Halloween party ideas 2015

शीतकालीन गद्दीस्थल में विराजमान हुई आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी


जोशीमठ :


आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर से  श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंची।  गढ़वाल स्काट के बेंड की धुनों एवं श्रद्धालुओं ने जय बदरी-विशाल के जयकारे लगाये।इस अवसर पर सैकड़ों श्रद्धालुओं ने दर्शन किये। 

इससे पहले  रावल  ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी जी  विष्णु प्रयाग संगम पर गंगा आरती में भी  सम्मलित हुए तथा सीमा सड़क संगठन के मारवाड़ी स्थित केंप में रावल जी का भब्य स्वागत हुआ।

श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल सहित मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह, पूर्व मुख्य कार्याधिकारी जगत सिंह बिष्ट, किशोर पंवार, उप मुख्य कार्याधिकारी सुनील तिवारी एवं सहायक अभियंता विपिन तिवारी,  वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी गिरीश चौहान, सहायक मंदिर अधिकारी राजेन्द्र चौहान, प्रशासनिक अधिकारी - डीएस भुजवाण, दीपक नौटियाल एवं कुलदीप भट्ट, विजेंद्र बिष्ट, लेखाकार भूपेंद्र रावत, कमेटी सहायक संजय भट्ट, पुजारी सुशील डिमरी,   नृसिंह मंदिर प्रभारी संदीप कपरवाण, संजय चमोली, संदेश मेहता  प्रबंधक  सतीश नेगी,  एवं अजय सती, रामप्रसाद थपलियाल  सहित स्थानीय जनता, जन प्रतिनिधियों ने जोशीमठ में आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी  एवं रावल जी की आगवानी की।

 डोली के साथ धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, मंदिर अधिकारी मोहन सती, सहित  अपर धर्माधिकारी सत्य प्रसाद चमोला,अपर धर्माधिकारी राधाकृष्ण थपलियाल एवं वेदपाठी  रविन्द्र भट्ट,   मीडिया प्रभारी डा हरीश गौड़,  विश्वनाथ,दफेदार कृपाल सनवाल, परमेश्वर डिमरी, घनश्याम जोशी सहित बड़ी संख्या में तीर्थयात्री भी नृसिंह मंदिर पहुंचे।
दर्शन के प्रश्चात आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी को गद्दी स्थल में विराजमान किया गया।  इस अवसर पर रावल जी सहित अध्यक्ष मंदिर समिति एवं मुख्य कार्याधिकारी सहित सभी अधिकारी, कर्मचारी एवं श्रद्धालुगण पूजा में सम्मलित हुए।   महिलाओं द्वारा मंगल गान तथा भजन कीर्तन आयोजित किया।

मंदिर समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल ने कहा कि श्री  उद्धव जी एवं कुबेर जी योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर तथा आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी के नृसिंह मंदिर स्थित गद्दी स्थल में शीतकाल में दर्शन होंगे, उन्होंने देश विदेश के श्रद्धालुओ से अपील की है कि शीतकाल में  श्री योग-ध्यान बदरी पांडुकेश्वर, नृसिंह मंदिर जोशीमठ सहित श्री केदारनाथ जी के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ, तुंगनाथ जी के शीतकालीन गद्दीस्थल मक्कूमठ, कालीमठ, विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी, त्रिजुगीनारायण सहित अधीनस्थ मंदिरों के दर्शन को
पहुंचे।
मंदिर परिसर में  श्री नृसिंह ग्रुप जोशीमठ द्वारा भंडारा आयोजित किया गया।  भंडारे में ग्रुप के पदाधिकारी प्रकाश नेगी,सुधीर शर्मा,प्रदीप भट्ट, अवधेश अग्रवाल,पंकज बिष्ट, मुकेश रावत ने सहयोग किया। अपराह्न के समय एनटीपीसी एवं गढ़वाल स्काट में रावल जी का स्वागत हुआ। कार्यक्रम में सेना के अधिकारी एवं जवान उपस्थित रहे। कल  प्रात: रावल जी नृसिंह मंदिर से प्रस्थान कर  श्री गोपीनाथ मंदिर गोपेश्वर सहित विभिन्न मंदिरों के दर्शन को पहुंचेगे।
आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी के नृसिंह मंदिर जोशीमठ स्थित गद्दी स्थल में विराजमान होते ही श्री बद्रीनाथ यात्रा वर्ष 2019 के सफल समापन पर मंदिर समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, उपाध्यक्ष अशोक खत्री एवं  सभी सदस्य गणों तथा मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह ने यात्रा ब्यवस्था से जुड़े शासन- प्रशासन, सेना आईटीबीपी, सीमा सड़क संगठन  एवं सभी दानीदाताओं, हक-हकूकधारियों, तीर्थयात्रियों   का आभार जताया है।

Post a comment

Powered by Blogger.