Halloween party ideas 2015



 ऋषिकेश :
उत्तम सिंह

 दिव्यांग प्रमाणपत्र नही होने के चलते सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित शारीरिक रूप से अपंग दिव्यांगों का जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सहारा बनकर आगे आया है। जिसके तहत दिव्यांगों को प्रमाणपत्र बनवाने को अब सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने के लिए भटकना नही पड़ेगा। इसके लिये जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने नई पहल की है। प्राधिकरण की सचिव सिविल जज सीनियर डिवीजन देहरादून नेहा कुशवाह के निर्देशन मे  दिव्यांगों को प्रमाणपत्र बनवाने के लिए इधर उधर भटकने से बचने के लिए पहल के तहत ऋषिकेश क्षेत्र के दिव्यांगों को उनके मेडिकल परीक्षण हेतु जिला चीफ मेडिकल आफिसर देहरादून के कार्यालय आने  व वापस घर ले जाने के लिए रोड ट्रांसपोर्ट आफिसर ऋषिकेश की सहायता से ताकि दिव्यांग जनों निशुल्क वाहन उपलब्ध कराया गया।

जिसके तहत बुधवार को  ऋषिकेश क्षेत्र आए 26 दिव्यांग प्रातः 10 बजे राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश में एकत्र हुए तथा वँहा पर प्राधिकरण द्वारा उपलब्ध कराए वाहन में बैठकर शारीरिक परीक्षण एवं प्रमाणपत्र बनवाने सी एम ओ कार्यालय देहरादून रवाना हुए। प्राधिकरण सचिव नेहा कुशवाह ने बताया कि  दिव्यांगों के शारीरिक परीक्षण के बाद दिव्यांग प्रमाणपत्र बनवाने के लिए तीन चरण बनाये गए है।

 बुधवार को  पहले चरण में ऋषिकेश क्षेत्र के श्यामपुर, गुमानीवाला, बापुग्राम, भल्लाफार्म, खदरी खड़कमाफ क्षेत्र से 26 दिव्यांग शारीरिक परीक्षण व प्रमाणपत्र बनवाने क्षेत्र में कार्यरत  पी. एल. वी. की सुरक्षा व  देखरेख में सी एम ओ कार्यालय देहरादून रवाना हुये । उन्होंने बताया कि आगामी चरण में 20 दिव्यांगे को शारीरिक परीक्षण व तदुपरांत प्रमाणपत्र बनवाने सी एम ओ कार्यालय देहरादून लाने व वापस आने की निशुल्क व्यवस्था की गई है। ताकि क्षेत्र का कोई भी पात्र दिव्यांग प्रमाणपत्र से वंचित न  रह सके।  इस अवसर पर विभा नामदेव, एस एम सिलस्वाल, मीनाक्षी कपरूवान, मधुश्री,सीमा कटारिया, रूपेश व सुनीता मौजूद रहे ।

Post a comment

Powered by Blogger.