Halloween party ideas 2015

  • एसडीआरएफ के गंगोत्री -I(21889 फिट) पर्वतारोहण अभियान 2021 का किया गया फ्लैग ऑफ
  • पुलिस में खेल कोटे में भर्ती जल्द
  • उत्तराखण्ड धर्म स्वतंत्रता अधिनियम 2018 को और सख्त बनाया जाएगा




मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस मुख्यालय देहरादून में पुलिस विभाग द्वारा तैयार की गई ‘‘पब्लिक आई एप’’ तथा महिला सुरक्षा हेतु ‘‘ मिशन गौरा शक्ति’’ एप का शुभारम्भ किया। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने एसडीआरएफ द्वारा पर्यावरण संरक्षण, कोविड जागरूकता, हानिकारक कूड़े के निस्तारण व जोखिम पूर्ण स्थानों के चिन्हीकरण के लिए चलाये जा रहे माउण्ट गंगोत्री-1 पर्वतारोहण अभियान का फ्लैग ऑफ भी किया। इंस्पेक्टर एसडीआरएफ सुश्री अनीता गैरोला के नेतृत्व में 09 सितम्बर से 30 सितम्बर तक चलाया जायेगा। अभियोगों की विवेचना में गुणात्मक सुधार तथा सफल अनावरण हेतु मुख्यमंत्री द्वारा विवेचकों को स्मार्ट एविडेंस टूलकिट टेबलेट प्रदान किये गये।

जल्द बनेगी एंटी ड्रग पालिसी

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी  ने उत्तराखण्ड पुलिस की समीक्षा बैठक भी ली। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि पुलिस में खेल कोटे की भर्ती शुरू की जायेगी। पीएसी के जवानों को बसों की व्यवस्था की जायेगी।  उत्तराखण्ड में शीघ्र एंटी ड्रग पॉलिसी बनायी जायेगी। पुलिस विभाग में रिक्त पदों पर जल्द भर्ती की जायेगी। पुलिस विभाग के आरक्षियों के ग्रेड पे के संबंध में  कैबिनेट सब कमेटी का गठन किया गया है। इसमें जल्द उचित समाधान निकाला जायेगा।

अपराधियों को पकड़ने हेतु पुरस्कार राशि बढ़ायी जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि  उत्तराखण्ड धर्म स्वतंत्रता अधिनियम 2018 को और सख्त बनाया जायेगा। बाहरी राज्यों से उत्तराखण्ड में आने वाले लोगों के सत्यापन की प्रक्रिया को और मजबूत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस व्यवस्था किसी भी राज्य की सुरक्षा एवं समृद्धि का एक आवश्यक अंग है। उत्तराखंड पुलिस द्वारा राज्य में अच्छा कार्य किया जा रहा है।

इनामी अपराधियों को पकड़ने हेतु पुरस्कार राशि बढ़ायी जाएगी। कोरोना काल में पुलिस द्वारा मिशन हौंसला के तहत सराहनीय कार्य किया गया। उन्होंने कहा कि स्मार्ट पुलिस बनाने का जो विजन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का है। उसको पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।  उत्तराखण्ड पुलिस को आधुनिक बनाने में जो भी आवश्यकता होगी उसे पूरा करने का प्रयास किया जायेगा। उन्होंने कहा कि  कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, सब इंस्पेक्टर एवं इंस्पेक्टर को कोविड-19 में उनके द्वारा किये जा रहे सराहनीय कार्यों एवं सेवाओं 10 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि जल्द दी जायेगी।

साइबर क्राइम को रोकने के लिये ठोस रणनीति बनाएं*

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस विभाग की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को निर्देश दिये कि साइबर क्राइम को रोकने के लिए लिए ठोस रणनीति बनाई जाय। यातायात के नियमों, रोड सेफ्टी के प्रति लगातार जागरूकता अभियान चलाया जाय। ट्रैफिक लाइट एवं सीसीटीवी निगरानी की समुचित व्यवस्था की जाय। कार्यों के प्रति प्रत्येक स्तर पर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाय। थाना या चौकी स्तर के मामले जिले स्तर पर न आए। जिला स्तर के मामले मुख्यालय स्तर एवं शासन स्तर पर न आये। जिसकी जो जिम्मेदारी है, अपने स्तर पर शीघ्र उसका समाधान करें। महिला सुरक्षा, यातायात प्रबंधन, नशा मुक्ति एवं साइबर क्राइम जैसी चुनौतियों से निपटने के लिए विशेष योजनाएं बनाई जाय।

*मिशन गौरा शक्ति अभियान*

 महिलाओं की सुरक्षा के प्रति सजग एवं प्रभावी पहल के लिए उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा मिशन गौरा शक्ति अभियान चलाया जायेगा। इसके तहत छेड़खानी जैसी घटनाओं में प्रभावी कार्यवाही, बालिकाओं को आत्मरक्षा हेतु प्रशिक्षण एवं शिकायत निवारण तंत्र को और अधिक मजबूत बनाया जायेगा। इसके तहत पीड़िता इमरजेंसी की स्थिति में डायल कर तुरंत पुलिस सहायता प्राप्त कर सकती है। ऑनलाईन ऑडियो, वीडियो एवं टेक्स्ट मैसेज के माध्यम से शिकायत दर्ज कर सकती हैं। आपात स्थिति में 112 पर कॉल कर सकते हैं। अपनी शिकायत पर संबंधित पर हुई कार्रवाई की जानकारी प्राप्त कर सकती है। एप के माध्यम से पुलिस के अन्य ऑफिसियल सोशल मीडिया अकाउंट पर भी संपर्क कर सकती हैं।

*पब्लिक आई एप*


 उत्तराखण्ड प्रदेश की जनता अपनी शिकायतों के साथ-साथ आसपास घटित हो रहे आपराधिक या विधि का उल्लंघन करने वाले कृत्यों की फोटो या वीडियो बनाकर पुलिस को भेज सकते हैं। शिकायतकर्ता अपने द्वारा पूर्व में की गई शिकायत व उस पर हुई कार्यवाही की प्रगति के बारे में जान सकते हैं। साइबर क्राइम के बारे में शिकायत दर्ज की जा सकती है। किसी भी प्रकार की ट्रेफिक समस्या या सड़क दुर्घटना के संबंध में फोटो या वीडियो बनाकर कार्यवाही हेतु अपलोड किया जा सकता है। आपात स्थिति में 112 नंबर पर कॉल कर सकते हैं। 

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्री आनन्द बर्द्धन, पुलिस महानिदेशक श्री अशोक कुमार, सचिव श्री अमित नेगी, श्री अरविन्द सिंह ह्यांकी एवं पुलिस के सभी वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 उत्तराखण्ड राज्य आपदा के प्रति संवेदनशील है। जलवायु परिवर्तन, ग्लोबल वार्मिंग एवं प्रकृति से मानवीय छेड़ छाड़ के तात्कालीक प्रभावों के रूप में प्राकृतिक एवं मानवजनित आपदाओं की संख्या एवं विभीषिका निःसन्देह ही विगत वर्षों में बढ़ी है। देश व प्रदेश स्तर पर इन आपदाओं के दंश से निपटने के लिए एस. डी. आर. एफ दक्ष है और अपनी कार्यकुशलता में वृद्धि कलिये निरन्तर प्रयत्नशील भी है।

  स्थापना के पश्चात से ही एस. डी. आर. एफ द्वारा प्रत्येक छोटी-बड़ी आपदा,भूस्खलन,सड़क दुर्घटना,जल रेस्क्यू,चार धाम यात्रा,कैलाश मानसरोवर यात्रा,कांवड़,महाकुम्भ इत्यादि में अपनी विशेषज्ञता एवं दक्षता सिद्ध की है।एस. डी. आर. एफ द्वारा समय के साथ साथ विशेषज्ञता प्राप्त कर विभिन्न विशिष्ट शाखाओं को भी विकसित किया है। जिसके अंतर्गत पैरामेडिक्स, टेक्निकल टीम , श्वान दल, वाटर सर्च एंड रेस्क्यू टीम तथा उच्च तुंगता टीम है।कोरोना काल में सभी प्रशिक्षण कार्य बाधित रहे। एक ओर जहां अन्य टीमों का व्यवहारिक प्रशिक्षण दैनिक घटनाओँ में रेस्क्यू के दौरान एवं इसके अतिरिक्त भी वाहिनी स्तर पर हो जाता है। वही उच्च तुंगता टीम का व्यवहारिक प्रशिक्षण कोरोनकाल के कारण बाधित रहा।

 पुलिस उप- महानिरीक्षक ,एस. डी. आर. एफ श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल एवं सेनानायक एस. डी. अर.एफ़ श्री नवनीत सिह द्वारा उच्चाधिकारियों का ध्यान  इस ओर आकृष्ट किया गया व इनके सतत प्रयासों से माउंट गंगोत्री-I पर्वतारोहण अभियान का आगाज़ हुआ।

                इस अभियान के माध्यम से नए कर्मियों को उच्चतुंगता प्रशिक्षण दिया जाएगा एवं पूर्व में प्रशिक्षित कर्मीयों को पारंगतता हासिल करना का स्वर्णिम अवसर मिलेगा। कठिन चयन प्रक्रिया के उपरान्त 19 अधिकारी /कर्मचारियों को इस अभियान में शामिल किया गया है।

   आज दिनांक 09 सितम्बर 2021 को माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड, श्री पुष्कर सिंह धामी के कर कमलों से इस 19 सदस्यीय पर्वतारोहण टीम को हरी झंडी दिखाकर, विधिवत फ्लैग ऑफ सेरेमनी की गई। एस. डी. आर. एफ द्वारा इस अभियान के माध्यम से एक नया कीर्तिमान रचने की तैयारी है। यह उत्तराखंड पुलिस के इतिहास में पहली बार है कि पर्वतारोहण के ऐसे जोखिमभरे अभियान की कमान एक महिला ,इंस्पेक्टर सुश्री अनिता गैरोला को दी गयी है।इसके अतिरिक्त 19 सदस्यीय पर्वतारोहण टीम में दो महिला आरक्षियों ,सुश्री स्वाति आले एवम सुश्री प्रीति मल  को भी प्रथम बार सम्मिलित किया गया है।महिला सशक्तीकरण का अनूठा उदाहरण देता एस. डी.आर. एफ का यह अभियान निष्चित रूप में प्रदेश की सभी नारीशक्ति में साहस एवं नई ऊर्जा का संचार करेगा।

 पुलिस मुख्यालय देहरादून में फ्लैग ऑफ कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री उत्तराखंड द्वारा एस. डी. आर. एफ. को गंगोत्री-I पर्वतारोहण  अभियान के सफल आरोहण के लिए हार्दिक शुभकामनाएं दी गई।   

इस अवसर पर उत्तराखण्ड शासन से अपर सचिव गृह- श्री आनंद बर्धन, सचिव कार्मिक- श्री अरविंद सिंह ह्यांकी, सहित पुलिस विभाग के अपर पुलिस महानिदेशक- पीएसी- श्री पी वी के प्रसाद, अपर पुलिस महानिदेशक प्रशासन- श्री अभिनव कुमार, पुलिस महानिरीक्षक पीएम- श्री अमित सिन्हा, पुलिस महानिरीक्षक अपराध एवं कानून व्यवस्था- श्री वी मुरुगेशन, पुलिस महानिरीक्षक अभिसूचना एवं सुरक्षा- श्री संजय गुंज्याल, पुलिस महानिरीक्षक कार्मिक- श्री ए पी अंशुमान, पुलिस महानिरीक्षक SDRF- श्री पुष्पक ज्योति ,पुलिस उप महानिरीक्षक एस. डी. आर. एफ श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल एवम सेनानायक एस. डी. आर. एफ श्री नवनीत सिंह  के साथ  अन्य अधिकारी भी कार्यक्रम में उपस्थि रहे।

 

Post a Comment

Powered by Blogger.