Halloween party ideas 2015

                                                                                                                                                                                                        अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में कार्यरत एक इंटर्न महिला चिकित्सक की चिकित्सकीय रिपोर्ट भी कोविड पॉजिटिव आई है। जिसके बाद एम्स प्रशासन ने इंटर्न के संपर्क में आए लोगों को सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है,जिसके बाद चिह्नित लोगों को कोरंटाइन किया जाएगा। इसके साथ ही एम्स में भर्ती कोरोना पॉजिटिव पेसेंट की संख्या चार हो गई है,जिनका आइसोलेशन वार्ड में उपचार चल रहा है।                                                                        

                                         शनिवार को एम्स संस्थान की ओर से जारी बयान में डीन (अस्पताल प्रशासन) प्रो. यूबी मिश्रा ने बताया कि बीते शुक्रवार की रात संस्थान की एक इंटर्न महिला चिकित्सक की कोविड 19 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। एम्स प्रशासन के अनुसार कोविड संक्रमित इस इंटर्न डॉक्टर की ड्यूटी बीते माह 16 अप्रैल से इमरजेंसी विभाग में थी। चूंकि पूर्व में कोरोना पॉजिटिव पाई गई नैनीताल की महिला रोगी को भी इमरजेंसी विभाग में उपचार के लिए भर्ती किया गया था, तो काफी हद तक संभावना है कि यह चिकित्सक इसी महिला रोगी के संपर्क में आने से संक्रमित हुई है।                                          

           लिहाजा संस्थान की टीम ने संक्रमित चिकित्सक के संपर्क में आए लोगों की सूची बनाने का कार्य शुरू कर दिया है, जिसके बाद स्पष्ट हो सकेगा कि महिला इंटर्न कैसे संक्रमित हुई है। बताया कि यह रिपोर्ट कल तक आ जाएगी। उन्होंने बताया कि फिलहाल इंटर्न जिस हाॅस्टल में रहती थी उसे पूरे हाॅस्टल को कोरेंटाइन कर दिया गया है और वहां रहने वाले अन्य सभी इंटर्नस की टेस्टिंग शुरू कर दी गई है, जिनकी रिपोर्ट रविवार तक आने की संभावना है। साथ ही संक्रमित इंटर्न डाॅक्टर के मूवमेंट वाले एरिया को भी चिह्नित कर सेनेटाइजेशन की प्रक्रिया चल रही है।                                                  
    इसके अलावा मेन इमरजेंसी को भी सेनेटाइज करने की प्रक्रिया चल रही है। चूंकि संस्थान ने हाल में कोविड इमरजेंसी को बंद कर दिया था और मेन इमरजेंसी को चालू रखा गया था, जहां सभी रोगियों को लिया जा रहा था। मगर अब मेन इमरजेंसी को सेनेटाइज किया जा रहा है,जिसके बाद इसे 24 घंटे के लिए बंद कर दिया जाएगा।                                  
    साथ ही पूर्व में चल रही कोविड इमरजेंसी को दोबारा शुरू किया जा रहा है। प्रो.मिश्रा ने बताया कि इस बीच संस्थान इमरजेंसी पेसेंट को कोविड इमरजेंसी में लेगा,जिससे उन्हें उपचार में दिक्कत नहीं आए।

Post a comment

Powered by Blogger.