Halloween party ideas 2015



आज पूरे देश में ईद-उल-फितर मनाई जा रही है। रमजान के महीने की समाप्ति का  त्योहार जम्मू और कश्मीर और केरल में कल मनाया गया।
राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने ईद उल फितर के अवसर पर लोगों को शुभकामनाएं दी हैं।राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने अपने संदेश में कहा, त्योहार प्रेम, शांति, भाईचारे और सद्भाव की अभिव्यक्ति है।  उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वे सुरक्षित रहने और चुनौती से उबरने के लिए सामाजिक दूरियों के मानदंडों और अन्य सभी सावधानियों का पालन करने का संकल्प लें। श्री कोविंद ने आशा व्यक्त की कि यह ईद-उल-फितर दुनिया में दया, दान और आशा के सार्वभौमिक मूल्यों की शुरूआत करेगा।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने अपने संदेश में कहा, त्योहार समाज में दया, दान और उदारता की भावना को मजबूत करता है और यह परिवारों और समुदायों के एक साथ आने का अवसर है।
उपराष्ट्रपति ने उम्मीद जताई कि ईद-उल-फितर से जुड़े महान आदर्श लोगों के जीवन में स्वास्थ्य, शांति, समृद्धि और सद्भाव में प्रवेश करेंगे।

अपने संदेश में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आशा व्यक्त की कि यह विशेष अवसर करुणा, भाईचारे और सद्भाव की भावना को बढ़ावा देता है। श्री मोदी ने सभी के स्वस्थ और समृद्ध होने की कामना की।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेशवासियों, विशेषतौर पर राज्य के मुस्लिम नागरिकों को ईद-उल-फितर के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ईद-उल-फितर आपसी भाईचारे और सौहार्द्र का संदेश लेकर आता है। खुशियों का यह त्यौहार सामाजिक एकता को मजबूत करने के साथ ही आपसी भाईचारे की भावना को बढ़ाता है।    मुख्यमंत्री ने सभी प्रदेशवासियों से घर पर रहकर ही इबादत करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करते हुए त्यौहार को मनाने की अपील की है।



दिल्ली जामा मस्जिद के शाही इमाम सैय्यद अहमद बुखारी ने लोगों से अपील की है कि वे मस्जिदों में नमाज अदा करने और महामारी को देखते हुए नमाज अदा न करें। शाही इमाम ने लोगों से सावधान रहने और शुभ त्योहार मनाने के दौरान सामाजिक दूरी बनाए रखने का आग्रह किया है।

उन्होंने कहा कि लोगों को हाथ मिलाने और एक-दूसरे को गले लगाने से बचना चाहिए। सभी संप्रदायों के कई अन्य उलेमाओं ने पहले ही मुसलमानों से घर पर ही नमाज अदा करने की अपील की है।

यह संभवत: पहला मौका है जब देश भर में मस्जिदों और ईदगाहों पर सामूहिक नमाज नहीं होगी क्योंकि कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए सभी प्रकार की धार्मिक सभाओं को प्रतिबंधित किया गया है।

Post a comment

Powered by Blogger.