Halloween party ideas 2015

 धनौल्टी:

 देवेंद्र बेलवाल 

गणेश चतुथदशी पर सुप्रिद्व महासू देवता का जागडा पर्व

ग्राम बिरोड व म्याणी में धूमधाम से मनाया गया । जिसमें भारी संख्या में श्रद्धालुओ ने दर्शन कर सुखः समृद्धि की गुहार मांगी |

प्रखड जौनपुर के तहत पट्टी लालूर के ग्राम बिरोड व म्याणी में महाशू देवता का जागडा प्रति वर्ष की भांती इस बार भी प्रातः पूजा अर्चना के बाद डोली मंदिर से बाहर आते ही दर्जनों देवता के पश्वा अवतारित हुए, और भारी संख्या में देवता के पश्वा अवतारित हुए । दोपहर बाद ढोल – नगाडे व रणसिंगा के साथ डोली स्नान को बद्रीगाड नदी गई । इस दौरान डोली ग्राम बडेल नकोट नैग्याणा श्रीकोट बसाणगांव से 9 बजे बिरोड पंहुची | जहा भारी संख्या में भारी संख्या जिनकी मन्नते पूर्ण होने पर बकरा चढ़ाया, और दर्शन कर मन्नते मांगी । इस बार देवता भेंट में लगभग 130 बकरें चढाय गये ।

महाशू की देव डोली को सभी लोगों ने धूमाधूमा नचाने के बाद विराजमान हुई ।

मुख्य बात है कि जागडें दिन स्वयं के साथ भूमि का विवाद या अपने साथ हुए अन्याय के समाधान पर को महाशू के चौखट में एक मुठी चावल डालने से देवता न्याय व अन्याय का फैसला करना शुरू कर देता है। और मन्नत पूरी होने पर जिसका प्रमाण आज जागडे पर्व मे दोपहर बाद तक लगभग 150 बकरा चढाव के रूप में आए है।

रात्री को जागरण कार्यक्रम आयोजित किया गया । जिनमें भंजन व लोक संस्कृति पर जमकर लोग थिरके । और प्रातः मंदिर गर्मग्रह 4 बंजे स्वय देव मूर्ति दूध व दही से स्नान करते है , जो क़ि मंदिर में चारो संकेत देखने की मिलते है ।



इंद्रदेव डोमाल ,योगेश्वर प्रसाद नौटियाल, इंद्रदेव डोमाल, सुन्दर लाल आदि का कहना है कि महाशू देवता की मूल थाना हनोल में है ,लेकिन प्राचीन काल से ऐतिहासिक जागडा पर्व मनाते आ रहे । जो भी सच्चे मन से महाशू मन्ते मागने पूरी होती है। और दूर दराज क्षेत्र से सैकेडो लोग बकरा चढ़ाते है ।

इस मौके पर राजपुर के विधायक खजान दास ,सोहन लाल डोभाल ,नरेश नौटियाल ,बिरेन्द्र गौड ,नरेश बडोनी ,ताजीराम ,सोहन लाल नौटियाल ,रमेश , वूटाराम, महादेव प्रसाद मुन्ना गौड आदि उपस्थित थे

Post a Comment

Powered by Blogger.