Halloween party ideas 2015





      मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को अल्मोडा से पौड़ी आते समय चौखुटिया में प्रस्तावित हवाई पट्टी का  हेलीकॉप्टर से हवाई निरीक्षण किया।


      मुख्यमंत्री ने कहा कि चौखुटिया ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण के समीप होने के साथ ही सीमान्त क्षेत्र से जुड़ा होने के कारण सैन्य सुरक्षा की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण क्षेत्र है। चौखुटिया में हवाई पट्टी के निर्माण का प्रस्ताव भी भारत सरकार को प्रेषित किया गया था। 

हमारे सैन्य अधिकारियों ने भी सामरिक दृष्टि से चौखुटिया में हवाई पट्टी की नितान्त आवश्यकता बतायी है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि गढ़वाल व कुमाँऊ का मध्य क्षेत्र एवं गैरसैंण ग्रीष्म कालीन राजधानी के समीप होने के कारण चौखुटिया में हवाई पट्टी का निर्माण पूर्णतः राज्य हित में है। इससे सेना की जरूरतों की भी पूर्ति होगी। उन्होंने कहा कि चीन सीमा के नजदीक होने के कारण सेना को भी उससे सुविधा होगी।


मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आज जनपद पौड़ी के श्रीनगर स्थित राजकीय संयुक्त उप जिला चिकित्सालय के नवनिर्मित भवन का लोकार्पण तथा स्व.श्री मोलाराम तोमर जी की प्रतिमा का अनावरण किया। यह संपूर्ण अस्पताल परिसर 4 हजार स्क्वेयर मीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। इस दो मंजिला अस्पताल में मरीजों के लिए 52 बिस्तर हैं। अलकनंदा नदी को प्रदूषण से बचाने के लिए अस्पताल में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित किया गया है। अस्पताल भवन तक पहुंचने में सभी को आसानी हो इसके लिए यहां कांक्रीट रोड बनाया गया है। साथ ही बाहर से आने वाले मरीजों और उनके परिजन के यहां पार्किंग की भी समुचित व्यवस्था है। प्रदेश के सभी निवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

अल्मोड़ा 28 जनवरी, 2021 (सू0वि0)- सोबन सिहं जीना विश्वविद्यालय आगमन पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र रावत का विश्वविद्यालय के परिसर में नागरिक अभिनन्दन किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि क्षेत्रीय संसाधनों का प्रयोग कर  विकास को गति देने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यहां का युवा इनोवेटिव है। विश्वविद्यालय भी बेहतर कार्य कर यहां विकास में अपना योगदान दे सकते हैं। पर्यटन, शिक्षा, फिल्म, एडवेंचर, टूरिज्म आदि पर हमारी सरकार कार्य कर रही है।                                        मुख्यमंत्री ने इस दौरान शिक्षा के उन्नयन के लिए कई घोषणायें की जिनमें प्रत्येक ब्लॉक में एक महाविद्यालय खोलने की घोषणा की। उन्होंने विश्वविद्यालय के विविध निर्माण कार्यों के लिए  31. 67 करोड़ रुपए के कार्यों की स्वीकृति प्रदान करते हुए घोषणाएं की। मुख्यमंत्री ने व्यावसायिक पाठ्यक्रम वोकेशनल कोर्स विभाग का भवन बनाने के लिए 4.52 करोड़, सेंटर फॉर एक्सीलेंस फॉर एन आर डी एम एस ( प्राकृतिक संसाधन आंकड़ा प्रबंधन केंद्र) का भवन निर्माण करने के लिए 5.25 करोड़, योग विज्ञान विभाग का भवन बनाने के लिए 4.30 करोड़, एडवांस सेल एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी की स्थापना हेतु 1.60 करोड और सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के आवासीय परिसर हेतु स्वीकृत चार अकादमी पाठ्यक्रमों के लिए भवन निर्माण के लिए 16.00 करोड़ रुपये की घोषणाएं की। इस तरह कुल 31.67 करोड़ की घोषणाएं उनके द्वारा की गई।

                                         उच्च शिक्षामंत्री डा0 धन सिंह रावत ने कहा कि बागेश्वर और पिथौरागढ़ महाविद्यालयों को सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के परिसर का दर्जा दे दिया गया है। उन्होंने कहा कि डिजीलाकर के माध्यम से अब विश्वविद्यालय की सभी डिग्रियाॅ आनलाईन की जा रही है। उन्होंने कहा कि कोई भी प्राध्यापक कुमाऊ विश्वविद्यालय के नैनीताल कैम्पस या सोबन सिहं जीना विश्वविद्यालय के अल्मोड़ा, बागेश्वर या पिथौरागढ़ कैम्पस में स्थानान्तरण चाहते है तो उनसे एक माह के भीतर विकल्प प्राप्त करते हुए उनका स्थानान्तरण कर दिया जायेगा। उच्च शिक्षामंत्री ने कहा कि बी0एड0 एवं लाॅ संकाय को सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के अल्मोड़ा में ही रखा जायेगा।

                                          विशिष्ट अतिथि के रूप में विधानसभा उपाध्यक्ष माननीय रघुनाथ चौहान ने  कहा कि  सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के बनने से यह विश्वविद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा। उत्तराखंड के विकास में माननीय मुख्यमंत्री जी और शिक्षा के क्षेत्र में धनसिंह रावत जी का प्रयास स्तुत्य है।  उन्होंने इस दौरान कई माॅगे मुख्यमंत्री के समक्ष रखी। विशिष्ट अतिथि के रूप में ’महिला कल्याण एवं बाल विकास एवं मत्स्य विकास मंत्री श्रीमती रेखा आर्या ने कहा कि उत्तराखंड राज्य में महिलाओं और बाल विकास के लिए सकारात्मक कार्य किये जा रहे हैं। उत्तराखंड की सरकार विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

                                              समारोह के संयोजक और ओ.एस.डी. डॉ. देवेंद्र बिष्ट ने विश्वविद्यालय की रूपरेखा प्रस्तुत की तथा इस अवसर पर डॉ नवीन भट्ट द्वारा समारोह के मुख्य अतिथि  मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री के स्वागत में अभिनंदन पत्र को पढ़ा गया। कार्यक्रम में स्वागत करते हुए सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के  कुलपति प्रोफेसर नरेंद्र सिंह भंडारी ने  कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी और शिक्षा मंत्री जी के विशेष प्रयासों से सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा की स्थापना हुई है।

 यह इस क्षेत्र के लिए गर्व की बात है।  उन्होंने कहा कि  यह विश्वविद्यालय व्यावसायिक शिक्षा, पर्यटन, आयुर्वेद, योग, जनसंचार, पर्यावरण, शोध आदि क्षेत्रों में नवीन कीर्तिमान गढ़ेगा। इसलिए इन सभी क्षेत्रों पर विशेष दृष्टि रखी जायेगी।     

            अध्यक्षता करते हुए अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री अजय टम्टा ने अपने संबोधन में कहा कि  विकास को लेकर इस सरकार ने कम समय में बेहतर प्रदर्शन किया है। हर क्षेत्र में उत्तराखंड की सरकार कार्य कर रही है। कुलसचिव डॉ बिपिन चंद्र जोशी ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त।  इस कार्यक्रम में ’विश्वविद्यालय के लोगो और वेबसाइट का लोकार्पण भी मुख्यमंत्री द्वारा किया गया।

                                                   

                                                                           

Post a comment

Powered by Blogger.