Halloween party ideas 2015




 देहरादून:

दून पब्लिक स्कूल भानियावाला देहरादून और माउंट लिट्रा जी स्कूल भानियावाला देहरादून के द्वारा दी जा रही ऑनलाइन शिक्षा की गुणवत्ता की शिकायत वेबिनार के माध्यम से समाजसेवी योगेश राघव ने बाल अधिकार संरक्षण आयोग से की.


बाल अधिकार संरक्षण आयोग देहरादून , अध्यक्षा श्रीमती उषा नेगी के द्वारा कल एक वेबीनार का आयोजन किया गया जिसमें 13 जिले के अभिभावक, स्कूल प्रबंधक और शासन प्रशासन स्तर के अधिकारी उपस्थित थे । वेबीनार का  मुख्य उद्देश अभिभावकों द्वारा स्कूलों की ऑनलाइन शिक्षा की गुणवत्ता से असंतुष्ट होना था ।
जिसमें दून पब्लिक स्कूल भानियावाला देहरादून और माउंट लिट्रा जी भानियावाला देहरादून के अभिभावकों ने अपना अपना पक्ष रखा ।
समाजसेवी योगेश राघव ने दून पब्लिक स्कूल और माउंट लिट्रा जी की लिखित शिकायत पत्र का संज्ञान देते हुए कहा की माननीय अध्यक्षा आपके द्वारा 15 दिन के अंदर रिपोर्ट मुख्य शिक्षा अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है ।

 योगेश राघव ने अध्यक्ष  को अवगत कराया कि स्कूल प्रशासन फीस के लिए अब परीक्षा का आयोजन कर रहा है और मैसेजओं के माध्यम से सीधे-सीधे अभिभावकों  को धमकी देने और उनके बच्चों को डराये जाने का निरन्तर कार्य कर रहा है  कि यदि कोई भी बच्चा इन परीक्षा मैं सम्मिलित नहीं होता तो उसे दूसरी कक्षा में प्रमोट नहीं किया जाएगा.
 जिसका अध्यक्ष महोदया ने संज्ञान लेते हुए कहा कि , परीक्षाएं बच्चों का मूल्यांकन करने का अच्छा साधन है पर अभी वर्तमान की मैं दी जा रही इस तरह की शिक्षा में मूल्यांकन करना बहुत मुश्किल है और इस आधार पर बच्चों को प्रमोट ना करना गलत बात है ।
 वेबीनार में अभिभावक मीनू शुक्ला, पूनम चौहान ,गीता कठैत ममता जिंकवाण आदि ने स्कूल द्वारा दी जा रही

ऑनलाइन शिक्षा के बारे में अध्यक्ष  को प्रत्येक पहलुओं से अवगत कराया और स्कूल प्रबंधन द्वारा अभिभावकों पर दिए जा रहे तरह तरह के दबावों के बारे में विस्तार पूर्वक अवगत कराया गया । अध्यक्षा द्वारा इस तरह से दी जा रही शिक्षा को अनुचित बताया और स्कूल प्रबंधन को कठोर शब्दों में निंदा की और जल्द से जल्द संदर्भ में संज्ञान लेने का सभी अभिभावकों को आश्वासन दिया गया।

अभिभावक श्री दीवान सिंह सजवान और उदय धनोला , सुनील नेगी, शैलेन्द्र नेगी , ने भी कोरोना वैश्विक महामारी में जहां बेरोजगारों लोगों को जीवन यापन करना बहुत मुश्किल है वहीं दूसरी ओर स्कूल प्रशासन तरह तरह के दबाव  बनाने के साथ साथ विद्यालय के हितैषियो द्वारा भी जगह जगह अभिभावकों पर दबाव बनाया जा रहा है। इनके द्वारा यह भी अवगत कराया गया ।
 अध्यक्षा ने दून पब्लिक स्कूल भनियावाला और  माउंट लिट्रा जी भानियावाला के अभिभावकों को धैर्य और संयम बनाए रखने को कहा । क्योंकि अभी मुख्य शिक्षा अधिकारी के समक्ष स्कूलों का रिपोर्ट विचाराधीन है इनकी रिपोर्ट के उपरांत ही निर्णय । उपरोक्त दोनों स्कूल द्वारा इस प्रकार की दी जा रही ऑनलाइन शिक्षा पर अपनी नाराजगी जाहिर की है और उन पर जल्द से जल्द सख्त कार्यवाही का आश्वासन भी दिया गया है अंत में माननीय अध्यक्षा द्वारा कठोर शब्दों में बोला गया की बड़े-बड़े प्राइवेट स्कूल फीस के नाम पर इस प्रकार की ठेकेदारी को तुरंत बंद कर दें ।
वेबीनार के उपरांत समाजसेवी योगेश राघव ने कहा अभिभावकों को विश्वास हो गया है कि स्कूल प्रशासन पर जल्द ही कार्रवाई होगी और सभी अभिभावकों के पक्ष में फैसला आएगा । सभी अभिभावक एकमत हैं कि वह अब परीक्षाओं का पूर्णतया बहिष्कार करेंगे ।
समाजसेवी योगेश राघव ने बताया कि सभी अभिभावकों ने बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्षा श्रीमती उषा नेगी का धन्यवाद व्यक्त किया  ।

Post a comment

Powered by Blogger.