Halloween party ideas 2015

 आज विश्व अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने WHO myYoga ऐप का उद्घाटन करते हुए राष्ट्र को संबोधित किया उन्होंने कहा कि योग हमारे जीवन में सकारात्मकता को जन्म देता है.

 


 अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पीएम मोदी ने संबोधन दिया कि  योग फॉर वैलनेस ने लोगों में उत्साह बढ़ाया है । दुनिया में योग के नए साधन बने हैं । दुनिया में योग से प्रेम बढ़ा है। योग व्यायाम से अच्छा स्वास्थ्य मिलता है । सुखी जीवन का रास्ता दिखाता है, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस। इस बार की थीम 'योगा फॉर वेल्नेस' ने लोगों में योग के प्रति लगाव को और भी बढ़ाया है। उन्होंने कहा, 'हमारे ऋषि मुनियों ने कहा था कि सुख-दुख में समान भाव रखें। उन्होंने संयम को योग का पैरामीटर बनाया था। आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की एक किरण बना हुआ है। आज वैश्विक महामारी ने इसे साबित कर दिखाया है। भारत समेत कितने ही देशों ने महामारी के बड़े संकट का सामना किया है। दुनिया के बड़े देशों के लिए योग दिवस उनका सांस्कृतिक पर्व नहीं है, फिर भी वे सब इसका अनुसरण कर रहे हैं। इस मुश्किल समय में योग के प्रति लोगों का लगाव बढ़ा है। योग हमारे लिए सुरक्षा कवच का काम कर रहा है।' योग का पहला पर्याय संयम और अनुशासन को कहा गया है। उसे लोग अपने जीवन में उतारने का प्रयास भी कर रहे हैं। कोरोना के अदृश्य वायरस ने जब दुनिया में दस्तक दी थी, तब कोई भी देश मानसिक रूप से तैयार नहीं था।

 ऐसे में योग आत्मबल का बड़ा माध्यम बना। योग ने लोगों में भरोसा बढ़ाया कि हम इस बीमारी से लड़ सकते हैं। जब मैं फ्रंट लाइन वर्कर से बात करता हूं, तो वे बताते हैं कि उन्होंने कोरोना से लड़ाई में योग को भी शामिल किया। अस्पतालों से तस्वीरें आती हैं, जहां मरीज योग कर रहे हैं। अनुलोम-विलोम से श्वसन तंत्र को कितनी ताकत मिलती है, यह दुनिया के विशेषज्ञ बता रहे हैं। 

तमिल संत तिरुवल्लुवर कहते थे कि रोग की जड़ तक जाओ और उसका इलाज करो। आज मेडिकल साइंस ​​​​​उपचार के साथ-साथ हीलिंग प्रोसेस को भी उतना ही महत्व देता है। योग पर दुनियाभर में साइंटिफिक रिसर्च की जा रही हैं। योग से हमारी इम्यूनिटी पर पड़ने वाले सकारात्मक प्रभाव पर भी रिसर्च की जा रही है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत में होगा साथ मिलकर बड़ा कदम उठाया है । योग पर अलग-अलग भाषा में सामग्री उपलब्ध होगी। सबको साथ लेकर चलना ही योग है। विश्व योग दिवस 2021 पर, आयुष मंत्रालय ने WHO myYoga ऐप लॉन्च किया है जिसका उद्देश्य ऑडियो और वीडियो क्लिप की मदद से उपयोगकर्ताओं को योग के बारे में शिक्षित करना है। इस ऐप को आयुष मंत्रालय और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के सहयोग से लॉन्च किया गया है।

ऐप की घोषणा प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने योग दिवस लाइवस्ट्रीम के दौरान की थी। यह ऐप फिलहाल केवल एंड्रॉइड यूजर्स के लिए उपलब्ध है और जल्द ही इसे आईओएस पर भी रोल आउट किया जाएगा।


अतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में योग उम्मीद की किरण, मुश्किल समय में इसके प्रति लोगों का लगाव बढ़ा

आज दुनिया भर में 7वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है आज दुनिया भर में 7वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया। उन्होंने देश को 'योग से सहयोग तक' का मंत्र दिया। उन्होंने कहा कि आज जब पूरा विश्व कोरोना का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की किरण बना हुआ है। दो साल से विश्व के बड़े देशों में भले ही कोई बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हुआ हो, लेकिन योग के प्रति उत्साह कम नहीं हुआ है।


21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस..........

आज हमारे दैनिक जीवन में योग की उपयोगिता जानने की उत्सुकता हमारे लिए बहुत ही महत्पूर्ण विषय है। योग की सूक्ष्म क्रियाओं से हमारे शरीर में उपयुक्त रक्त संचार होता है, जो घुटनों के दर्द एवं हाथ, पांव, आंख, गर्दन व मांशपेशियों की बिमारियों से निजात दिलाने में महत्वपूर्ण होता है।

 विभिन्न योगासनों के माध्यम नित योग करने से हमारे शरीर की अनेक बीमारियां दूर हो जाती है। योगाभ्यास से जहां शरीर स्वस्थ रहता है, वही शरीर में नई ऊर्जा का संचार होने से ही रोग प्रतिरोधक क्षमता पैदा होती है, जो शरीर को बिमारियों से लड़ने के लिए शक्ति प्रदान करती है। मानंसिक रोगों को दूर करने के लिए ध्यान का अभ्यास होना जरूरी है। मेडिटेशन से शरीर मे नित नये विचारों की उत्पत्ति होती है। 

मनुष्य का मन एकाग्र एवं प्रसन्नचित रहता है, तथा शरीर की मांसपेशियों को उत्कृष्ट ऊर्जा प्रदान करने में सहायक होकर एकाग्रता प्रदान करती है। योग करने से जहां शरीर स्वस्थ रहता है वहीं शरीर में नई ऊर्जा का संचार होने के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता पैदा होती है, जो शरीर को बिमारियों से लड़ने के लिए शक्ति प्रदान करती है। स्वस्थ शरीर होने पर हमारी कार्य क्षमता में वृद्धि होती है। 

हमेशा योगाभ्यास एवं व्यायाम करने से मनुष्य का मन सदैव शान्त और प्रसन्न रहता है। आज की भाग-दौड़ भरे जीवन एवं तनावपूर्ण दिनचर्या में मनुष्य को इसके लिए हमें अपने व्यस्त जीवन से कुछ क्षण योगाभ्यास को देने चाहिए, ताकि वह तनाव मुक्त होकर एक खुशहाल जीवन व्यतीत कर सके।


Post a Comment

Powered by Blogger.