Halloween party ideas 2015

यात्रा वर्ष 2019

तृतीय केदार तुंगनाथ जी
के कपाट आज 6 नवंबर को पूर्वाह्न 11.30 बंद हुए।

 चोपता/ उखीमठ:



तृतीय केदार श्री तुंगनाथ जी के कपाट शीतकाल हेतु  आज  6 नवंबर प्रात: 11.30 बजे  बंद हो गये हैं। इस अवसर पर सैकड़ों श्रद्धालुओं ने दर्शन किये।  प्रातः से कपाट बंद की प्रक्रिया शुरू हुई। पूजा अर्चना,  श्रृंगार, मंदिर में भोग लगने के पश्चात स्वयंभू शिवलिंग को समाधि दी गयी इसके पश्चात तृतीय केदार तुंगनाथ जी के कपाट शीतकाल हेतु बंद किये गये।
कपाट बंद होते ही चल विग्रह डोली ने मंदिर की परिक्रमा की तथा शीतकालीन गद्दी स्थल हेतु प्रस्थान हुई।   उत्सव डोली ने प्रथम पड़ाव  चोपता  के लिए प्रस्थान किया। मार्ग पर उत्सव डोली का भब्य स्वागत हो रहा है। उत्सव डोली   कल 7 नवंबर को  भनकुन प्रवास करेगी  8 नवंबर     शीतकालीन  गद्दीस्थल मक्कूमठ पहुंचेगी।
 श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर  समिति के उपाध्यक्ष अशोक खत्री,मठापति रामप्रसाद मैठाणी, प्रबंधक प्रकाश पुरोहित, बलबीर नेगी, पुजारी विजय भारत मैठाणी, सुबोध मैठाणी आदि मौजूद रहे। चोपता पहुंचने पर मंदिर सुपरवाइजर यदुवीर पुष्पवान डोली की अगवानी करेंगे।
मंदिर समिति मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़ ने बताया है कि  इस यात्रा वर्ष  16 हजार से अधिक श्रद्धालु  बाबा तुंगनाथ  पहुंचे। मीडिया प्रभारी द्वारा  जारी प्रेस  बयान में श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल सहित उपाध्यक्ष अशोक खत्री एवं मुख्य कार्याधिकारी बी.डी. सिंह कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी ने यात्रा  समापन अवसर पर प्रसन्नता जताई है।

Post a comment

Powered by Blogger.