Halloween party ideas 2015



आज  देश में मकर संक्रांति का त्यौहार धूमधाम से  मनाया जा रहा है। यह त्यौहार देश के विभिन्न हिस्सों में धार्मिक उत्साह के साथ मनाया जाता  है। हिन्दू मान्यता के अनुसार के अनुसार ग्रहों के राजा सूर्य की उपासना का दिन है ये  । मकर संक्रांति को सूर्य  उत्तरायण में प्रवेश करते  है।

यह त्योहार फसलों की बहुतायत, कल्याण और समृद्धि के लिए मातृ प्रकृति के लिए भी माना जाता है।

गुजरात में, मकर संक्रांति- को उत्तरायण के रूप में जाना जाता है और मुख्य आकर्षण अंतर्राष्ट्रीय पतंग उत्सव है।
आंध्र प्रदेश में यह चार दिवसीय त्योहार  भोगी, संक्रांति, कानुमा और मुकनुमा के नाम से जाना  जाता है.
सर्दियों के दौरान उत्तरी गोलार्ध में धनु से मकर राशि में सूर्य के  संक्रमण को ही मकर सक्रांति  कहते  है।

यह त्योहार फसलों की बहुतायत, कल्याण और समृद्धि के लिए मातृ प्रकृति के लिए धन्यवाद के रूप में भी आता है। उत्सव में चावल, गुड़, हरे चने और तिल से बनी मिठाइयाँ शामिल होती हैं।

मकर संक्रांति का उत्साह और उत्सव भी गहरे विश्वास के साथ मनाया जाता है।

गीता भी देवताओं से आशीर्वाद पाने और पृथ्वी पर महानता प्राप्त करने के लिए अनुकूल समय के रूप में उत्तरायण के महत्व को उजागर करती है। दिन लंबे हो जाते हैं और आध्यात्मिक प्रकाश और ज्ञान में प्रवेश करने के लिए निराशा और भ्रम को दूर करने का संकेत देते हैं।

यह आंध्र प्रदेश में चार दिवसीय त्योहार है, अर्थात, भोगी, संक्रांति, कनुमा और मुकनुमाके नाम से मनाया जाता है । इस अनुष्ठान में राज्य भर के विभिन्न क्षेत्रों में खूब पतंगें उड़ाई जाती हैं और तिलगुड़ ,नए कपड़े ,किताबें और घरेलू उपकरणों की  खरीद की  जाती हैं।

Post a comment

Powered by Blogger.