Halloween party ideas 2015

 मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने शहीद मेजर विवेक गुप्ता प्राथमिक विद्यालय कांवली, देहरादून में डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में  प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री ने डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।



मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी, शिक्षाविद, चिंतक और जनसंघ के संस्थापक थे। वे मानवता के उपासक एवं सिद्धांतवादी थे। डॉ. मुखर्जी देश के  प्रथम उद्योग मंत्री थे। राष्ट्रीय हितों की प्रतिबद्धता को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता मानने के कारण उन्होंने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया। बहुत कम उम्र में वे कलकत्ता विश्वविद्यालय के कुलपति बन गए थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ॰ मुखर्जी जम्मू कश्मीर को भारत का पूर्ण और अभिन्न अंग बनाना चाहते थे। जम्मू कश्मीर का अलग झण्डा और अलग संविधान था। धारा-370 को समाप्त करने की उन्होंने वकालत की। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 एवं 35A समाप्त कर उनके सपने को साकार किया। आज जम्मू और कश्मीर विकास की मुख्य धारा से जुड़े हैं।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर शहीद मेजर विवेक गुप्ता के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।इस अवसर पर विधायक श्री हरवंश कपूर, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता श्री विनय गोयल, पार्षद श्रीमती अर्चना पुंडीर, श्री सुभम नेगी, श्री अमित कपूर, श्री दिनेश रावत आदि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने किया ‘‘कुम्भः आस्था विरासत और विज्ञान‘‘ काफी टेबलबुक का विमोचन 



मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने बुधवार को सचिवालय में कुंभ मेले के महत्व पर आधारित कॉफ़ी टेबल बुक ‘‘कुंभः आस्था, विरासत और विज्ञान‘‘ का विमोचन किया। इस कॉफी टेबल बुक में कुंभ से सम्बंधित फोटोग्राफ्स, कुंभ की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि, कुंभ का विज्ञान आदि विषयों का समावेश किया गया है। 

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह ने कहा कि कुम्भ मेला भारत की सांस्कृतिक विरासत और आस्था का प्रतीक है। कुम्भ मेला का महत्व सर्वकालिक है। उन्होंने कहा कि कुम्भ से संबंधित इस प्रकार की रचना के प्रकाशन से कुम्भ के सांस्कृतिक एवं पौराणिकता का भी प्रचार-प्रसार होगा। उन्होंने इसके लिये प्रकाशक मंडल के प्रयासो की भी सराहना की।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री सुबोध उनियाल, मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार श्री शत्रुघ्न सिंह, सलाहकार डॉ. आरबीएस रावत, आईजी कुम्भ मेला श्री संजय गुंज्याल, यूकोस्ट के महानिदेशक डॉ. राजेन्द्र डोभाल, कुम्भ मेला नोडल अधिकारी (मीडिया) मनोज श्रीवास्तव, पुस्तक के संपादक कुँवर राज़ अस्थाना आदि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज  (यूपीईएस) ‘स्कूल फॉर लाइफ’ की सोशल इंटर्नशिप ‘सृजन’ का वर्चुअल शुभारम्भ किया। 




मुख्यमंत्री ने कहा कि अस्तित्व में आने से ही यूपीईएस समाज के लिए अपने दायित्वों के प्रति संवेदनशील रहा है। छात्रों को शैक्षणिक गतिविधियों के साथ ही सांस्कृतिक और गैर शैक्षणिक गतिविधियों के क्षेत्र में भी अनेक अवसर प्रदान करता रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नीति एवं मौलिक शिक्षा हमारी सांस्कृतिक विरासत की देन है। सृजन इंटर्नशिप हमारी भावी पीढ़ी को देश व समाज की उन्नति के लिए रचनात्मकता एवं सकारात्मकता में सहयोग देगी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह इंटर्नशिप छात्रों के जीवन को बेहतर बनाने में सहायक होगी। 

इस अवसर पर वर्चुअल माध्यम से कुलाधिपति यूपीईएस डॉ. जे.एस. चोपड़ा, कुलपति डॉ. सुनील राय, मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी श्री जे. सुन्द्रियाल आदि उपस्थित थे।

Post a Comment

Powered by Blogger.