Halloween party ideas 2015


हरिद्वार;




 कोरोना के इस कठिन समय और लॉकडाउन में बीइंग भगीरथ मिशन ने शहर को एक और तोहफा दिया है। मिशन के युवा स्वयंसेवियों ने मिलकर हमेशा की तरह खुद से ही सारी सामग्री जोड़कर हरिद्वार शहर को आई लव हरिद्वार की कलाकृति बनाकर भेंट की है। प्रेम नगर आश्रम पुल पर लगाई गई कलाकृति का उद्घाटन हरिद्वार के विधायक व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के द्वारा किया गया। बीइंग भगीरथ मिशन के संयोजक शिखर पालीवाल ने बताया की हमारा प्रयास शहर की सुंदरता में चार चांद लगाने का है। इन्हीं प्रयासों के तहत मिशन ने पहले भगत सिंह चैक पर वर्टिकल गार्डन स्थापित किया था। वर्टिकल गार्डन में इस्तेमाल की गयी प्लास्टिक की बोतलें गमलों के रूप में सजाई गई हैं। अब अगली कड़ी में हम लोगों ने वेस्ट लोहे से आई लव हरिद्वार की कलाकृति बनाई है। इसमें भी पौधे लगाए गए हैं। इसे इस तरह से बनाया गया है कि इसके सामने खड़े होकर लोग सेल्फी ले सकें और बैकग्राउंड में आई लव हरिद्वार के साथ गंगा मैया का मनोरम नजारा भी सेल्फी में आ सकेगा। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि शहर को सुन्दर बनाने का बीइंग भगीरथ मिशन का का प्रयास काबिले तारीफ है। बीइंग भगीरथ के युवा स्वयंसेवियों की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। इन युवाओं की सबसे अच्छी बात यह है कि वे सब काम बिना सरकारी मदद के अपने संशाधनों से करते हैं। कोरोना महामारी की चलते किए गए लाॅकडान में भी बीइंग भगीरथ मिशन ने पहले दिन से ही रसोई चलाकर लगभग  दो लाख जरूरतमंदों तक भोजन पहुंचाया। शुभम विश्नोई व विपिन सैनी ने बताया कि आजकल निराशाजनक समय चल रहा है। लोगों में हताशा निराशा का माहौल है। ऐसे समय में यह कलाकृति शहर के लोगों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करेगी। अंकित शर्मा व राहुल गुप्ता ने बताया कि टीम के युवा सदस्य हरिद्वार व गंगा मैया की स्वच्छता व सुंदरता के लिए सदैव तत्पर हैं। मोहित शर्मा व वेणु त्यागी ने बताया कि कुंभनगरी हरिद्वार विश्व की अध्यात्मिक राजधानी है। देश दुनिया से प्रतिर्ष करोड़ों लोग गंगा स्नान व दूसरे धार्मिक कर्म संपन्न कराने के लिए यहां आते हैं। ऐसे में बीइंग भगीरथ का प्रयास है कि दुनिया भर से आने वाले लोग हरिद्वार की स्वच्छ, सुन्दर व मनमोहक छवि अपने मन में वापस लेकर जाएं। गौरतलब है कि बीइंग भगीरथ मिशन एक पूर्णतया गैर सरकारी संस्था है। संस्था द्वारा समाज व शहर हित में किए जाने वाले सभी रचनात्मक कार्य स्वयंसेवी अपने संसाधनों से ही करते हैं।

Post a comment

Powered by Blogger.