Halloween party ideas 2015

 आपने कभी सोचा भी नही होगा कि अपने धर्म के साथ साथ किस प्रकार अपने समाज में नशे के खिलाफ अभियान छेड़ा जाए।किस प्रकार अपने बच्चो को इस बीमारी से दूर रहने और इसको समाप्त करने की पहल की जाए। उत्तर प्रदेश के नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के सदस्यों ने अमृत कलश के साथ हज़ारों बच्चो को आजीवन नशा मुक्त रहने का संकल्प ही नही दिलाया अपितु अनूठा तरीका निकाला है समाज को जाग्रत करने का।





- शिव मन्दिर, खदरा में पांच सौ से अधिक रामभक्तों व बच्चों ने आजीवन नशामुक्त रहने का लिया संकल्प

    लखनऊ:


सनातन धर्म जनजागरण सेवा समिति, खदरा (लखनऊ) के तत्वावधान में आयोजित श्रीराम कथा में दूसरे दिन पूज्य श्री रमेश भाई जी शुक्ल के मुखारविंद से भक्तजनों ने सुंदर कांड का श्रवण किया। इस कथा में आरती के पहले पांच सौ से अधिक राम भक्तों व बच्चों को जीवन पर्यंत नशामुक्त रहने का संकल्प लिया।

    "नशामुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल का" के जिला प्रभारी अनिल कुमार अग्रवाल इस श्रीराम कथा के मुख्य यजमान हैं। उन्होंने लोगों को नशे से होने वाली क्षति के बारे में विस्तृत ढंग से बताया। इसके पश्चात बीकेटी ब्लॉक प्रभारी नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान ने श्रद्धालुओं को जीवन में कभी भी किसी प्रकार का नशा ना करने का संकल्प कराया। नागेन्द्र ने बच्चों और युवाओं से कहा कि वे अपने दोस्त द्वारा दी गयी गुटखे की पहली चुटकी, सिगरेट की पहली फूंक और दारू की पहली घूंट से सावधान रहें। वे ऐसे दोस्तों से सदैव दूर रहें। हर व्यक्ति को पहला नशा उसका कोई दोस्त ही मुफ्त में करवाता है। फिर व्यक्ति नशे का लती बन जाता है।

  कार्यक्रम में आयोजन समिति के संस्थापक राजेश शुक्ला एडवोकेट, महामंत्री राकेश अवस्थी व क्षेत्रीय पार्षद कुमकुम राजपूत आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।


नागेंद्र बहादुर सिंह चौहान ,पत्रकार एवम नशा मुक्ति

अभियान के सदस्य ने बताया कि 

मैंने पिछले तीन महीने में नशामुक्त समाज आंदोलन-अभियान कौशल का  के तहत दर्जनों स्कूल/कॉलेज जा चुका हूं। तकरीबन 10 हजार बच्चों से सीधा सम्वाद स्थापित कर चुका हूं। 

   जैसा कि सर्व विदित है कि मैं अभियान के जिला प्रभारी श्री अनिल कुमार अग्रवाल के मार्गदर्शन में नशामुक्ति का अमृत कलश लेकर बीकेटी के गांव-गांव में घूम रहा हूँ। इसमें मेरा जिला प्रभारी के सहयोगी अभिषेक अवस्थी बड़ा सहयोग कर रहे हैं।

    मैं दावे से कह सकता हूँ कि मेरे क्षेत्र के बच्चे नशे को लेकर बहुत ही संवेदनशील हैं। वे अपने कैरियर के साथ समाज और राष्ट्र के बारे में भी सोचते हैं। उम्मीद करता हूँ कि यह पीढ़ी आजीवन नशामुक्त रहेगी। साथ ही, देश को बहुत आगे ले जाएगी।

 

Post a Comment

www.satyawani.com @ 2016 All rights reserved

www.satyawani.com @ 2016 All rights reserved
Powered by Blogger.