Halloween party ideas 2015

                    एम्स ऋषिकेश में गुरु पूर्णिमा पर गुरुओं को किया सम्मानित

                          

                                                                                                                




      स्वास्थ्य सेवा से राष्ट्रीय सेवा के लिए समर्पित अखिल भारतीय अनुषांगिक संगठन, नेशनल मेडिकोज ऑर्गेनाइजेशन (एनएमओ) की ओर से शनिवार को गुरु पू​र्णिमा पर्व पर एम्स ऋषिकेश में कार्यक्रम आयोजित किया गया। बताया गया कि कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य हमारी सनातन पद्धति में चली आ रही गुरु- शिष्य परंपरा का जीवंत रखना व साथ ही हम किस तरह से अपने गुरुओं से दक्षता हासिल कर आगे बढ़ाना व जीवन में गुरुओं द्वारा दिए गए आशीर्वाद को अपनी आने वाली पीढ़ी तक कैसे पहुंचाएं, इसका संदेश दिया गया।                                                                             

    शनिवार को संस्थान में आयोजित कार्यक्रम में एनएमओ, उत्तराखंड के प्रदेश संरक्षक व निदेशक एम्स प्रोफेसर रवि कांत जी द्वारा संगठन में कार्य कर रहे छात्र-छात्राओं को गुरु पूर्णिमा पर्व पर आशीर्वाद दिया गया। इस दौरान निदेशक एम्स ने उन्हें जीवन में उन्नति व उच्च लक्ष्य प्राप्ति का संदेश दिया।                                                                                                                                                                                  एनएमओ, उत्तराखंड के प्रदेश सचिव डॉ. विनोद ने बताया कि हर वर्ष संगठन द्वारा प्रदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में गुरु पूर्णिमा पर्व पर कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है, जिसमें संगठन में कार्य कर रहे गुरुओं को विद्यार्थियों द्वारा सम्मानित किया जाता है। उन्होंने बताया कि नेशनल मेडिकोज आर्गेनाइजेशन NMO द्वारा आयोजित कार्यक्रम में सभी सम्मानित गुरुओं को अंगवस्त्र ओढ़ाकर तथा तुलसी व अन्य पौधे भेंटकर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर एनएमओ, एम्स ऋषिकेश शाखा की अध्यक्ष डॉ. मीनाक्षी धर ने विद्यार्थियों को गुरु पर्व की बधाई दी व इस अवसर पर गुरुजनों के लिए सम्मान कार्यक्रम आयोजित करने के लिए उनकी प्रशंसा की। 

     गुरु पर्व पर आयोजित कार्यक्रम में एम्स, ऋषिकेश के संकायाध्यक्ष प्रोफेसर मनोज गुप्ता, सीमा डेंटल कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. हिमांशु ऐरन,संस्थान के मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रो. विनय कुमार बस्तिया, डॉ. नवनीत मग्गो, डॉ. पंकज शर्मा, डॉ. अनुभा अग्रवाल ,डॉ. पूजा भदौरिया समेत अन्य चिकित्सकों को सम्मानित किया गया। 

                                                                                                                                                                           इस अवसर पर एनएमओ, एम्स ऋषिकेश शाखा की आयोजन समिति के सदस्य डॉ. रविराज, डॉक्टर अजय पाल, कमलदीप, कौशल, प्रतीक, प्रकाश, संकेत, दिव्यांश,नवीन, मोहित, अभिषेक, करण, प्रशांत, अनिकेत, तेजप्रकाश ,सुनील, विकास, पीयूष, सिद्धांत,रिफदु  आदि मौजूद थे।


                                                                                                                                                                                                                      अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में एडवांस ट्रॉमा लाइफ सपोर्ट (ए टी एल एस) एवं एडवांस ट्रॉमा केयर फॉर नर्सेस (ए टी सी एन) ट्रेनिग वर्कशॉप के दूसरे दिन विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों को आपात स्थिति में जरुरी उपचार व सावधानियों के बारे में व्याख्यान दिए।  इस अवसर पर निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि एटीएलएस व एटीसीएन विषयों में हर चिकित्सक व नर्सिंग ऑफिसर्स की दक्षता जरुरी है। जिससे आपात स्थिति में मरीज की जीवन रक्षा की जा सके। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने सभी चिकित्सकों से ध्यानपूर्वक प्रशिक्षण में प्रतिभाग करने और इन प्रशिक्षण कार्यशालाओं में शिरकत कर दक्षता हासिल करने के लिए अन्य लोगों को भी प्रेरित करने का आह्वान किया। उन्होंने इससे हम दुर्घटनाओं से होने वाली मौतों को कम कर सकते हैं।     शनिवार को कार्यशाला के दूसरे दिन एम्स, रायबरेली के डॉ. हर्षित अग्रवाल ने जले हुए मरीजों के उपचार विषय पर व्याख्यान दिया, साथ ही प्रतिभागियों को मरीज को घटनास्थल से अस्पताल के लिए सुरक्षित रेफरल प्रक्रिया की विस्तारपूर्वक जानकारी दी।                                                                           

एम्स ऋषिकेश के न्यूरो सर्जरी विभाग के चिकित्सक डॉ. जितेंद्र चतुर्वेदी ने दुर्घटना में सिर पर लगने वाली चोटों में प्राथमिक उपचार के तरीके बताए, साथ ही रीढ़ की हड्डी से संबंधित चोटों के बारे में बताया।                                     एम्स ऋषिकेश की स्त्री रोग विभाग की डॉक्टर लतिका चावला ने प्रतिभागी चिकित्सकों व नर्सिंग ऑफिसरों को गर्भवती महिलाओं को लगने वाली चोटों एवं इससे जच्चा- बच्चा को सुरक्षित रखने की जानकारी दी।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                      इस अवसर पर ट्रॉमा सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रो. कमर आजम, कोर्स डायरेक्टर डा. मधुर उनियाल,                         कोर्स इंचार्ज एवं ट्रॉमा सर्जरी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डा. अजय कुमार, डा. नीरज कुमार, डा. दिवाकर गोयल, नर्सिंग फैकल्टी महेश, नर्सिंग ऑफिसर चंदू, जोमन, अरुण आदि मौजूद थे।

Post a Comment

Powered by Blogger.