जाएगा । मौके पर ही फॉर्म-6  भरवाया जाएगा तथा जिनके जॉब कार्ड नही बने हैं उनके जॉब कार्ड का आवेदन कराया जाएगा । अभियान के दौरान प्राप्त आवेदन ग्राम पंचायत को सुपुर्द किये जायेंगे तथा इनका नियमित फीडबैक लिया जाएगा । उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण की वर्तमान परिस्थितियों में देश के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीण अपने अपने गांवो में लौट रहे हैं । इन ग्रामीणों को मनरेगा के प्रावधानों से अवगत करवाया जाएगा तथा इन्हें अपने गांव में ही रहते हुए मनरेगा के तहत मजदुरी करने का अवसर दिया जाएगा । उन्होंने बताया की यूपीए सरकार द्वारा मनरेगा की शुरुआत की गई थी तथा ग्रामीणों को इसका भरपूर लाभ उठाना चाहिए । इस दौरान गांव में आये प्रवासियों की सूची भी बनाई जाएगी तथा कार्यक्रम के उपरांत भी इनसे व्यक्तिगत मुलाकात करते हुए रोजगार के लिए आवेदन कराया जाएगा ।



आज उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़कर 1303 हो गए हैं। 2:00 बजे के स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार  कोरोना संक्रमण के 31 मामले आए थे ,जबकि रात्रि 8:00 बजे के स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार 58 और मामले आए हैं । उत्तराखंड में आज कुल 89 मामले कोरोना संक्रमण के आ गए हैं ।

अब उत्तराखंड में  सक्रिय मामले 864 हो गए हैं ।
पौड़ी के एक व्यक्ति ने रिकवर किया है ।जबकि 423 लोग डिस्चार्ज किए गए हैं।

रात्रि 8:00 बजे के बुलेटिन के अनुसार हरिद्वार जनपद से सबसे अधिक मामले 21  आए हैं जिनमें से पांच लोगों ट्रैवल हिस्ट्री ज्ञात नहीं है  बाकी प्रवासी हैं ।
08 लोग पिथौरागढ़ से,  06 लोग क्रमशः चंपावत ,देहरादून  और  टिहरी से हैं।।
04  मामले बागेश्वर और नैनीताल से हैं
03 मामले उधम सिंह नगर से हैं।
इन सभी में से पांच सैंपल की टेस्टिंग आईआईपी देहरादून से प्राप्त हुई है।

देहरादून:



 जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि  मुख्यमंत्री  के दिये गये निर्देशों के अनुसार  कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम हेतु जनपद के नगर निगम देहरादून  क्षेत्रान्तर्गत सार्वजनिक स्थलों, वार्ड /सड़क/गली, व्यवसायिक प्रतिष्ठान/आवासीय क्षत्रों में नगर निगम द्वारा नियमित रूप से सेनिटाइजेशन किया जा रहा है। आज 50 वार्ड में सैनिटाईजेशन का अभियान चलाया गया,  जिसमें 56 ट्रैक्टर/टैंकर एवं 04 अग्निशमन विभाग के वाहनों के माध्यम से शहर के मुख्यमार्गों एवं वार्ड (मालसी, विजयपुर, राजपुर, धोरणखास, दून विहार, जाखन, सालावाला, आर्यनगर, डोभालवाला, विजय कालोनी, डी0एल0रोड़, रिस्पना, करनपुर, बकरालवाला, चुक्खुवाला, इन्द्रा कालोनी, किशननगर, घण्टाघर कालिका मंदिर, एम0के0पी0, तिलक रोड़, खुडबुडा, शिवाजी मार्ग, इन्द्रेश नगर, धामावाला, झण्डा मौहल्ला, यमुना कालोनी, गोविन्दगढ, श्री देव सुमन नगर, रीठा मण्डी, लक्खी बाग, रेसकोर्स उत्तर, डालनवाला उत्तर, डालन वाला पूरब, डालनवाला दक्षिण, चन्द्रर रोड़, बद्रीश कालोनी, भगत सिंह कालोनी, वाणी विहार, रैस्टकैम्प, रेसकोर्स दक्षिण, कौलागढ, बल्लूपुर, विजयपार्क, बसन्त विहार, पण्डितवाडी, इन्द्रापुरम, पटेल नगर प0, गांधीग्राम, पटेल नगर पूरब) में लगभग- 3.10 लाख लीटर सैनिटाईजर साॅल्यूशन का छिडकाव किया गया। इसी प्रकार रविवार को नगर निगम देहरादून क्षेत्रान्तर्गत शेष 50 वार्ड में अभियान चलाकर सेनिटाइजेशन का कार्य  सम्पादित किया जायेगा। इसके अतिरिक्त कल 7 जून 2020 को  जिलाधिकारी द्वारा समस्त उप जिलाधिकारियों को तहसील क्षेत्रों में तथा बनाये क्वारेंटीन सेन्टरों में सेनिटाइजेशन का अभियान चलाने के निर्देश दिये।

जिलाधिकारी ने कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए देहरादून नगर निगम क्षेत्रान्तर्गत आज किये गये लाॅक डाउन अवधि में जनमानस द्वारा किये गये सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि शनिवार एवं रविवार हेतु किये गये लाॅक डाउन अवधि में नगर निगम देहरादून क्षेत्रान्तर्गत  केवल रक्षा सेवा से जुड़े कार्मिक, चिकित्सा सेवा  एवं अन्य आवश्यक सेवा से जुड़े विभाग/कार्मिक, औद्योगिक ईकाइयां एवं उसमें कार्य कर रहे कार्मिक, दवा की दुकानें, दुध, फल-सब्जी, मांस/मच्छी की दुकानें, टिफिन सेवा से जुड़े व्यक्ति,पैट्रोल पम्प एवं गैस एजेंसी, तथा आवश्यक सेवा में योजित वाहनों को ही आवागमन हेतु अनुमत किया गया है। इसके अतिरिक्त अन्य गतिविधियां प्रतिबन्धित रहेंगी। जिलाधिकारी ने अवगत कराया है कि जनपद में बनाये गये विभिन्न कन्टेंमेंट जोन के अन्तर्गत सभी प्रकार के प्रतिष्ठान, दुकानें बन्द रहेंगी तथा उक्त स्थान (कन्टेमेंट जोन) दैनिक उपयोग की वस्तुएं एवे खाद्य सामग्री जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई जा रही हैं।

विज्ञप्ति जारी किये जाने तक वायु सेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे प्रवासी 140 व्यक्तियों को स्वास्थ्य जांच उपरान्त जनपद में प्रशासन द्वारा अधिग्रहित विभिन्न होटल में संस्थागत क्वारेंटीन किया गया है। इसी प्रकार जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 267 व्यक्तियों को गंतव्यों हेतु भेजा गया। विज्ञप्ति जारी किये जाने तक आज देहरादून रेलवे स्टेशन पर काठ गोदाम से 82 व्यक्ति पंहुचे,  तथा देहरादून से काठगोदाम हेतु  67,  एवं देहरादून से नई दिल्ली हेतु  272 व्यक्ति गये।  
जनपद के  विभिन्न चयनित स्थानों पर प्रशासन द्वारा अधिकृत 25 मोबाईल वैन के माध्यम से सस्ते  दरों पर 121.40 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया।

  जिला प्रशासन द्वारा बनाये गये विभिन्न कन्टेंमेंट जोन में दुग्ध विकास विभाग द्वारा बैराज कालोनी ए और डी ब्लाक में 25 ली0, शिवाजी नगर ऋषिकेश में 15 ली0, आशुतोष नगर ऋषिकेश में 15 ली0,  बीस बीघा कालोनी लेन न0 9ऋषिकेश में 20 ली0, आदर्श नगर जौलीग्रान्ट में 10 ली0, मोतीचूर रायवाला में 15 ली0, ई डब्लू एस कालोनी एमडीडीए मेें 15 ली0, सेवला कला में 20 ली0, नेगी तिराहा रेसकोर्स में 5 ली0, गुरूरोड पटेलनगर में 10 ली0, डांडीपुर मौहल्ला में 10 ली0 संतोवाली में 15 ली0, खुड़बुड़ा मौहला में 10,  कलिंगा कालोनी में 10 ली0, ब्रहा्रम्पुरी में 15 ली0, सर्कुलर रोड में 10 ली0, वसंत विहार फेज-2 में 15, एवं रेलेव काॅलोनी एरिया 10 ली0   कुल 245 ली0 दूध विक्रय किया गया। जिला प्रशासन की टीम द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला एवं तहसील सदर में कुल 249 निराश्रित पशुओं जिसमें 20 श्वान, 193 गौवंश एवं 36 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया। जनपद में विभिन्न विकासखण्डवार मनरेगा कार्याें के अन्तर्गत आतिथि तक 1109 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 16501 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया।
कोविड-19 के संक्रमण के  दृष्टिगत जिला आपदा परिचालन केन्द्र देहरादून में जन सहायता हेतु स्थापित कन्ट्रोलरूम में कुल 85 काॅल प्राप्त हुई हैं, जिनमें पास हेतु 75,  एवं 10 अन्य काल प्राप्त हुई।


लाॅक डाउन अवधि में सिविल सोसायटी व शासकीय विभागों द्वारा किये गये उत्कृष्ट कार्यों  के दृष्टिगत आज के कोरोना वाॅरियर-

कोरोना वाॅरियर (सिविल सोसायटी से),
देहरादून नागरिक मंच,
श्री राजीव सच्चर,
उपाध्यक्ष,
लाॅक डाउन अवधि में जरूरतमंत व्यक्तियों हेतु भोजन के पैकेट, खाद्य सामग्री के साथ ही मास्क, पीपीई किट उपलब्ध करवाकर, जिला प्रशासन का सहयोग किया।

कोरोना वाॅरियर (शासकीय विभाग से),
नगर निगम, देहरादून
लाॅक डाउन, अवधि में महापौर के निर्देशन में नगर निगम, देहरादून क्षेत्रान्तर्गत सफाई व्यवस्था एवं सेनिटाइजेशन के कार्यों का सम्पादन किया जा रहा है।

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद, रामनगर,   नैनीताल बोर्ड की परीक्षाओं की संशोधित   तिथि घोषित हो गई है 20 जून से लेकर 23 जून तक बची हुई समस्त परीक्षाएं ,  दो पारियों में संपन्न कराई जाएंगी।


पब्लिक इंटर कॉलेज के प्राचार्य श्री जितेंद्र कुमार के अनुसार हाई स्कूल की गणित  और संस्कृत  की परीक्षाएं , एवं  इंटरमीडिएट की  भूगोल, जीव विज्ञान और संस्कृत  की परीक्षाएं  उपरोक्त तिथियों पर   पूर्व की भाँती  केंद्रों पर ही होंगे. इस बार सामाजिक दूरी के साथ , मास्क और सैनिटाइजेशनके प्रयोग के साथ बोर्ड की परीक्षाएं  लेने के निर्देश दिए गए है.




डोईवाला:


शहीद दुर्गा मल्ल राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय डोईवाला में वनस्पति विज्ञान विभाग एवं राष्ट्रीय सेवा योजना महाविद्यालय इकाई के संयुक्त तत्वाधान में विश्व पर्यावरण दिवस पर एक ऑनलाइन निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया । निबंध प्रतियोगिता के आयोजन समन्वयक डॉ एसके कुडियाल ने बताया कि निबंध का शीर्षक" कोविड-19 का पर्यावरण पर प्रभाव" था। इस प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में प्राे०एस पी सती, प्रो०एम एस रावत, डॉक्टर अंजली वर्मा एवं डॉक्टर पूनम पांडे सम्मिलित थी।

इस निबंध प्रतियोगिता में 36 प्रतिभागियों ने भाग लिया जिसमें प्रथम स्थान कु० अंजली नेगी B.Sc. 6th सेमेस्टर  ,द्वितीय स्थान कु० अनामिका नौटियाल B.Sc.4th सेमेस्टर . एवं तृतीय स्थान कु० सोनाली खत्री B.Sc. 6th सेमेस्टर  को प्राप्त हुआ। निबंध में विभिन्न प्रतिभागियों ने अपने अपने विचार प्रकट किए ।अंजली नेगी बीएससी सिक्स सेमेस्टर ने लिखा कि पारिस्थितिकी प्रबंधन व संरक्षण को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

अनामिका नौटियाल फोर्थ सेमेस्टर एवं नेहा नौटियाल बीएससी फोर्थ सेमेस्टर ने लिखा कि कोविड-19 से दिल्ली में यमुना तथा कानपुर एवं वाराणसी में गंगा के प्रदूषण स्तर में महत्वपूर्ण सुधार हुआ है। सोनाली खत्री बीएससी 6 सेम ने लिखा है कि वर्तमान लॉक डॉऊन से हवा एवं पानी की शुद्धता बढ़ी है। काजल ने लिखा है कि कोरोना से हमें यह अवसर दिया है स्थानीय एवं वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था और पर्यावरणीय राजनीति को पारिस्थितिकी सम्मान और न्याय के तर्ज पर परिभाषित किया जाए। लक्ष्मी कोठियाल ने लिखा है कि कोविड 19 के लॉक डाउन से  ओजोन परत के क्षरण में  सुधार हुआ है ।

अन्य प्रतिभागियों में आकांक्षा, अर्चित गौतम, रोहन, रोशनी अंगिता, सुरजीत कौर, इत्यादि थे। प्रतियोगिता के समन्वयक डा० एस० के० कुडियाल ने बताया कि हमारी पर्यावरण एवं जीव जंतुओं के दोहन की महत्वाकांक्षा ने कोविड-19 को जन्म दिया जिससे पूरी मानवता इस समय प्रभावित है। पूरे विश्व में 17 लाख 50 हजार ज्ञात प्रजातियों में मानव श्रेष्ठ है परंतु श्रेष्ठता के बावजूद हम अपनी जिम्मेदारियों को ठीक से नहीं निभा पा रहे हैं। 2014 एवं 2019 के बीच पिछले 5 वर्षों में हमने लगभग एक करोड़ 90 हजार से ज्यादा पेड़ों को काटा है ,यह बात पर्यावरण मंत्रालय की ओर से संसद को बताई गई जानकारी के आधार पर है।

इसके अलावा वनाग्नि से कितने पेड़ों का नुकसान हुआ एवं चोरी-छिपे कितने पेड़ों को काटा गया इसका डाटा सरकार के पास भी नहीं है। अधिकतर अध्ययन यह बताते हैं कि धूप की तुलना में पेड़ों की छाया में तापमान 5 डिग्री तक कम हो जाता है। बहुत सारी गर्मी पेड़ खुद ही सोख लेते हैं और उन्हें नीचे नहीं आने देते। ग्लोबल वार्मिंग का मुख्य कारण पेड़ों का कटना भी है।

महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर डीसी नैनवाल ने पर्यावरण दिवस पर सभी विद्यार्थियों को बधाई दी एवं विद्यार्थियों को अधिक से अधिक पौधरोपण के लिए प्रेरित किया। महाविद्यालय की एनएसएस इकाई द्वारा महाविद्यालय में कोलियस के पौधों को रोपा गया।इस अवसर पर डॉ एसके कुडियाल,श्री जी एस कंडारी, जितेंद्र नेगी, शोभा देवी ,सुनील नेगी,पंकज कुमार, अर्चित गौतम, रोहन,नवनीत प्रजापति,आसिफ हसन, आकांक्षा, एवं दिव्या उपस्थित थीं।
Powered by Blogger.