Halloween party ideas 2015


देहरादून:

 


 जिलाधिकारी श्रीमती सोनिका की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें 46 शिकायतें प्राप्त हुई जिनमें अधिकतर शिकायतों संबंधित विभाग के अधिकारियों द्वारा मौके पर ही निस्तारण किया गया। तथा शेष शिकायतों कोजिलाधिकारी द्वारा यथाशीघ्र निस्तारण करने के निर्देश दिए।
आज जनसुनवाई कार्यक्रम में अतिक्रमण, भूमि कब्जा, भूमि मुआवजा कम मिलने, पेंशन, दाखिल खारिज, सीमांकन, पेयजल कनेक्शन दिलाने, भूमि की सर्वे रिर्पोट, अवैध निर्माण, भूमि पर कब्जा दिलाने, शासकीय भूमि से अतिक्रमण हटाने, कोविड के दौरान शासकीय सेवाओं में लगे वाहनों का भुगतान दिलाने आदि शिकायतें प्राप्त हुई

 

                        
जिलाधिकारी ने समस्त विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जनसुनवाई में उनके विभाग से संबंधित प्राप्त हो रही शिकायतों का समयबद्ध निस्तारण करने के साथ ही अपने विभागों की समस्याओं की समीक्षा करते हुए विभागीय स्तर पर समस्याओं का समाधान करें ताकि लोगों को अनावश्यक न भटकना पड़े।
उन्होंने कहा कि शिकायत का 1 से अधिक बार जनसुनवाई में आना गंभीरता से लिया जाएगा। सभी अधिकारी यह सुनिश्चित करें की जनसुनवाई में प्राप्त हो रही शिकायत का समयबद्ध निस्तारण हो जाए तथा जिन शिकायतों के निस्तारण में समय लग रहा है उसकी प्रगति से शिकायतकर्ता को अवगत करा दिया जाए।
जनसुनवाई में मुख्य विकास अधिकारी झरना कमठान, अपर जिलाधिकारी प्रशासन डाॅ0 शिव कुमार बरनवाल, निदेशक ग्राम्य विकास अभिकरण आर.सी तिवारी, नगर निगम, एमडीडीए, समाज कल्याण, राजस्व आदि संबंधित समस्त विभागों के अधिकारी/कार्मिक उपस्थित रहे तथा उप जिलाधिकारी ऋषिकेश शैलेन्द्र नेगी, चकराता सौरभ असवाल, विकासनगर विनोद कुमार एवं डोईवाला युक्ता मिश्रा वर्चुअल माध्यम से जनसुनवाई में जुड़े रहे।



विधायक रायपुर विधानसभा उमेश शर्मा काऊ एवं जिलाधिकारी श्रीमती सोनिका की सयुंक्त अध्यक्षता में ऋषिपर्णा सभागार कलेक्ट्रेट में संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ जनपद में घटित दैवीय आपदा घटना में राहत एवं बचाव कार्य के संबंध में समीक्षा बैठक हुई। 

 



बैठक में विधायक उमेश शर्मा काऊ ने लोनिवि, पीएमजीएसवाई, जल संस्थान, जल निगम, विद्युत, शिक्षा, वन विभाग, खाद्य एवं आपूर्ति सहित संबंधित विभागों के अधिकारियों से राहत बचाव कार्य की अद्यतन जानकारी लेते हुए कहा कि क्षेत्र में हुई आपदा के दृष्टिगत जनजीवन को सामान्य बनाने तथा लोगों को सहायता पहुंचाने में किसी भी तरह की लापरवाही न बरती जाए। 

उन्होंने सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों को कहा कि अपने विभाग से संबंधित हुई क्षति का सही प्रकार से आकंलन करते हुए पुनःनिर्माण एवं अन्य कार्य में तेजी लाए ताकि क्षेत्र के प्रभावित लोगों को किसी भी तरह की असुविधा न हो। उन्होंने कहा कि सरकार आपदा से प्रभावित लोगों की हर स्तर पर मदद एवं सुविधा मुहैया कराने में अग्रसर है। उन्होंने कहा कि सड़क, पेयजल, विद्युत आपूर्ति, स्वास्थ्य, खाद्यान आदि मूलभूत सुविधा की उपलब्धता बनाने में कठिनाई नहीं होनी चाहिए।
जिलाधिकारी श्रीमती सोनिका ने आईआरएस सिस्टम से जुड़े अधिकारियों को अर्लट रहते हुए मौसम विभाग द्वारा जारी किए जा रहे पूर्व अनुमान/अलर्ट पर संबंधित क्षेत्र में कार्यरत विभागीय अधिकारियों/कार्मिकों को सक्रिय रहने तथा क्षेत्रीय लोगों को अलर्ट करते हुए संभावित आपदा के दृष्टिगत सुरक्षित स्थान चिन्हित करने के निर्देश दिए ताकि जानमाल के नुकसान को रोका जा सके।

 उन्होंने आपदाग्रस्त क्षेत्रों में पहुंचाई जा रही सहायता/रसद समय पर पहुंचाने एवं आपदाग्रस्त क्षेत्रों में राहत एवं बचाव, दवाईयों का छिड़काव, सफाई व्यवस्था के साथ ही लोगों की स्वास्थ्य जांच कराने के निर्देश दिए। साथ ही जनपद में क्षतिग्रस्त हुई विद्युत, पेयजल, लाईन एवं सड़कों को सुचारू करते हुए जनसामान्य को पटरी पर लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी आपस में बेहतर तालमेल बनाकर कार्य करना सुनिश्चित करेंगे। कहा कि लापरवाही की दशा में संबंधित के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। 


बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन डाॅ0 शिव कुमार बरनवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 मनोज कुमार उप्रेती, सहायक नगर आयुक्त नगर निगम, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी दीपशिखा रावत सहित संबंधित समस्त विभागों के अधिकारी एवं कार्मिक उपस्थित रहे।

Post a Comment

Powered by Blogger.