Halloween party ideas 2015

 पर्वतीय जनपदों में SDRF द्वारा कोविड सुरक्षा के दृष्टिगत 20 गावों को गोद लिया गया


  SDRF उत्तराखंड पुलिस  द्वारा कोविड से जंग में  नित नए अध्याय जोड़े जा रहे, जवान पूर्ण निष्ठा और  समर्पण से मिशन हौसला को ऊर्जा दे रहे है, एक नए अभियान के तहत SDRF उत्तराखंड पुलिस पर्वतीय जनपदों की सभी  SDRF पोस्टों के अपने के निकटम अति प्रभावित  किसी एक बड़े गाँव को कोविड से सुरक्षा हेतु गोद लेगी  उत्तराखंड पुलिस के मिशनहौसला के अंतर्गत इस अभियान को  SDRF का सुरक्षा कवच  कहा जा रहा है।

 आज  श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल पुलिस उपमहानिरीक्षक महोदय के दिशा निर्देशन  एवमं  श्री नवनीत भुल्लर सेनानायक SDRF के नेतृत्व में इस अभियान को   वर्चुअल रूप से  हरि झंडी दी। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य पर्वतीय जनपदों के वे गाँव जो जनसँख्या ओर क्षेत्रफल के साथ ही  कोविड से अधिक  प्रभावित है  के नागरिकों को सहायता प्रदान करना है प्रथम कड़ी के रूप में राज्य आपदा प्रतिवादन बल (SDRF) द्वारा   20 गावों जो गोद लिया जा रहा है.

    मिशन की  रूप रेखा के तहत  प्रत्येक गाँव में SDRF के 2 जवान नियुक्त रहेंगे, जो ग्रामवासियों को कोविड से अवेर्नेश करने के साथ ही,  जरूरतमंद को मास्क सेनेटाइज भी वितरित करेंगे, प्रतिदिन गाँव की रिपोर्ट कंट्रोल को प्रेषित करेंगे, जवानों के पास आवश्यकता होने पर आक्सीजन सिलेंडर विद फ्लोमीटर  की भी सुविधा है, जवान कोविड से आइसोलेट हुए ग्रामीणों को घर से बाहर न आने की भी  हिदायत देंगे साथ ही प्रतिदिन योगा प्राणायाम भी कराएंगे।  SDRF टीम को पर्याप्त कोविड  मेडिसिन  किट भी उपलब्ध करायी गयी है जो आवश्यक होने पर जरूरतमंद को प्रदान की जाएगी।

 वर्तमान में कुमाऊँ मंडल से 06 एवमं  गढ़वाल मंडल से 14 गावों को चयनित किया गया है जिस क्रम में जनपद  पिथौरागढ़ में  ग्राम - खोलिया गॉंव, दौला गॉंव,/ बागेश्वर में ग्राम- ऐठाण गॉंव,/अल्मोड़ा में ग्राम - बलटा गॉंव, माठ,/चम्पावत में ग्राम- ज्ञानखेड़ा ,/रुद्रप्रयाग में  ग्राम - रामपुर, कलना, जनपद /पौड़ी में ग्राम - गोदी दुगड्डा, सिरौ, स्वीत गॉंव, डूंगरी पंथ , /जनपद टिहरी , ग्राम - कुटठा ,/ जनपद उत्तरकाशी , ग्राम -       गणेशपुर, नेताला, क्यार्का, नगाण गॉंव,/जनपद चमोली में ग्राम- रामणा, बोला, सीगधार, खडेधार सम्मलित है।

इस अभियान से पूर्व भी SDRF द्वारा कोविड से प्रभावित जनमानस की हर सम्भव सहायता की जा रही है जिस क्रम  में कोविड आएशोलेशन में रह रहे संक्रमितों और सम्भावना के तहत आइसोलेट हुए हजारो लोगों के लिए SDRF उत्तराखंड पुलिस का कंट्रोल रूम से लगातार संपर्क किया जाता है  साथ ही  कॉन्ट्रेक्ट ट्रेसिंग , आएशोलेशन पूछताज सेंटर, हाई रिस्क ओर लो रिस्क पूछताज सेंटर , होम टू होम मेडिकल किट वितरण जैसे हेल्पलाइन  डेस्क तैयार किये गए हैं।







     SDRF कंट्रोल रूम को प्रतिदिन ही हजारों की संख्या में आइसोलेट हुए और संक्रमित हुये व्यक्तियों की जानकारी प्राप्त होती है, जिसके पश्चात SDRF कंट्रोल रूम से सभी को व्यक्तिगत रूप से फोनकॉल की जाती है, ओर  विशेषज्ञों द्वारा  तैयार प्रश्नोतरी के पश्चात होम टू होम टीम द्वारा सम्बंधित  पेशेंट को  चाही गयी मदद पहुंचाई जाती है.

 SDRF उत्तराखंड पुलिस द्वारा  प्रतिदिन ही लगभग 5 हजार से अधिक कॉल  आइसोलेट हुए व्यक्तियों  को किये जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त एक अन्य टीम हाई रिस्क ओर लो रिस्क आइसोलेट हुए व्यक्तियों की पहचान कर  कोविड प्रसार की कड़ी को तोड़ने के प्रयास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है .

इसके अतिरिक्त SDRF द्वारा मैदानी  जनपदों में   होम तो होम  कोविड मेडिसिन किट वितरण भी  किया जा रहा है. साथ ही  कोविड संक्रमित  लावारिस शवों एवम वे परिजन जो शव दाह संस्कार में सहायता चाह रहे है ,में भी  SDRF  द्वारा दाह संस्कार किया जा रहा है जिस हेतु जनपद स्तर में SDRF की टीमें नियुक्त की गई है।

Post a Comment

Powered by Blogger.