Halloween party ideas 2015

 चारधाम यात्रा 2021

उतराखंड चारधाम यात्रा के लिए शीघ्र एसओपी जारी होगी। 



उत्तराखंड चारधामों में मौसम ने करवट ली है वहां बर्फवारी से मौसम सर्द हो गया है।

 मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का प्रयास है कि कि सुरक्षित कुंभ के साथ ही उत्तराखंड चारधाम यात्रा सुरक्षित एवं कोरोना मुक्त रहे इसके लिए वह संकल्पबद्ध हैं।

उत्तराखंड चारधाम यात्रा को आरटी पीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट लाना जरूरी होगा। यात्रा हेतु शीघ्र एसओपी जारी की जायेगी। उत्तराखंड में मई माह से शुरू होने वाली चार धाम यात्रा शुरू होनी है श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई प्रात 4 बजकर 15 मिनट,श्री केदारनाथ धाम के 17 मई प्रात: 5 बजे,श्री गंगोत्री यमुनोत्री धाम के कपाट 14 मई को  मध्यान में खुल रहे हैं। जबकि हेमकुंड साहिब लक्ष्मण मंदिर के कपाट 10 मई को  प्रात: खुल रहे है। श्री बदरीनाथ जानेवाली तेलकलश गाडू घड़ा  यात्रा का दिन 29 अप्रैल को है।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने  बताया कि कोरोना का साया चारधाम यात्रा पर न रहे इसके लिए तीर्थ यात्रियों को आरटी पीसीआर नैगेटिव रिपोर्ट या वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र लाना जरूरी होगा कोरोना की भारी लहर के चलते एहतियात बरता जा रहा है।  महाराज ने कहा कि  केदारनाथ निर्माण कार्यों को गति प्रदान की जा रही है।

आयुक्त गढ़वाल एवं उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने उत्तराखंड चार धाम यात्रा को सुरक्षित एवं कोरोना मुक्त रखे जाने हेतु हर संभव उपायों पर जोर दिया है।

23 मार्च को  यात्रा प्रशासन संगठन  की ऋषिकेश में आयोजित चारधाम यात्रा बैठक में उन्होंने अधिकारियों को 30 अप्रैल तक सभी कार्यों  आवास,सड़क, बिजली, पानी, स्वास्थ्य, बेहतर दर्शन ब्वस्था हेतु उपाय को पूरा करने के निर्देश दिये। कहा कि सरकार के निर्दैशों के क्रम में सुरक्षित चारधाम यात्रा  में आने वाले श्रद्धालुओं को कोरोना की आरपीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट अथवा वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट लाना होगा अनिवार्य। हेमकुंड साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए भी यही व्यवस्था  लागू होगी।


  ज्ञातब्य है कि सरकार ने इस बार चार धाम यात्रा को नियंत्रण करने के लिए भी  तैयारीकर रही है। धार्मिक स्थान की यात्री क्षमता के हिसाब से ही श्रद्धालुओं को आने की अनुमति  दी जाएगी।इसके लिए प्रदेश सरकार द्वारा जल्द मानक संचालन कार्य विधि (एस ओ पी) की जाएगी जारी होनी है।

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी.डी.सिंह ने बताया कि चारधाम के कपाट खुलने हेतु मानक प्रचालन विधि एसओपी जारी होने के अनुसार अनुपालन सुनिश्चित किया जायेगा। देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि 2020 में कोरोना की दहशत के बावजूद चारधाम यात्रा सुरक्षित रही 3 लाख 11 हजार से अधिक तीर्थ यात्री चार धाम पहुंचे।

चार धाम पहुंचे तीर्थ यात्रियों की संख्या निम्नवत रही। दिनांक- 19 नवंबर  2020 -श्री बदरीनाथ धाम  

 (कपाट खुलने की तिथि 15 मई से 19 नवंबर   तक कुल तीर्थ यात्री )  145328 -श्री केदारनाथ धाम

(कपाट खुलने की तिथि 29 अप्रैल से   कपाट बंद   की तिथि 16 नवंबर  तक )  - 134981

 श्री गंगोत्री धाम कपाट खुलने की तिथि 26 अप्रैल से  कपाट बंद की तिथि 15 नवंबर  तक)-  23837

 श्री यमुनोत्री  धाम 26अप्रैल से  16 नवंबर  कपाट बंद होने की तिथि तक  7731 रही इस तरह चार धाम पहुंचे तीर्थ यात्रा योग 311877 रहा।

Post a Comment

Powered by Blogger.