Halloween party ideas 2015

ऋषिकेश;                                                                                                                                                          
                                                                           अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के तत्वावधान में मुजफ्फरनगर, उत्तरप्रदेश के चरथावल ब्लॉक में वृहद स्वास्थ्य शिविर का  आयोजन किया गया,जिसमें संस्थान के चिकित्सकों की टीम ने 430 से अधिक मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण व उनका उपचार किया।                                                   हेल्थ इज वैल्थ फाउंडेशन के सहयोग से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान द्वारा मुजफ्फरनगर के बधाईकलां गांव में आयोजित स्वास्थ्य शिविर का मुख्यअतिथि एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने विधिवत शुभारंभ किया। इस अवसर पर निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने कहा कि हमें अपनी आमदनी का 50 फीसदी हिस्सा बालिकाओं की शिक्षा पर खर्च करना चाहिए, तभी हम उन्हें सक्षम व सबल बना सकते हैं।                               एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत जी ने कहा कि बालिकाओं के उज्ज्वल भविष्य के लिए उनका ठीक प्रकार से शिक्षित होना जरुरी है, तभी वह अपने परिवार को भी ठीक से आगे बढ़ा सकती हैं। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने बताया कि बच्चे के जन्म से पूर्व गर्भकाल व जन्म लेने के बाद अगले नौ महीने तक जच्चा व बच्चा दोनों को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन की आवश्यकता होती है, उन्होंने बताया कि  प्रोटीन की कमी रहने पर दिमाग का विकास नहीं हो पाता है और दिमाग का पूरी तरह से विकसित नहीं होने से बौद्धिक क्षमता के अभाव में बच्चे का जीवन स्तर आगे नहीं बढ़ पाता। लिहाजा उन्होंने खानपान की ओर विशेष ध्यान देने पर जोर दिया। एम्स निदेशक प्रो.रवि कांत जी ने बताया ​कि उत्तराखंड में हरिद्वार, पौड़ी व टिहरी जिलों व उत्तरप्रदेश में सरावस्ती जिले में अन्य जनपदों के मुकाबले स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति बेहद खराब है। इन जिलों में अन्य की अपेक्षा शिशु मृत्यु दर अधिक है, जिसकी वजह कुपोषण है।                                                                                                                                                                                                                                         आयोजित स्वास्थ्य शिविर में एम्स की ओर से मरीजों को ​स्त्री रोग,नेत्र रोग, त्वचा रोग व जनरल मेडिसिन विभाग की ओर से सेवाएं प्रदान की गई। इस दौरान नेत्र विभाग के विशेषज्ञों ने 150 मरीजों, स्त्री रोग विशेषज्ञ ने 89, त्वचा रोग के 21 व जनरल मेडिसिन विभाग की ओर से 170 मरीजों की सघन जांच व उपचार किया गया।                                                                                                                                                                      इस दौरान फाउंडेशन की ओर से चरथावल विकासखंड, मुजफ्फरनगर के विभिन्न विद्यालयों के 34 अव्वल छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप प्रदान की गई। शिविर में एम्स संस्थान के नेत्र रोग विभाग के प्रोफेसर केपीएस मलिक, व​रिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. शशि प्रतीक,डा. प्रीति,डा. अंकिता, डा. शशिकांत आदि  ने सहयोग प्रदान किया।

Post a comment

Powered by Blogger.