Halloween party ideas 2015

कोरोना महामारी के चलते उत्तराखंड में भी अन्य राज्यों की भांति अनेक प्रवासी आ रहे है. इनमे बहुत से युवा अपना रोजगार छोड़कर आ गये हैऔर उत्तराखंड के युवाओं के  लिए सरकार ने डाटाबेस तैयार  करने के लिए कदम उठाये है ताकि उनको रोजगार से जोड़ा जा सके. इसी के तहत आज
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को सचिवालय में मंत्रिमंडल की उपस्थिति में  “Hope” (helping out people Everywhere)  पोर्टल का शुभारम्भ किया। 


इस पोर्टल का यू.आर.एल.  hope.uk.gov.in   है। इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य कुशल और अकुशल युवाओं का डाटा बेस बनाना तथा डाटा बेस के आधार पर रोजगार/स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराना है। विदित है कि कुछ दिन पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का शुभारम्भ किया गया था। इस योजना के साथ समन्वय करने में यह पोर्टल महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा।

“Hope”  पोर्टल के माध्यम से उत्तराखण्ड के ऐसे युवा जो विभिन्न राज्यों एवं उत्तराखण्ड में कुशल पेशेवर  Skilled professional हैं तथा वर्तमान में किसी न किसी संस्थान में कार्य कर रहे हैं या जो उत्तराखण्ड में कौशल विकास विभाग के माध्यम से प्रशिक्षण लेना चाहते हैं, ऐसे युवाओं के लिए यह पोर्टल एक सेतु के रूप में कार्य करेगा। इस पोर्टल के डाटा बेस का उपयोग राज्य के समस्त विभाग तथा अन्य रोजगार प्रदाता युवाओं को स्वरोजगार/रोजगार से जोड़ने के लिए करेंगे। 

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की प्रेरणा से इस पोर्टल का निर्माण आईटी विभाग, कौशल विकास विभाग, नियोजन विभाग एवं एनआईसी ने आपसी समन्वय से किया। इस पोर्टल की वेब होस्टिंग उत्तराखण्ड सरकार के आईटीडीए, आईटी पार्क स्थित डाटा सेंटर में की गई है। मुख्यमंत्री कार्यालय से मुख्यमंत्री के आईटी सलाहकार श्री रवीन्द्र दत्त, सचिव आईटी श्री आर.के सुधांशु, सचिव नियोजन श्री अमित नेगी, सचिव कौशल विकास डॉ. रंजीत  कुमार सिन्हा, निदेशक आईटीडीए श्री अमित सिन्हा, एनआईसी के उप महानिदेशक श्री के. नारायण, एनआईसी के तकनीकि निदेशक श्री नरेन्द्र सिंह नेगी ने इस पोर्टल को बनाने में मुख्य भूमिका निभाई।

Post a comment

Powered by Blogger.