Halloween party ideas 2015


अध्यक्ष एम हाई कोर्ट के अधिवक्ता ललित मिगलानी ने कहा समाज की हर महिला को कानून का ज्ञान होना चाहिए ताकि समाज सशक्त हो सके





उपप्रधानाचार्या ATC हरिद्वार सुश्री अरुणा भारती द्वारा अपनी पुलिस के सेवाकाल में देखे हुए महिला उत्पीड़न सम्बंधित प्रसंगों के बारे में बताते हुए लोगों को कहा कि हमारे आधुनिक समाज मे आज भी न जाने कितने स्तरों पर महिलाओं के साथ भेदभाव और उत्पीड़न होता है। क्योंकि हमारे समाज को पुरूष प्रधान समाज माना जाता है इसलिए सबसे बड़ा दायित्व भी पुरुषों का ही है कि वो अपने घर और समाज की महिलाओं को बराबरी का अधिकार देते हुए उन्हें सम्मान दें।



शिवानी गॉर्ड अध्यक्ष महिला विंग भारतीय जागरूकता समिति

पवित्र नारी सृष्टिकर्ता की सर्वोत्तम कृति होती है; वह सृष्टि के सम्पूर्ण सौन्दर्य को आत्मसात किये रहती है ।

नारी की करूणा अंतर्जगत का उच्चतम विकास है जिसके बल पर समस्त सदाचार ठहरे हुए हैं ।। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।।


[मुस्कुराकर, दर्द भूलकर,

रिश्तों में बंद थी दुनिया सारी,

हर पग को रोशन करने वाली,

वो शक्ति है एक नारी।।

महिला दिवस की शुभकामनाएंll

उमा तनेजा

संगीत शिक्षिका



आज महिलाएं हर क्षेत्र में पुरूषों के समकक्ष कार्य कर रही हैं तथा देश की प्रगति में बराबर का योगदान दे रही हैं, एक न एक दिन तो सभी को महिलाओं की प्रतिभा का लोहा मानना ही होगा। मै अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर यही कहना चाहती हूँ "हमने माना हम कभी भी आपसे बेहतर नहीं, कुछ भी नहीं हैं फिर भी आपसे कमतर नहीं, हम हिले तो गिर पड़ोगे ओ गगनचुम्बी कलश! नींव के पत्थर हैं हम राह के पत्थर नहीं"।

डॉ अर्पिता सक्सेना मेंबर




नारी दिवस बस एक दिवस, क्यों ..नारी के नाम मनाना है '

हर दिन ,हर पल, नारी उत्तम मानो, यह नया जमाना है.

 महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

अर्चना शर्मा मेंबर



महिला दिवस बहुत महत्व है और यह आज के समय में एक प्रथा बन गई है। यह समाज में महिलाओं के प्रति सम्मान, प्रशंसा, प्यार और देखभाल का उत्सव है। यह खुशी की बात है कि आजकल स्कूलों और कॉलेजों में महिला दिवस मनाया जाता है ताकि महिलाओं के लिए सम्मान और देखभाल उनके बचपन के दिनों से ही युवा पीढ़ी के मन में पैदा हो।

दीपाली शर्मा 



नारी तुम प्रेम हो, आस्था तुम हो, विश्वास हो, टूटी हुई उम्मीदों की एकमात्र आस हो, हर जन का तुम्हीं तो आधार हो, नफरत की दुनिया में मात्र तुम ही प्यार हो, उठो अपने अस्तित्व को संभालो, केवल 1 दिन ही नहीं हर दिन नारी दिवस बना लो, महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,

*नारी शक्ति है नर की, नारी ही शोभा है घर की*

रानी सिंह



, नारी पर घर ही का नही समाज को संभालने की जिम्मेदारी होती है। जहाँ नारी माँ बेटी बहु बनकर घर संभालती है वही शिक्षिका बनकर बच्चो को शिक्षित करती है 

पूजा शर्मा शिक्षिका

आप लोगों के मन में ये सवाल जरूर आया होगा कि आखिर क्यों महिला सशक्तिकरण के मुद्दे को विश्व के कई संगठनों द्वारा इतना महत्व दिया जाता है. मेरे विचार से कुछ जवाब शायद यह है कि महिला सशक्तिकरण का मुख्य लाभ समाज से जुड़ा हुआ है. अगर हम लोगों को अपने देश को एक शक्तिशाली देश बनाना है, तो उसके लिए हम लोगों को समाज की महिला को भी शक्तिशाली बनाने की जरूरत है।


सीमा कौशिक

घरेलू हिंसा एक ऐसी चीज है, जो कि किसी भी महिला के साथ हो सकती है. ये जरूरी नहीं है कि घरेलू हिंसा केवल अनपढ़ महिलाओं के साथ ही होती है. शिक्षित महिलाएं भी इस तरह की हिंसा का शिकार होती हैं. बस फर्क इतना होता है कि जहां पढ़ी-लिखी महिलाएं इसके खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत रखती हैं. वहीं अनपढ महिलाएं ऐसी हिंसा के विरुद्ध अपनी आवाज उठाने से डरती हैं।

ऐसे में सबका कर्तव्य है कि हम उन्हे जागरूक करें।

वर्ष श्रीवास्तव मेंबर

आज के युग मे हर महिला को मजबूत शिक्षित और जागरूक होना जरूरी है समाज मे महिला की भूमिका पुरषो से ज्यादा है। उनकी जिम्मेदारी भी ज्यादा है। जहाँ कानून महिलाओं को सुरक्षा मोहिया कराता है। वही सरकार को भी चाहिये की महिला सुरक्षा कानून को ओर मजबूती के साथ लागू कराया जाय ताकि महिला संबंधी अपराधों पर अंकुश लग सके नेहा मित्तल मबेर

हम यदि मानसिकता को बदले ,हम यदि क़ानून में सुद्रद परिवर्तन करे तो निश्चित रूप से इस महिला सशक्तिकरण के सपने को हम साकार कर पाएँगे आज भी  कुछ एसे राज्य है  जहाँ पर महिलाओं का उतना  विकास नहीं है वहाँ पर विकास होने की आवश्यकता हैं।जब एक  लड़का  होता है है तो एक ही पुरुष शिक्षित होता है परंतु जब एक लड़की शिक्षित होती है तो पूरी पीड़ी शिक्षित होती है ।जब शिक्षा पर समान अधिकार होगा तभी इस देश की महिलायें पूर्ण रूप से सशक्त होंगी और अपने आपको मज़बूत बनायेंगी।

अंजलि महेश्वरी


To all the incredible women in the world, shine on, not just today but every single day. Happy Women's Day.

Rupam jhori member



Post a Comment

Powered by Blogger.