Halloween party ideas 2015

 कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए विश्वविद्यालयों एवं शिक्षण संस्थानों को जन जागरूकता अभियान चलाना होगा

प्रदेश में कोरोना की पहली लहर को काफी प्रभावी तरीके से नियंत्रित करने में हमने सफलता प्राप्त की: त्रिवेन्द्र



दून विश्वविद्यालय द्वारा "दून यूनिवर्सिटी एकेडमिक फोरम फॉर कौमबैटिंग कोविड-19" अंतर्गत आयोजित फ्राइडे लेक्चर सीरीज के तत्वावधान में शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को वर्चुअली संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कोविड-19 महामारी की पहली लहर का उत्तराखंड को मार्च के महीने पता चला और उस वक्त राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था में इस महामारी के प्रभाव एवं प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए नाकाफी थी. सरकार ने युद्स्तर पर कोविड-19 अस्पतालों का निर्माण, ऑक्सीजन सिलेंडर, आईसीयू, वेंटिलेटर, पीपीई किट सैनिटाइजर का उत्पादन, हाइड्रोसील क्लोरोफिन दवाइयों का उत्पादन, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, आइसोलेशन वार्ड, एंबुलेंस इत्यादि की व्यवस्था कई गुना बढ़ाई गयी. आशा कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर स्थिति का जायजा लेने के लिए तैनात किया गया था। लोगों की आवाजाही को कम करने के लिए वर्क फ्रॉम होम तत्काल शुरू किया गया. डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट का इस्तेमाल करके सख्ती के साथ लॉक डाउन का पालन कराया गया. उत्तराखंड की सीमाओं को सील किया गया और वहां पर कोविड-19 के टेस्ट की व्यवस्था की गई. नतीजतन पहली लहर को काफी प्रभावी तरीके से नियंत्रित करने में सफलता प्राप्त हुई और एक समय ऐसा भी आया कि कोविड-19 महामारी से होने वाली मृत्यु संख्या शून्य के स्तर पर पहुँच गयी. उन्होंने कहा की मुझे लगता है कि हमारे व्यवहार में लापरवाही के कारण  लगातार घट रहे कोविड-19 के मरीजों की संख्या फिर से बढ़ने लगी  जिससे दूसरी लहर काफी तेजी के साथ न सिर्फ राज्य में बल्कि देश के प्रत्येक क्षेत्र में फैली. विश्वविद्यालयों एवं शिक्षण संस्थानों को चाहिए कि वे जन जागरूकता अभियान विद्यार्थियों के माध्यम से संचालित करें एवं वैक्सीन के उपयोग हेतु जनता को जागरूक करें और कोविड-19  के अनुरूप व्यवहार अपनाना होगा. तीसरी लहर से निपटने के लिए उन्होंने सुझाव दिया कि टीकाकरण में तेजी लाई जाए और सब के लिए टीकाकरण अनिवार्य किया जाए. और बच्चों के लिए अलग से वार्ड बनाए जाएं जहां पर उनके माता-पिता के रहने की व्यवस्था भी हो. उन्होंने बताया कि बाल रोग विशेषज्ञ कि उत्तराखंड में कमी है जो कि एक परेशानी का कारण है. राज्य विश्वविद्यालयों को कोविड-19 के संदर्भ में अनुसंधान करना चाहिए ताकि इससे निपटने के लिए सरकार को कारगर योजना बनाने में सहायता मिले.


इस अवसर पर वन्य जीव संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ एस सत्य कुमार, स्वीडन में भारत के पूर्व राजदूत श्री अशोक सज्जन हार, दून विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सुरेखा डंगवाल, उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर ओ पी एस नेगी, उच्च शिक्षा विभाग के सलाहकार अवसर केडी पुरोहित डॉ एसपी सती, प्रो कुसुम अरुणाचलम, डॉ ऋषिकेश, कुलसचिव डॉ मंगल सिंह मन्दर्वाल, वित्त नियंत्रक श्री जी सिलवानी, उप कुलसचिव श्री नरेंद्र लाल, डॉ अरुण कुमार, डॉ राजेश भट्ट, डॉ नरेश मिश्रा सहित विभिन्न विश्वविद्यालयों के शिक्षक एवं विद्यार्थी उपस्थित थे कार्यक्रम का संचालन विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो एच सी पुरोहित ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन कार्यक्रम के संयोजक प्रो हर्ष डोभाल ने किया।

Post a Comment

Powered by Blogger.