Halloween party ideas 2015


 उत्तरकाशी में आफत की बारिश , बादल फटा,एसडीआरएफ द्वारा रेस्क्यू


बारिश को लेकर मौसम विभाग का अनुमान एक बार फिर सही साबित हुआ। 




राज्य के कई जिलों में जहां अत्यंत भारी वर्षा जारी है ,वहीं उत्तरकाशी जिले के मांडव गांव में बादल फटने से घरों में मलबा घुस आया। उक्त के संदर्भ में उज्जेली (जिला उत्तरकाशी) में तैनात एसडीआरएफ के टीम प्रभारी , निरीक्षक श्री जगदम्बा प्रसाद को डीडीएमओ, उत्तरकाशी  द्वारा सूचित कराया गया कि पोस्ट से लगभग 3 की .मी. आगे गंगोरी रोड पर मांडव गांव में नाले से पानी आने पर गांव में कुछ व्यक्ति फंसे है । 

उक्त सूचना पर टीम तुरंत घटनास्थल हेतु रवाना हुई,जहां बादल फटने के कारण घरों में मलबा घुस आया था व दो महिलाओं व एक बच्ची का पता नहीं लग पा रहा था। एसडीआरएफ टीम द्वारा त्वरित रेस्क्यू कर कुछ लोगो को सकुशल बाहर निकाला गया व तीन शवो को मलबे से बाहर निकाला गया । मृत तीनों एक ही परिवार से थे जिनका विवरण निम्न है -

माधुरी देवी(उम्र 36) ,  पत्नी, देवानंद भट्ट

ऋतु देवी(उम्र 32),पत्नी  दीपक भट्ट

तृष्वी (उम्र 3) , पुत्री ,दीपक भट्ट।

राज्य में भारी से भारी बारिश की चेतावनी- SDRF अलर्ट


मौसम विभाग द्वारा राज्य में आगामी 03 दिनों तक भारी से भारी वर्षा की चेतावनी दी गयी है। जिसके दृष्टिगत पुलिस उप महानिरीक्षक श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल, SDRF के दिशानिर्देशन एवं सेनानायक SDRF श्री नवनीत सिंह के आदेशानुसार राज्य में व्यवस्थापित SDRF की 28 टीमों को अलर्ट अवस्था मे रखा गया है। 

राज्य में SDRF की 28 टीमो का व्यवस्थापन निम्न है- 

 *देहरादून* - सहस्त्रधारा, चकराता।

 *टिहरी-* ढालवाला (ऋषिकेश), टिहरी डैम, ब्यासी(कौड़ियाला)

 *उत्तरकाशी* - उजेली, भटवाड़ी, गंगोत्री, बड़कोट, जानकीचट्टी/यमुनोत्री।

 *पौड़ी गढ़वाल* - श्रीनगर, कोटद्वार, सतपुली।

 *चमोली-* गौचर, जोशीमठ, पांडुकेश्वर, बद्रीनाथ। 

 *रुद्रप्रयाग-* रतूड़ा, सोनप्रयाग, लिनचोली, श्रीकेदारनाथ। 

 *पिथौरागढ़* - पिथौरागढ़, अस्कोट। 

 *बागेश्वर-* कपकोट। 

 *नैनीताल-* नैनी झील, खैरना। 

 *अल्मोड़ा-* सरियापानी।

 *ऊधमसिंहनगर* - रुद्रपुर। 


मानसून काल के दौरान अतिवृष्टि से बाढ़, भूस्खलन, बादल फटना इत्यादि घटनाये होती रहती हैं जिससे जान माल की हानि का भय बना रहता है। किसी भी प्रकार की आपदा के दौरान जान माल की हानि के न्यूनीकरण एवं तत्काल प्रतिवादन हेतु SDRF की रेस्क्यू टीम पूर्व से ही संवेदनशील स्थानों पर स्थापित है। मानसून काल मे आपदाओं की संभावना अत्यधिक बढ़ जाती है जिस हेतु SDRF की टीमें मय रेस्क्यू उपकरणों के अलर्ट रहती है। 

मौसम विभाग द्वारा जारी किए गए अलर्ट के बाद तत्काल ही सेनानायक महोदय के आदेशानुसार राज्य भर में SDRF रेस्क्यू टीमों को किसी भी आपात स्तिथि में तत्काल प्रतिवादन हेतु अलर्ट कर दिया गया है साथ ही देहरादून सचिवालय में राज्य आपात परिचालन केंद्र (SEOC) तथा SDRF कंट्रोल रूम को भी अलर्ट पर रखा गया है व निर्देशित किया है कि सूचनाओं के आदान प्रदान तत्काल किया जाए जिससे किसी भी घटनास्थल पर समय से पहुँच कर रेस्क्यू कार्य सुचारू किया जाए।

Post a Comment

Powered by Blogger.