Halloween party ideas 2015



आज दिनांक 2 फरवरी को SDRF पोस्ट कपकोट जनपद (बागेश्वर) को सूचना प्राप्त हुई कि चीरा बगड़ रोड से लगभग 3 किलोमीटर ऊपर जंगल काला पानी गधेरा मैं कुछ गोवंश पशु फंसे हुए हैं।

 उपरोक्त सूचना पर SDRF टीम तत्काल  हेडकांस्टेबल हृदेश परिहार के हमराह आवश्यक संसाधन सहित घटना स्थल को रवाना हुई ।

 SDRF टीम स्थानीय ग्रामीणों के साथ जंगल मे पगडण्डियों भरे  उबड़ खाबड़ रास्ते से लगभग 2 किमी की दूरी तय कर  घटना स्थल पर पहुंचें। घटना स्थल जंगल मे एक वीरान घाटी थी जहां  एक बार पहुंच कर गो वंश का  वापस आना आसान नही था।

 टीम ने मौके पर देखा कि  6 गोवंश मृत अवस्था में थे जबकि  12 गोवंश पशु  घायल ओर असहाय थे*, ये  गोवंश लावारिस हालत में चारे की तलाश में गहरी खाई में फंसे थे सम्भवतः किसी की नजर न पड़ने से   भूख प्यास से अत्यधिक कमजोर हो गए थे।घायल  गायों की  स्थिति को देखते हुए जवानों के द्वारा वैकल्पिक मार्ग भी बनाया गया ।

 टीम द्वारा तत्काल ही ग्रामीणों की सहायता से  9 गोवंश को सुरक्षित निकाला, जबकि 03 अत्यधिक घायल होने के कारण खड़े होने में असमर्थ थे जिस कारण वहां  निकालना आसान नही था इस दशा में  स्थानीय  समाजसेवी  द्वारा  वेटरनरी डॉक्टर से संपर्क किया और मौके पर ही पशुओं का उपचार करने का अनुरोध एवम परामर्श दिया।

  एसडीआरएफ टीम द्वारा कल भी स्थानीय क्षेत्र में घाटी क्षेत्र में सर्चिंग की जाएगी। साथ ही स्थानीय प्रशानिक अधिकारियों को भी उपरोक्त गोवंश रेस्कयू की जानकारी से अवगत कराया गया है।

     एसडीआरएफ उत्तराखंड पुलिस टीमों द्वारा मानसून काल मे अनेक  गोवंश रेस्कयू किये जाते है।

जो गो वंश चारे की तलाश में तेज बहाव नदियों में  नदी किनारे ओर टापुओं में फंस जाती, यह प्रथम मामला है जो शीत ऋतु में इतनी बड़ी संख्या में गोवंश रेस्कयू किया गया।

 विगत वर्ष टीम द्वारा 60 से भी अधिक गोवंश रेस्कयू किये थे, सम्पूर्ण अभियान की स्थानीय स्तर पर अत्यधिक सराहना की जा रही है

Post a Comment

Powered by Blogger.