Halloween party ideas 2015

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद  ने बताया  कि  सुभाष चंद्र बोस सबसे प्रिय राष्ट्रीय नायकों में से एक हैं और भारत के स्वतंत्रता संग्राम के प्रतीक हैं। श्री कोविंद ने कहा, नेताजी का साहस और देशभक्ति लोगों को प्रेरित करती है।

उपराष्ट्रपति ने कहा, सुभाष चंद्र बोस ने लोगों में देशभक्ति की भावना जगाई, जय हिंद ’का नारा दिया और हजारों लोगों को स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए प्रेरित किया। उपराष्ट्रपति ने कहा, 1943 में पोर्ट ब्लेयर में पहली बार तिरंगा फहराने और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को ब्रिटिश शासन से मुक्त करने वाले पहले भारतीय क्षेत्र के रूप में घोषित करने का उनका कार्य हर भारतीय को प्रेरित करता है।


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत अपनी बहादुरी और उपनिवेशवाद का विरोध करने में अमिट योगदान के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस का हमेशा आभारी रहेगा। श्री मोदी ने कहा, सुभाष चंद्र बोस साथी भारतीयों की प्रगति और भलाई के लिए खड़े हुए थे।




सुभाष चन्द्र बोस   का जन्म: 23 जनवरी 1897 को  कटक, उड़ीसा  में हुआ था।   वह  भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी तथा सबसे बड़े नेता माने जाते है । उन्होंने पहली बार  भारत में फौज का गठन  किया।  

 द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये, उन्होंने जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था। उनके द्वारा दिया गया जय हिन्द का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा, बन गया है। "तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा" का नारा भी उनका था जो उस समय अत्यधिक प्रचलन में आया।

कुछ इतिहासकारों का मानना है कि जब नेता जी ने जापान और जर्मनी से मदद लेने की कोशिश की थी तो ब्रिटिश सरकार ने अपने गुप्तचरों को 1941 में उन्हें ख़त्म करने का आदेश दिया था।

नेता जी ने 5 जुलाई 1943 को सिंगापुर के टाउन हाल के सामने 'सुप्रीम कमाण्डर' के रूप में सेना को सम्बोधित करते हुए "दिल्ली चलो!" का नारा दिया और जापानी सेना के साथ मिलकर ब्रिटिश व कामनवेल्थ सेना से बर्मा सहित इम्फाल और कोहिमा में एक साथ जमकर मोर्चा लिया।

21 अक्टूबर 1943 को सुभाष बोस ने आजाद हिन्द फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से स्वतन्त्र भारत की अस्थायी सरकार बनायी जिसे जर्मनी, जापान, फिलीपींस, कोरिया, चीन, इटली, मान्चुको और आयरलैंड ने मान्यता दी। जापान ने अंडमान व निकोबार द्वीप इस अस्थायी सरकार को दे दिये। सुभाष उन द्वीपों में गये और उनका नया नामकरण किया।

1944 को आजाद हिन्द फौज ने अंग्रेजों पर दोबारा आक्रमण किया और कुछ भारतीय प्रदेशों को अंग्रेजों से मुक्त भी करा लिया। कोहिमा का युद्ध 4 अप्रैल 1944 से 22 जून 1944 तक लड़ा गया एक भयंकर युद्ध था। इस युद्ध में जापानी सेना को पीछे हटना पड़ा था और यही एक महत्वपूर्ण मोड़ सिद्ध हुआ।

6 जुलाई 1944 को उन्होंने रंगून रेडियो स्टेशन से महात्मा गांधी के नाम एक प्रसारण जारी किया जिसमें उन्होंने इस निर्णायक युद्ध में विजय के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनायें माँगीं

नेताजी की मृत्यु को लेकर आज भी विवाद है।जहाँ जापान में प्रतिवर्ष 18 अगस्त को उनका शहीद दिवस धूमधाम से मनाया जाता है वहीं भारत में रहने वाले उनके परिवार के लोगों का आज भी यह मानना है कि सुभाष की मौत 1945 में नहीं हुई। वे उसके बाद रूस में नज़रबन्द थे। यदि ऐसा नहीं है तो भारत सरकार ने उनकी मृत्यु से सम्बंधित दस्तावेज़ अब तक सार्वजनिक क्यों नहीं किये? यथा सभंव नेता जी की मौत नही हूई थी

Post a comment

Powered by Blogger.