Halloween party ideas 2015

 वृक्षारोपण के लिए हरेक व्यक्ति को आगे आने की जरूरतः त्रिवेंद्र

चार साल पहले लगाए पौधों से विकसित हरा भरा जंगल देख प्रफूल्लित हुए पूर्व सीएम


देहरादून:


Karwaan village plantation



विश्व पर्यावरण दिवस पर पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राजपुर के ग्राम सभा शेरा के कैरवान गांव में पौधा रोपा। चार साल पहले मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने रिस्पना नदी के पुनर्जीवन के लिए कैरवान गांव में स्कूली बच्चों, वन विभाग और जनसहयोग से पौधरोपण किया था। आज यहां सुंदर हरा-भरा जंगल विकसित होते देख पूर्व मुख्यमंत्री काफी प्रफूल्लित हुए। 

इस मौके पर देवभूमि विकास संस्थान द्वारा कैरवान गांव में ही विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पृथ्वी पर बढ़ता तापमान एक चुनौती विषय पर आयोजित गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रत्येक व्यक्ति का आह्वान किया कि आज वैश्विक पर्यावरण के संरक्षण और संवर्द्धन के लिए एक पौधा जरूर लगाएं। उन्होंने कहा कि कैरवान गांव में हमने चार साल पहले एक प्रयोग शुरू किया था। सामुदायिक जंगल के लिए स्थानीय लोग, स्वयं सेवी संस्था और सरकार मिलकर किस तरह से सफलता पूर्वक कार्य कर सकते हैं कैरवान गांव में विकसित यह जंगल इसका जीता जाता प्रमाण है। 

 उन्होंने कहा कि जब हमने कैरवान गांव की इस पहा़ड़ी पर पौधरोपण किया उस समय यहां पर मिट्टी नहीं थी, पथरीली जमीन थी। पौध नहीं हो रहे थे, लेकिन हमने मिलकर प्रयास किया, मिट्टी की व्यवस्था की, पौधों की निरतंर देखभाल की और आज यहां बहुत खूबसूरत हरा भरा जंगल लहलहा रहा है। हम सभी को आज गंभीरता से सोचने की जरूरत है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए किस तरह से हमारा योगदान हो सकता है। उन्होंने कहा कि हर कार्य के लिए सरकार पर निर्भरता नहीं होनी चाहिए। जनसहभागिता, स्वयं सेवी संस्थाओं के साथ मिलकर यदि हम कार्य करते हैं उसमें जरूर हमें सफलता मिलती है। उन्होंने घरों में बरसाती पानी के संग्रहण के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था पर भी जोर दिया। वृक्षों के लिए पानी का रोना रोने वाले के लिए उन्होंने जल गांव का उदाहरण दिया। जहां सप्ताह में केवल दो दिन पीने का पानी आता है बावजूद वहां दुनिया की तीन बड़ी इंडस्ट्रीज है। देश का 20 फीसदी केले का उत्पादन जल गांव करता है। 

  भारतीय वन अनुसंधान संस्थान के निदेशक डा. अरुण रावत ने सामुदायिक प्रयासों से विकसित कैरवान के हरे भरे जंगल को पर्यावरण संरक्षण के लिए एक महत्वपूर्ण प्रयास बताया। यह उसका उदाहरण है कि जन सहभागिता से सरकार कैसे कार्य कर सकती है। यूसैक के निदेशक एमपीएस बिष्ट ने कहा कि आज हर व्यक्ति को पर्यावरण को बचाने की न केवल चिंता करने की जरूरत है, बल्कि इसमें सहयोग देने के लिए आगे आने की भी आवश्यकता है। मसूरी की डीएफओ कहकशा नसीम, डीएवी कालेज के पूर्व प्रोफेसर डा. प्रीतम सिंह नेगी ने भी पर्यावरण संरक्षण को लेकर अपने विचार रखे। 

इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कैरवान गांव में पौधों की निरंतरण देखभाल करने में सहयोगी वन विभाग, सिविल डिफेंस के लोगों को प्रोत्साहन हेतु सम्मानित किया। इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री ने वहां पौधरोपण किया और हरे भरे जंगल का भ्रमण किया। कार्यक्रम में विधायक डोईवाला श्री बृजभूषण गैरोला, मेयर देहरादून श्री सुनील उनियाल गामा, मेयर ऋषिकेश श्रीमति अनिता ममगाईं, जिलाध्यक्ष भाजपा श्री शमशेर सिंह पुंडीर, पूर्व राज्यमंत्री श्री शमशेर सिंह सत्याल, पृथ्वीराज चौहान, राजेश शर्मा, जिला पंचायत सदस्य वीर सिंह चौहान, महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट, उमेश्वर रावत आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन देवभूमि विकास संस्थान के महामंत्री सत्येंद्र् नेगी ने किया।

Post a Comment

Powered by Blogger.