Halloween party ideas 2015

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने कहा, कोविड महामारी से निपटने के लिए सरकार पूरी तरह तत्पर



देहरादून:

कोविड महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच स्वास्थ्य विभाग को राज्य लोक सेवा आयोग से 345 नए चिकित्साधिकारी मिले हैं। जल्द ही इन चिकित्सकों की तैनाती कर दी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि कोविड के बीच इन चिकित्सकों के मिलने से राज्य की स्वास्थ्य सेवाएं और भी सुदृढ़ होंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं को लगातार विस्तार प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इन चिकित्सकों के आने से कोविड महामारी से निपटने में सरकार को मदद मिलेगी।





कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने वीडियोकान्फ्रेसिंग के माध्यम से सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में आइवरमैक्टिन दवा (गर्भवती धात्री महिलाओं एवं 15 वर्ष से कम आयु के बच्चों को छोड़कर) वितरण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि विवेकानन्द नेत्रालय में 50 आक्सीजन कन्सलटेटर लगाए जांए तथा सिनर्जी, मैक्स तथा कैलाश अस्पतालों में 17-17 आईसीयू बैड बढाए जाएं। उन्होंने नगर निगम देहरादून के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया कि कल 23 अपै्रल से 25 अपै्रल तक सरकारी कार्यालयों में सेनिटाइजेशन का कार्य कराएं साथ ही बाजारों में भी 02 बजे बाद सेनिटाईजेशन का कार्य सुनिश्चित किया जाए। 

उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत मानकों का पालन करवाने, मास्क एवं सामाजिक दूरी का पालन करवाने, प्रभावी कम्यूनिटी सर्विलांस के साथ ही निरन्तर जागरूकता कार्यक्रम संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि होम आईसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों की नियमित स्वास्थ्य जानकारी प्राप्त करते रहने तथा कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम से बचाव के लिए वृहद स्तर पर टीकाकरण कार्यों में तेजी लाने तथा सैम्पलिंग बढाई जाए। उन्होंने जनमानस से अपील की है कि कोविड-19 वायरस के संक्रमण से जागरूक रहें तथा इसकी रोकथाम हेतु हेतु शासन-प्रशासन द्वारा बताये जा रहे उपायों को अपनाते हुए वायरस के साथ इस लड़ाई में अपना महत्वपूर्ण योगदान देकर स्वयं तथा आस पड़ोस में भी लोगों सजग करें। 

जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के   दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 1564 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में आतिथि तक कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 46342 हो गयी है, जिनमें कुल 34973 व्यक्ति उपचार के उपरान्त स्वस्थ हो गये हैं। वर्तमान में जनपद में 9798 व्यक्ति उपचाररत हैं। आज जांच हेतु कुल 7815 सैम्पल भेजे गए।  आज जनपद में मास्क का उपयोग ना करने एवं सामाजिक दूरी के मानकों का उल्लंघन करने पर 846 व्यक्तियों के चालान किए गए। जनपद में आज 52000 व्यक्तियों का कम्यूनिटी सर्विलांस किया गया जिसमें 80 व्यक्तियों में कोविड-19 संक्रमण सम्बन्धी लक्षण पाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग को आवश्यक कार्यवाही हेतु अवगत कराया गया। 

जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने आज प0 दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सालय का स्थलीय निरीक्षण किया  तथा कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों के उपचार हेतु स्थापित विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लिया साथ ही चिकित्सकों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। जिलाधिकारी के निर्देशों के क्रम में जनपद स्तर पर 35 कोविड-19 टैस्टिंग सेन्टर बनाए गए हैं, जिनमें चिकित्सकों की तैनाती के साथ ही सम्बन्धित टेस्टिंग सेन्टर का दूरभाष नम्बर इंगित किया गया है, इन इंगित दूरभाष नम्बरों पर आम जनता सैम्पलिंग सम्बन्धी आवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकती है।  


 


रेमेडिसेवर से संबंधित जानकारी इन नम्बरों से ले--


प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों के मरीज़ों को मिला निशुल्क चिकित्सा परामर्श



देहरादून :


उत्तराखंड सरकार द्वारा शुरू की गई ईसंजीवनी वर्चुअल ओपीडी के पहले दिन राज्य दूरस्थ क्षेत्रों के साथ ही प्रदेशभर से कुल 1295 मरीजों ने इस सेवा का लाभ उठाया. मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के निर्देशों पर  उत्तराखंड सरकार द्वारा टेलीमेडिसिन सेवा के साथ वर्चुअल ओपीडी की गुरुवार से ही शुरुआत शुरुआत की गई है. जो लोग किसी वजह से अस्पताल नहीं जा पा रहे उनके लिए ये सेवा बहुत उपयोगी है. इससे कोविड और नॉन कोविड दोनो प्रकार के मरीज़ों को लाभ होगा.


सचिव अमित नेगी ने बताया कि ईसंजीवनी टेलीमेडिसिन वर्चुअल ओपीडी के पहले दिन सुबह 10:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक निशुल्क चिकित्सा परामर्श दिया गया, जिसमें 104 टोल फ्री नंबर के जरिए 347, ई संजीवनी टेलीमेडिसिन के जरिए 405, व्हाट्सएप वॉयस कॉल के जरिए 192, व्हाट्सएप वीडियो कॉल के जरिए 27 जबकि व्हाट्सएप चैट के जरिए 324 मरीजों को निशुल्क चिकित्सा परामर्श दिया गया. 

पूरे प्रदेश से 1295 लोगों ने इस सेवा का पहले दिन लाभ उठाया.* गौरतलब है कि राज्य सरकार की इस विशेष पहल का मकसद दूरस्थ इलाक़ों में रहने वाले लोगों की एक्स्पर्ट डॉक्टर्स के जरिए चिकित्सीय परामर्श देना है. प्रदेश सरकार की इस वर्चुअल ओपीडी का लाभ व्हाट्सएप वीडियो कॉल एवं टोल फ्री हेल्पलाइन के जरिए लिया जा सकता है. राज्य सरकार द्वारा इसके लिए 104 टोल फ्री नंबर जारी किया गया है. इसके साथ ही 9412080622 व्हाट्सएप नंबर के जरिए भी जनता सेवा का लाभ ले सकती हैं.  इसके साथ ही www.esanjeevaniopd.in/register

 के माध्यम से भी इस सेवा का लाभ लिया जा सकता है. 

वर्चुअल ओपीडी रोजाना सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक जारी रहेगी. ईसंजीवनी  वर्चुअल ओपीडी के जरिए ह्रदय रोग विशेषज्ञ, ईएनटी विशेषज्ञ, नेत्र विशेषज्ञ, प्रसूति रोग विशेषज्ञ, बाल रोग विशेषज्ञ के अलावा फिजीशियन का चिकित्सकीय परामर्श लिया जा सकेगा.


यहां से प्राप्त कर सकेंगे रेमिडिसिवर --







 मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं गंगोत्री विधायक श्री गोपाल रावत के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। मुख्यमंत्री श्री तीरथ ने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की। 




मुख्यमंत्री श्री तीरथ एवं अन्य मंत्रीगणों ने कैम्प कार्यालय में 02 मिनट का मौन रखकर गंगोत्री विधायक श्री गोपाल रावत को श्रद्धांजलि अर्पित की। तत्पश्चात् मुख्यमंत्री श्री तीरथ ने जोगीवाला स्थित गोविन्द अस्पताल जाकर विधायक श्री गोपाल रावत के पार्थिव देह पर श्रद्धांजलि अर्पित की तथा शोक संतप्त परिजनों को सांत्वना प्रदान की। उन्होंने कहा कि पार्टी हित और गंगोत्री वैली के विकास के लिए किए गए उनके कार्य हमेशा याद किए जाएंगे।



डोईवाला:



 दुनिया भर में पर्यावरण के लिहाज से वर्ल्ड अर्थ डे को बहुत ही महत्व दिया जाता है। हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाने वाला अर्थ डे इस साल कोविड-19 महामारी के प्रकोप के चलते भले ही लग रहा हो कि लोगों का इस पर ध्यान नहीं गया, पर ऐसा बिलकुल नहीं है।  राजाजी पार्क रामगढ रेंज अंतर्गत ईको वन समिति द्वारा वनों, वन्यजीवों के साथ पृथ्वी को बचाने का भी संकल्प लिया है।

इस दौरान इको वन समिति के अध्यक्ष मंगल रौथाण ने कहा कि पिछले कुछ सालों में अर्थ डे मनाने की लोकप्रियता काफी बढ़ी है। और साल दर साल जैसे-जैसे जलवायु परिवर्तन के दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं, सरकार द्वारा इसके महत्व पर ज्यादा जोर दिया जाने लगा है। यह दिन एक मौका होता है कि करोड़ों लोग मिल कर पृथ्वी से संबंधित पर्यावरण की चुनौतियों जैसे कि ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण और जैवविविधता संरक्षण के लिए प्रयास करने में और जागरुक हों, और इसमें तेजी लाएं। साथ ही कहा कि कोरोना काल में अर्थडे के मौके पर पृथ्वी को फिर से अच्छी अवस्था में बहाल करना है। इसके लिए इस बार उन प्राकृतिक प्रक्रियाओं और उभरती हुई हरित तकनीकों पर ध्यान दिया जाए, जो दुनिया के पारिस्थिकी तंत्र को फिर से कायम करने में मददगार साबित हो। ओर आज हम सभी को मिलकर जलवायु परिवर्तन से निपटने के प्रयासों में प्रकृति को नुकसान पहुंचाने वाली गधिविधियों को कम करने की जरूरत है।

 


 

 मुख्य सचिव उत्तराखण्ड के प्रमुख निजी सचिव श्री एम. एल. उनियाल ने बताया कि मुख्य सचिव महोदय की अद्यावधिक जांच (सी.टी.स्कैन आदि) रिपोर्ट्स के बाद चिकित्सक द्वारा अवगत कराया गया कि मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश पिछले 10 दिन से कोरोना वायरस से इंफेक्टेड (infected) थे। इस स्थिति के ध्यान में रखते हुए मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश ने अपेक्षा की है कि पिछले 10 दिनों के अंतर्गत जो भी  अधिकारी अथवा कार्मिक उनके संपर्क में रहे हों और उन्हें यदि कोई भी लक्षण महसूस हो रहे हों, तो कृपया अपनी जांच अवश्य करा लें।


  •  निजी अस्पतालों को उनकी आवश्यकता अनुसार उपलब्ध कराएंगे जरूरी संसाधनमुख्यमंत्री ने बेहतर मैन पावर मैनेजमेंट पर बल दिया


मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने कहा है कि कोरोना के खिलाफ लङाई में जीतने के लिये सभी के समन्वित प्रयासों की जरूरत है। सरकारी और निजी सभी के उपलब्ध संसाधनों का अनुकूलतम उपयोग जरूरी है। मुख्यमंत्री ने सीएम कैम्प कार्यालय में निजी अस्पतालों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में कहा कि मैनपावर मैनेजमेंट पर विशेष ध्यान दिया जाए। इस प्रकार प्रबंधन किया जाए कि कोविड संक्रमितों के ईलाज के दौरान चिकित्सा कर्मियों के खुद संक्रमित होने पर भी व्यवस्था में व्यवधान न आए। ओपीडी के लिए लोगों को ई-संजीवनी पोर्टल का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया जाए। इसका व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। मुख्यमंत्री ने सभी निजी अस्पतालों से अनुरोध किया कि उनके यहाँ उपलब्ध बेड के कम से कम 70 प्रतिशत को कोविड के लिए आरक्षित कर दें।

 आक्सीजन, वेंटीलेटर की आवश्यकता होने पर सरकार को अवगत कराएं। सरकार इनकी उपलब्धता के लिये भरसक प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्पोर्ट्स स्टेडियम, रायपुर में बनाए जा रहे कोविड केयर सेंटर में एमबीबीएस और नर्सिंग के अंतिम वर्ष के छात्रों की सेवाएं ली जा सकती हैं।  मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी देहरादून को निर्देश दिये कि निजी अस्पतालों में सुरक्षा सुनिश्चित की जाए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सामान्य स्थिति वाले कोरोना संक्रमितों को कोविड केयर सेंटर में रखा जाए या होम ट्रीटमेंट किया जाए। ताकि गम्भीर रोगियों के लिये आने वाले समय में आक्सीजन सपोर्ट बेड व अन्य जरूरी संसाधन उपलब्ध रहें।  सचिव श्री अमित नेगी ने कहा कि निजी अस्पतालों द्वारा सरकार से पूरा सहयोग किया जा रहा है। हम इनके लगातार सम्पर्क में हैं। आने वाले समय की जरूरत को देखते हुए दवाईयों व अन्य उपकरणों, आक्सीजन की उपलब्धता का प्रयास किया जा रहा है। 

बैठक में बताया गया कि स्पोर्टस स्टेडियम रायपुर में 1000 बेड का कोविड केयर सेंटर बनाया जा रहा है। इनमें आक्सीजन सपोर्ट भी होंगे। कोरोनेशन में 100 बेड की क्षमता विकसित की जा रही है। जौलीग्रांट अस्पताल में पर्याप्त बेड उपलब्ध हैं। यहां 150 बेड और लगाए जाएंगे। एम्स ऋषिकेश में 400 बेड एक्टीवेट हो जाएंगे। महंत इन्द्रेश में 80 आईसीयू बेड हैं। राज्य सरकार इन्हें आक्सीजन उपलब्ध कराएगी। कैंट बोर्ड चिकित्सालय में 150 बेड कोविड के लिए आरक्षित कर लिये गये हैं।



सभी निजी अस्पतालों द्वारा कोविड से लङाई में हर सम्भव सहयोग के लिए आश्वस्त किया गया। 

बैठक में कैबिनेट मंत्री श्री गणेश जोशी, सचिव श्री शैलेश बगोली, प्रभारी सचिव डाॅ पंकज कुमार पाण्डेय, डीएम श्री आशीष श्रीवास्तव, हिमालयन विश्वविद्यालय, जौलीग्रांट के वीसी डाॅ विजय धस्माना सहित एम्स ऋषिकेश, सीएमआई, महंत इंद्रेश अस्पताल के प्रतिनिधि उपस्थित थे। 

 



आज टीकाकरण के 658 सत्र हुए , जिसमे 34020 लोगों का टीकाकरण हुआ। 297181 लोगों को पूर्ण रूप से और 1442026 को अब तक अर्ध टीकाकरण हो चुका है।



उत्तराखंड में आज कोरोना पॉजिटिव के 3998 रिकॉर्ड मामले आये है। जिसे मिलाकर उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के कुल मामले अब 138010 हो गए हैं। जिसमें सक्रिय मामलो की संख्या 26980 है, आज 1744 लोग ठीक हो चुके है, कुल रिकवर मामलों की संख्या 106271 है। अभी तक 1972  लोगों की मृत्यु हो चुकी है।



32448 लोगों के सैंपल रिपोर्ट नेगेटिव पाए गए हैं। अभी तक कुल 3326606 सैंपल रिपोर्ट नेगेटिव आयी है। 27247 की रिपोर्ट आनी बाकी है।

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के ठीक होने की दर घटकर 77 % हो गयी है। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के 119 कन्टेनमेंट ज़ोन  है। 








आज उत्तराखंड में 19 कोरोना संक्रमितो की मृत्यु हुई है। जिसमे से एम्स ऋषिकेश सेे 05,,महंत इंद्रेश अस्पताल से  02 , हिमालयन अस्पताल से 04 , स्वामी भूमानन्द से 01, दून मेडिकल कॉलेज से 04, अरिहंत अस्पताल से 01 , मैक्स अस्पताल देहरादून से 01 , बेस अस्पताल कोटद्वार से 01 कोरोना संक्रमित मरीज़ की मृत्यु हुई है।




Powered by Blogger.