Halloween party ideas 2015

रूद्रप्रयाग:
भूपेन्द्र भण्डारी


 उत्तराखण्ड के पहाड़ी जिलों में कोरोना से अछूता रूद्रप्रयाग जिले में भी कोराना ने अपने पांव पसारने आरम्भ कर दिए हैं। शनिवार शाम ग्रीन जोन रूद्रप्रयाग में कोरोना पाॅजिटिव तीन मामले आने से स्वास्थ्य विभाग के साथ पूरे जिले में हड़कंप मच गया।
 प्रवासियों के वापस आने से जहाँ पहले से ही कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ने की आशंकी थी वहीं शनिवार की शाम तीन लोगों की रिपोर्ट कोरोना पाॅजटिव पाये जाने से इस बात पर मुहर लग गई हैं कि आने वाले दिनों में बाहर से आये प्रवासियों से और भी मुश्किलें बढ़ सकती है।

स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना पाॅजिटिव तीनों व्यक्तियों को राजकीय माधवाश्रम शंकराचार्य के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया है और इनके उपचार में जुट गई है। जबकि स्वास्थ्य महकमा तीनों व्यक्तियों की ट्रैवल हिस्ट्री को भी खंगालने में जुट गया है।

अब तक ग्रीन जोन की श्रेणी में सुमार रूद्रप्रयाग जिले में कोरोना पाॅजिटिव आने के बाद से ही स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ पुलिस महकमा भी हरकत में आ गया है।

आपको बताते चले कि अब तक मुम्बई, महाराष्ट्र, दिल्ली, चंढ़ीगढ, पंजाब, हरियाणा सहित देश के विभिन्न हिस्सों से 16 हजार से अधिक प्रवासी जिले में आ चुके हैं जिनमें करीब 7 हजार लोग होम क्वारानटीन किए हुए हैं।

 जबकि 3 सौ से अधिक होटलों में क्वारानटाइन हैं। ऐसे में अब जहाँ पुलिस कोरोना पाॅजिटिवों की ट्रैवल हिस्ट्री को खंगाल रही है वहीं कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए और अधिक गम्भीरता से मुस्तैद हो गई हैं।

पर्वतीय जिलों में अब तक एक मात्र रूद्रप्रयाग जिला ही था जो कोरोना से अछूता था लेकिन यहाँ आए तीन मामलों से जहाँ सरकारी तंत्र में हलचल मची है वहीं लोगों में भी भय का माहौल की स्थिति है। ऐसे में चाहिए कि स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन, पुलिस के साथ-साथ आम नागरिकों को कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने में एक जुटता के साथ नियमों का पालन कर कोरोना के खिलाफ अहम भूमिका निभानी चाहिए।  

Post a comment

Powered by Blogger.