Halloween party ideas 2015




उत्तराखंड में आज कोरोना पॉजिटिव के 47 मामले आए हैं। जिसे मिलाकर उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के कुल मामले अब 3305 हो गए हैं। जिसमें सक्रिय केसों की संख्या 558 है आज 22 लोग ठीक हो चुके है, रिकवर मामलों की संख्या 2672 है। अभी तक 46 लोगों मृत्यु हो चुकी है .आज  1847  लोगों के सैंपल रिपोर्ट  नेगेटिव पाए गए हैं।  उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण  रिकवर दर 80.85 % हो गयी है।

संक्रमित क्षेत्रों की संख्या उत्तराखंड में कुल 88 हो गयी है.आज देहरादून जनपद से 20, नैनीताल से 12,  उधमसिंह नगर से 03,और पौड़ी  से 05,  टिहरी से 05 और चम्पावत से 02 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं।
08 व्यक्तियों की ट्रेवल हिस्ट्री ज्ञात नहीं है , 02 हेल्थ केयर वर्कर है , पूर्व में संक्रमित लोगों के संपर्क में 04 मामले है।



अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में 5 लोगों की कोविड सेंपल रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है। जिनमें तीन स्थानीय लोग हैं, कोविड संक्रमितों में एम्स संस्थान का एक नर्सिंग ऑफिसर भी शामिल है।
एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि संस्थान में की गई सेंपलिंग में 5 लोगों की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है। उन्होंने बताया कि अदामपुर, बिजनौर उत्तरप्रदेश निवासी एक 22 वर्षीय युवक को हड्डी से संबंधी बीमारी के कारण 6 जुलाई को एम्स में भर्ती किया गया। इसी दिन इनका कोविड सेंपल भी लिया गया, जिसकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है। जिसके बाद मरीज को एम्स आईपीडी से कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। दूसरा मामला आवास विकास कॉलोनी ऋषिकेश का है।
कॉलोनी निवासी 26 वर्षीय महिला बुखार, खांसी व खराब गले की शिकायत के साथ बीती 8 जुलाई को एम्स ओपीडी में आई थी, यह तब से होम आइसोलेशन पर है, जो कि एम्स की ट्रॉमा सर्जरी वार्ड में कार्यरत नर्सिंग ऑफिसर है। इसके अलावा दो अन्य मामले गंगानगर ऋषिकेश निवासी हैं। जिसमें से एक 38 वर्षीय महिला बागपत, उत्तरप्रदेश से बीती 28 जून को ऋषिकेश आई थी। यह महिला एम्स की ओपीडी में बीते मंगलवार को बुखार की शिकायत के साथ आई थी। जिसका कोविड सेंपल लिया गया था जो कि पॉजिटिव पाया गया है। गौरतलब है कि इस महिला की मां भी पूर्व में कोविड पॉजिटिव पाई गई है जिसका एम्स में उपचार चल रहा है। गंगानगर निवासी एक अन्य 64 वर्षीय व्यक्ति जो कि बीती 5 जुलाई को दिल्ली से ऋषिकेश आए थे व होम क्वारंटाइन थे,उक्त व्यक्ति 7 जुलाई को बुखार की शिकायत के साथ एम्स ओपीडी में आए थे,जहां इनका कोविड सेंपल लिया गया था जो पॉजिटिव पाया गया है। बताया गया है कि उक्त व्य​क्ति गंगानगर निवासी 38 वर्षीय महिला का पिता है। एक अन्य मामला एम्स ऋषिकेश में नर्सिंग ऑ​फिसर के पद पर ज्वाइन करने आए नर्सिंग ऑफिसर का है जो कि जोधपुर राजस्थान से यहां आए थे व त्रिवेणीघाट स्थित एक धर्मशाला में ठहरे थे। जिनका बीते बुधवार को ज्वाइनिंग से पहले किए गए मेडिकल जांच में कोविड सेंपल लिया गया जो कि बृहस्पतिवार को कोविड पॉजिटिव आया है। उन्होंने बताया कि संबंधित मामलों के बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।                          
रोटरी क्लब व इनर व्हील क्लब ऋषिकेश के संयुक्त तत्वावधान में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस सावधानियां एवं उपचार विषय पर वेबिनार आयोजित किया गया। जिसमें एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत  व अन्य चिकित्सकों ने लोगों को कोविड19 को लेकर जागरुक किया।              
                 बृहस्पतिवार को आयोजित ऑनलाइन सेमिनार में एम्स निदेशक पद्मश्री  प्रोफेसर रवि कांत  ने रोटरी क्लब व इनर व्हील क्लब से जुड़े सभी लोगों को कोविड19 कोरोना वायरस से बचाव को लेकर जागरुक किया। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने जोर दिया कि इस बाबत सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का शब्दशः पालन करने से कोविड के संक्रमण से बचाव संभव है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से घबराने की नहीं बल्कि जागरुक व सावधान रहने की आवश्यकता है। इस अवसर पर एम्स संस्थान के डीन आउटरीच प्रो. ब्रिजेंद्र सिंह, माइक्रो बायोलॉजी विभाग के डा. दीपज्योति कलिता व डा. मुकेश बैरवा ने भी विचार रखे। कार्यक्रम में रोटरी क्लब के डीजी रमेश बजाज ने भी शिरकत की।
आयोजित वेबीनार में लगभग १०० लोग मौजूद थे। डा. हरिओम प्रसाद के संचालन में आयोजित कार्यक्रम में रोटरी क्लब के अध्यक्ष नितिन गुप्ता, सचिव संजय अग्रवाल, इनर व्हील क्लब की अध्यक्ष सलोनी गोयल, सचिव पूजा गुप्ता, नवीन अग्रवाल, डा. डीके श्रीवास्तव, जितेंद्र बर्तवाल, राजीव गर्ग, गोपाल अग्रवाल, नवनीत नागलिया आदि मौजूद थे।

Post a comment

Powered by Blogger.