Halloween party ideas 2015


पीएम नरेंद्र मोदी ने किया सीवर ट्रीटमेंट प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण,महापौर ने जताया आभार

 ऋषिकेश-


मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महत्वाकांक्षी परियोजना नमामि गंगे के तहत उत्तराखंड में बने आठ सीवर ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का वर्चुअल लोकार्पण किया। उक्त परियोजना से करोड़ों देशवासियों की आस्था का प्रतीक मां गंगा अब मैली, दूषित और प्रदूषित नहीं हो पाएगी।


इस दौरान अपने वर्चुअल संबोधन में पीएम मोदी ने कहा गंगा हमारी आस्‍था और वैभव का प्रतीक है। गंगा की अविरलता जरूरी है इसके लिए उक्त परियोजना मील का पत्थर साबित होगी।

मंगलवार की पूर्वाहन 11 बजे मोक्षदायनी गंगा को निर्मल करने वाले छह बड़े प्रोजेक्ट का प्रधानमंत्री ने लोकापर्ण किया गया । इस अवसर पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहां की केंद्र सरकार गोमुख से लेकर गंगासागर तक गंगा को अविरल बनाने के लिए लगातार प्रयासरत रही हो इसके लिए विभिन्न प्रोजेक्टों को धरातल पर उतारा गया है जल्दी ही इसके सार्थक परिणाम भी दिखने शुरू हो जाएंगे।पी एम ने कहा नमामि गंगे मिशन को सिर्फ गंगा  की साफ-सफाई तक ही सीमित नहीं रखा गया है बल्कि इसे देश का सबसे बड़ा और विस्तृत नदी संरक्षण कार्यक्रम बनाया है। सरकार ने चारों दिशाओं में एक साथ काम आगे बढ़ाया। पहला- गंगा जल में गंदा पानी गिरने से रोकने के लिए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों का जाल बिछाना शुरू किया। दूसरा- सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट ऐसे बनाए, जो अगले 10-15 साल की भी जरूरतें पूरी कर सकें। तीसरा- गंगा नदी के किनारे बसे सौ बड़े शहरों और पांच हजार गांवों को खुले में शौच से मुक्त करना और चौथा- जो गंगा  की सहायक नदियां हैं, उनमें भी प्रदूषण रोकने के लिए पूरी ताकत लगाना।पीएम ने कहा कि प्रयागराज कुंभ में गंगा  की निर्मलता को दुनियाभर के श्रद्धालुओं ने अनुभव किया था। अब हरिद्वार कुंभ के दौरान भी पूरी दुनिया को निर्मल गंगा स्नान का अनुभव होने वाला है। सबसे पहले जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने अपनी बात रखी। इसके बाद नमामि गंगे की ओर से तैयार की गई शॉर्ट फिल्म दिखाई गई। इसके पश्चात मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ऑनलाइन कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्‍होंने कहा कि गंगा सफाई की मेहनत रंग लाई है। एसटीपी प्लांट लक्कड़ घाट मैं बतौर मुख्य अतिथि कार्यक्रम में मौजूद रही नगर निगम महापौर अनिता ममगाई ने 

कार्यक्रम के बेहद सफल आयोजन पर हर्ष जताते हुए कहा कि गंगा के संरक्षण और संवद्वन के लिए आज एक ऐतिहासिक दिन है। प्रधानमंत्री  द्वारा महत्वकांक्षी योजना  नमामि गंगे के तहत  उत्तराखंड को आज एक बड़ी सौगात दी गयी है, जिसमे देव भूमि उत्तराखंड को  गंगा की निर्मलता अविरलता के उनके भगीरथ प्रयास को धरातल में लाया गया है। इस दौरान परियोजना से जुड़े तमाम अधिकारी मौके पर मोजूद रहे।



संजय झील के पुनरुद्धार के लिए महापौर ने राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के एडिशनल सचिव को सौंपा ज्ञापन

ऋषिकेश- 

प्रधानमंत्री के वर्चुअल कार्यक्रम को लेकर तीर्थ नगरी पहुंचे राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन भारत सरकार के अधिकारियों ने आज दोपहर कार्यक्रम के समापन के पश्चात नगर निगम पहुंचकर महापौर अनिता ममगाई से विभिन्न योजनाओं की जानकारी ली। नगर निगम महापौर ने नमामि गंगे योजना के अंतर्गत शहर में कराई जाए योजनाओं की जानकारी के अलावा विभिन्न प्रोजेक्ट के बारे में उन्हें विस्तृत जानकारी दी।इस मौके पर राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन भारत सरकार के एडिशनल सेक्रेटरी ओपी शर्मा को संस्थान के महानिदेशक के लिए प्रेषित ज्ञापन भी महापौर द्वारा सौंपा गया। जिसमें बताया गया कि चार धाम के मुख्य द्वार ऋषिकेश का विशेष आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक महत्व है। नगर निगम योग की अंतरराष्ट्रीय राजधानी  के नाम से विख्यात तीर्थ नगरी को तीर्थाटन एवं पर्यटन के लिए विकसित करने में शिद्दत के साथ जुटा हुआ है ।लेकिन सीमित वित्तीय संसाधनों की वजह से शहर के ड्डीम प्रोजेक्ट संजय झील का पुनरूद्वार संभव नहीं हो पा रहा है। जबकि संजय झील का पौराणिक महत्व है एवं संजय झील से होकर  रंभा नदी का पानी गंगा में मिलता है। वर्तमान में  इसका निरंतर क्षय भी हो रहा है जोकि बेहद चितांजनक है। ज्ञापन में महापौर की ओर से राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन भारत सरकार के महानिदेशक से उक्त योजना का सपना साकार करने के लिए शीघ्र अति शीघ्र डीपीआर तैयार करने की मांग की गई है।

इस दौरान  वी सी पुरोहित एमडी पेयजल निगम, आर के सिंह ए ई जल निगम, संजय सकलानी एस पी एम जी,एवं नगर आयुक्त नरेंद्र सिंह क्वीरियाल भी मोजूद रहे।

Post a comment

Powered by Blogger.