Halloween party ideas 2015

 

   ऋषिकेश/डोईवाला :




 क्षेत्र के ग्रामीण क्षेत्र के श्यामपुर ,छिददरवाला ,

रायवाला क्षेत्रों मे धान की बम्पर पैदावार होती थी ।  लेकिन इस बार गम्भीर बीमारी ने धान की  फसल  चौपट कर दी है।   गंभीर बीमारी की चपेट में आई धान की फसल से किसान बर्बाद होने के कगार पर पहुंच गये हैं । किसानों ने धान की फसल मे कही दफा दवाई का छिडकाव किया वह भी  बेअसर रहा है । 

 कई किसानों ने परेशान होकर अपनी धान की फसल नष्ट कर दी है।  जहां क्षेत्र मे  सैकड़ों बीघा जमीन मे बोई गयी धान की फसल बर्बाद हो गयी है । 

छिददरवाला क्षेत्र   किसान प्रेमा देवी राणा,बिमला देवी रावत,आनंद सिंह नेगी ने बताया की धान की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गयी है । जहां अब  धान मे लगी बीमारी के कारण फसल पर  अब टैक्टर चलाना पड रहा है । वहीं ग्राम प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष शोबन सिंह कैन्तुरा ने कहा की धान की  फसल मे बीमारी लगने किसानों को बहुत नुकसान हुआ है । उन्होंने सरकार से किसानों को मुआवजा देने की माँग की है ।


दूसरी और डोईवाला के खेरी गांव के रविन्द्र सिंह किसान ने आठ बीघा धान की फसल को बीमारी के चलते ट्रेक्टर से जोत दिया।

और छिद्दरवाला में  सतनाम सिंह की 60-70 बीघा जमीन में धान की फसल चौपट हो गयी।

Disease in paddy uttarakhand



उनका कहना है कि विभागीय अधिकारी को सूचित करने के बावजूद भी वे नही पंहुचे।  किसानों ने फसल के उचित मुआवज़े की मांग की है।

उनका यह भी कहना है कि 1 बीघा जमीन पर किसान लगभग 4000 का खर्च कर देता है जबकि मुआवजा मात्र 900 रु बीघा तक मिलता है। बावजूद इसके रोग लगने के बाद, फसल को बहाने का खर्च अलग है, ऐसे में उन्हें उचित मुआवजा मिलना चाहिए।





Post a Comment

Powered by Blogger.