Halloween party ideas 2015




उत्तराखंड में आज कोरोना पॉजिटिव के 57 मामले आए हैं ।  जिसे मिलाकर उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामले अब 12079 हो गए हैं। जिसमें सक्रिय केसों की संख्या 777 है और 8 लोग ठीक हो चुके है रिकवर मामलों की संख्या बढ़कर 1262 हो गई है। अभी तक 26 लोगों मृत्यु हो चुकी है आज 1409 लोगों के सैंपल रिपोर्ट  नेगेटिव पाए गए हैं।  उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के ठीक होने की दर 60.67% हो गई है। आज देहरादून जनपद से 28, पौड़ी से 14, हरिद्वार से 5, रुद्रप्रयाग से 4, चमोली से 3, अल्मोड़ा, टिहरी और उत्तरकाशी से एक कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं जिनमें से 30 लोगों की ट्रैवल हिस्ट्री ज्ञात नहीं है, पहले से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से 6 व्यक्ति संक्रमित हुए हैं, इनमें से 1 हेल्थ केयर वर्कर भी है बाकी सब प्रवासी उत्तराखंड है।

                                          अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स ऋषिकेश) में बृहस्पतिवार को दो लोगों की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है। इनमें एक मरीज स्थानीय निवासी है जबकि उत्तरप्रदेश निवासी है, जिसके दो अन्य परिजन भी पहले ही कोविड संक्रमित हो चुके हैं, जो कि एम्स के कोविड वार्ड में एडमिट हैं।                                                                                                                                                                                  एम्स संस्थान के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल  ने बताया कि पहला मामला गंगानगर,ऋषिकेश का है। जिसमें एक 25 वर्षीय व्यक्ति जो कि एम्स संस्थान में नर्सिंग ऑफिसर हैं व 10 जून तक कोविड आइसोलेशन वार्ड में तैनात थे। इसके बाद से यह होम आइसोलेशन पर थे। बुखार व शरीर में दर्द की शिकायत के साथ वह बीते बुधवार को एम्स ओपीडी में आए थे, जहां इनका कोविड सेंपल लिया गया था। जिसकी रिपोर्ट बृहस्पतिवार को कोविड पॉजिटिव आई है। नर्सिंग ऑफिसर को एम्स के कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। दूसरा मामला गली नंबर-1, कासगंज, उत्तरप्रदेश का है। यूपी का 23 वर्षीय युवक बीती 16 जून को एम्स ओपीडी में आया था, जो कि एक दिन पूर्व यानि 15 जून को कासगंज, यूपी से ऋषिकेश आया था व इसके बाद से सीमा डेंटल कॉलेज ऋषिकेश में क्वारंटाइन था। इस युवक की रिपोर्ट बृहस्पतिवार को कोविड पॉजिटिव पाई गई है। पेशेंट सिम्टमेटिक है, जो कि एम्स में भर्ती अपने दो अन्य परिजनों का अटेंडेंट है। गौरतलब है कि इस युवक की मां व भाई पहले ही कोविड संक्रमित हो चुके हैं,जिनका एम्स के कोविड वार्ड में उपचार चल रहा है। उन्होंने बताया कि इन सभी मामलों के बाबत अग्रिम कार्रवाई के लिए स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है, साथ ही उत्तरप्रदेश निवासी 23 वर्षीय युवक को नजदीकी कोविड केयर सेंटर( सीसीसी) में एडमिट का सुझाव दिया गया है।

Post a comment

Powered by Blogger.