Halloween party ideas 2015



आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में विभिन्न बीमारियों से ग्रसित 4 कोविड पॉजिटिव रोगियों की मौत हो गई, इसके अलावा 44 लोगों की सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिनमें 19 लोग स्थानीय हैं। संस्थान की ओर से इस मामले में स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।                                                                                                                                                                                                                                                             एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि ऋषिकेश निवासी 52 वर्षीय पुरुष जो कि काफी समय से डायबिटीज व हाईपरटेंशन से ग्रसित था। बीती 19 अगस्त को बुखार, सांस लेने में तकलीफ एवं कमर में दर्द की शिकायत पर एम्स ऋषिकेश आया था। जिनका कोविड सैंपल पॉजिटिव पाया गया, लिहाजा उन्हें कोविड वार्ड आईसीयू में भर्ती किया गया। जहां उक्त व्यक्ति की बुधवार सुबह उपचार के दौरान मौत हो गई।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                दूसरा मामला  विवेक विहार रानीपुर मोड़,हरिद्वार निवासी 62 वर्षीया महिला जो कि बीते मंगलवार को एम्स इमरजेंसी में आई थी, उक्त महिला मधुमेह रोगी थी व इंसुलिन पर निर्भर थी। जिसे पिछले 6 महीने से हृदय रोग से ग्रसित थी।  उक्त महिला को पिछले तीन दिनों से बुखार, खांसी और एक दिन पूर्व से सांस लेने में तकलीफ की शिकायत थी, उक्त मरीज का सैंपल रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाया गया, महिला को कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था, जहां उसकी बीती देरशाम उपचार के दौरान मौत हो गई।                                                                                                                                                               तीसरा मामला मन्यारपुर गनकपुर, चंपावत निवासी 47 वर्षीया महिला जो कि स्वांस रोग की पेशेंट थी व पिछले छह महीने से उसके पेट में सूजन,खाना निगलने में तकलीफ व खून की कमी ​की शिकायत थी, पेट में तेज दर्द की शिकायत के साथ महिला को बीती 22 अगस्त को एम्स में भर्ती किया गया था, जिसका सैंपल कोविड पॉजिटिव पाया गया, जिसका कोविड वार्ड में रखा गया था, जहां बुधवार सुबह उक्त महिला की उपचार के दौरान मौत हो गई।                                                                                                                                                                         हरिद्वार निवासी 47 वर्षीया महिला जिसका काफी समय से फेफड़ों के कैंसर का उपचार चल रहा था। उक्त महिला बीती 2 अगस्त को एम्स में रेडियोथैरेपी विभाग में फॉलोअप के लिए आई थी। जहां महिला का कोविड सैंपल लिया गया, कोविड पॅजिटिव आने पर उक्त महिला का यहां कोविड वार्ड आईसीयू में उपचार चल रहा था, जहां मंगलवार देरशाम उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई।                                                                                                                                                                                                                                                                                                     इसके अलावा कपूरफार्म, गुमानीवाला ऋषिकेश निवासी 20 वर्षीय पुरुष, सुमन विहार बापूग्राम, ऋषिकेश निवासी 56 वर्षीय पुरुष, उग्रसेननगर, ऋषिकेश निवासी 39 वर्षीय पुरुष, आवास विकास कॉलोनी, ऋषिकेश निवासी 24 वर्षीया महिला की कोविड सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।
साथ ही गंगानगर, ऋषिकेश निवासी 39 वर्षीय पुरुष, वीरपुर खुर्द वीरभद्र निवासी 30 वर्षीया महिला, आवास विकास कॉलोनी ऋषिकेश निवासी 60 वर्षीय पुरुष, चगजोगीवाला, छिद्दरवाला ऋषिकेश निवासी 13 वर्षीया किशोरी, वीरभद्र मार्ग निवासी 36 वर्षीय पुरुष, रामझूला मुनिकीरेती निवासी 47 वर्षीय पुरुष व चौदहबीघा मुनिकीरेती निवासी 37 वर्षीय पुरुष की कोविड सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।                                                   वीरभद्र मार्ग निवासी एक 22 वर्षीय व दूसरा 28 वर्षीय पुरुष, श्यामपुर ऋषिकेश निवासी 30 वर्षीय महिला, शिवाजीनगर के 43 वर्षीय पुरुष, वीरभद्र मार्ग 33 वर्षीय पुरुष व 29 वर्षीया महिला, साईं विहार कॉलोनी निवासी 26 वर्षीया महिला, बनखंडी ऋषिकेश निवासी 50 वर्षीय महिला की कोविड सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                               इसके अलावा धामपुर बिजनौर, यूपी निवासी 50 वर्षीया महिला, टिहरी विस्थापित क्षेत्र,जौलीग्रांट निवासी 26 वर्षीया महिला, जलालपुर अंबेडकरनगर, यूपी निवासी 48 वर्षीय पुरुष, पंतनगर, उधमसिंहनगर निवासी 69 वर्षीया महिला, धर्मनगरी बिजनौर, यूपी निवासी 22 पुरुष व यहीं के एक अन्य 19 वर्षीय पुरुष, फकीरगंज रामपुर, यूपी निवासी 30 वर्षीया महिला की कोविड सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।                                                                                     गुप्तकाशी, रुद्रप्रयाग निवासी 40 वर्षीय पुरुष, गोदावली बहादरपुर जट, हरिद्वार निवासी 50 वर्षीया महिला, पाडली गूजर, रुड़की, हरिद्वार निवासी 33 वर्षीय पुरुष, हरेंद्रनगर शामली, यूपी निवासी 65 वर्षीय पुरुष, संजय बाडी हरिद्वार नगर निवासी 71 वर्षीया महिला, रामधाम कॉलोनी, हरिद्वार निवासी 52 वर्षीय पुरुष की कोविड सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।                                                                                                     रुड़की जेल, हरिद्वार निवासी 50 वर्षीय पुरुष, देवबंद, सहारनपुर यूपी निवासी 65 वर्षीय पुरुष, भगवानपुर रुड़की, हरिद्वार निवासी 25 वर्षीय पुरुष, बीएचईएल हरिद्वार निवासी 59 वर्षीय महिला व मायापुर हरिद्वार निवासी 55 वर्षीय पुरुष की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। साथ ही कनखल, हरिद्वार निवासी 40 वर्षीया महिला, पंजाबी मोहल्ला, उधमसिंहनगर निवासी 10 वर्षीय किशोर, सब्जी मंडी पुल सहारनपुर निवासी 36 वर्षीया महिला, बिग बाजार, ज्वालापुर, हरिद्वार निवासी 60 वर्षीय पुरुष, विजय पार्क एक्सटेंशन, देहरादून निवासी 42 वर्षीय महिला, मुजफ्फनगर निवासी 43 महिला, सुभाषनगर, ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 60 वर्षीया महिला की सैंपल रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है।                                                                   उन्होंने बताया है कि उक्त सभी कोविड पॉजिटिव मामलों के बाबत संस्थान की ओर से स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचना भेज दी गई है।



                                                                                                                                                                                                            अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश ने विश्वव्यापी कोविड19 के प्रकोप के मद्देनजर आम लोगों पर पड़ रहे इसके दुष्प्रभाव, भय, अवसाद जैसी शिकायतों व नशे की आदत बढ़ने से आत्मघाती व्यवहार के स्तर में वृद्धि के चलते टेली कंसल्टेशन की शुरुआत की है। जिसमें ऐसे लोगों को कोरोना वायरस के भयावह परिणामों से मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ रहे बुरे प्रभावों से सुरक्षा के लिए सुझाव दिए जा रहे हैं।                            कोविड19 के भय व चुनौतियों से प्रभावित लोगों के मानसिक स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी के निर्देश पर संस्थान में टेली कंसल्टेशन शुरू की गई है। संस्थान में मानसिक टेली कंसल्टेशन का संचालन ट्रामा सर्जरी विभाग के प्रमुख प्रो. कमर आजम, मनोरोग विभागाध्यक्ष प्रो. रवि गुप्ता, विभाग के संकाय सदस्य डा. अनिद्या दास, ट्रामा सर्जरी विभाग के डा. अजय कुमार व फाउंडेशन के अध्यक्ष आगा मशकूर निजामी की देखरेख में किया जा रहा है। सार्वजनिक मानसिक स्वास्थ्य को कोविड19 के दुष्प्रभावों से राहत प्रदान करने के लिए शुरू की गई इस टेली कंसल्टेशन में अफिफा फाउंडेशन एम्स ऋषिकेश का सहयोग कर रही है।                                                                                                                                                                      एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने बताया कि विश्वव्यापी कोविड19 प्रकोप ने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित किया है,जिसके कारण लोगों में भय, चिंता, बेचैनी और घबराहट जैसी शिकायतें आम हो गई हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी की दहशत ने सबसे ज्यादा बच्चे, वरिष्ठ नागरिकों के साथ- साथ स्वास्थ्य कर्मियों व अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोगों पर अपना दुष्प्रभाव डाला है। ऐसे में जिन लोगों ने अपने परिजनों व अन्य निकट सगे संबंधियों को इस बीमारी से ग्रसित होते हुए देखा है अथवा जो लोग राजकीय नियमों के तहत क्वारंटाइन के दौर से गुजरे हैं, जो लोग कोविड19 के चलते हुए लॉकडाउन से भारी आर्थिक नुकसान से दोचार हो रहे हैं, ऐसे तमाम लोग स्वयं को असुरक्षित महसूस करने लगे हैं। लिहाजा ऐसे लोगों के मन में कई तरह के सवाल घर कर गए हैं।                                                                                                               निदेशक प्रो. रवि कांत जी ने बताया कि कोविड के दुष्प्रभावों से भयभीत लोगों में अकेलेपन, अवसाद के चलते हानिकारक शराब व नशीली दवाओं के उपयोग की आदत बढ़ रही है,जिससे ग्रसित लोगों में आत्मक्षति, आत्मघाती व्यवहार के स्तर में वृद्धि दर्ज की जा रही है। उन्होंने बताया कि टेली कंसल्टेंशन ओपीडी में एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सक लोगों को वीडियो व ऑडियो कॉल के माध्यम से उनकी परेशानियों के निराकरण के लिए लोगों को परामर्श दे रहे हैं, साथ ही चिकित्सकों द्वारा पब्लिक वीडियो के माध्यम से लोगों को जागरुक भी किया जा रहा है।बताया गया कि ऐसे रिकॉडेड वीडियो को http://aiimsrishikeshtrauma.org/teleconsultation पर क्लिक कर देखा जा सकता है।

Post a comment

Powered by Blogger.