Halloween party ideas 2015

  उत्तराखंड राज्य के नॉन वोवेन कैरी बैग इंडस्ट्री के अलग-अलग जिले से आये हुए व्यापारियों द्वारा अपनी समस्याओं को पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के समक्ष रखा।

 व्यापारियों  द्वारा बताया गया कि जो कैर्री बैग नॉन वोवेन मैटीरियल से बनते है एक तो वह सिंगल यूज़ में नही आते और कई बार इस बैग को कस्टमर द्वारा यूज़ किया जा सकता है, धोया जा सकता है यह बेग फटने के बाद भी दुबारा रीसायकल किया जा सकता है और इसे किसी के भी द्वारा सड़क पर या कूड़े में भी फेक देता है तो भी यह कैरी बैग मिनिमम 6 महीने में मिट्टी में ही डिस्पोज़ ऑफ हो जाता है और इससे पर्यावरण को कोई दिक्कत नही होती।

 भारत सरकार द्वारा भी इस कैरी बैग को जो कि 60 GSM तक होगा उसे बेन नही किया गया है। उत्तराखंड के आस पास के राज्यो उत्तर प्रदेश ओर हिमाचल प्रदेश में भी इसे बेन नही किया गया है।

सभी व्यापारियों ने  उत्तरखंड राज्य में  बेन किए जाने पर खेद जताया। लगभग 400 से 500  उद्योगपतियों के साथ सीधे सीधे कई लाख परिवार, छोटे व्यापारी  जुड़े हुए है जिनके रोज़गार प्रभावित होंगे।


इस पर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा आश्वासन दिया गया कि उनके द्वारा इस संदर्भ में जल्द ही पत्र लिख कर राज्य सरकार को भेजा जाएगा।

 इस अवसर पर दून वैली महानगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज मेसोन के साथ राज्य के अलग अलग जनपदों से आये हुए व्यापारी रहे निशिता मित्तल (रामनगर) पुनीत शाह (हल्दवानी) राजकुमार पाहवा,प्रतीक गर्ग,राहुल सक्सेना तरुण जैन  विश्वास कपूर,वैभव गुप्ता,आशीष गुप्ता (देहरादून) हिमांशु पंत (पिथोरागढ़) गौतम चौहान (चमोली) अरविंद शर्मा,विपिन प्रसाद,सूरज सिंह (सेलाकुई) रोबिन मुयाल,सागर (रुद्रपुर) आदि ।

Post a Comment

Powered by Blogger.