Halloween party ideas 2015


 आज  डॉ श्री धन सिंह रावत  आपदा प्रबन्धन एवमं पुनर्वास  मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  द्वारा SDRF वाहिनी जोलीग्रांट का भ्रमण  एवम निर्माणाधीन  कार्यों का निरीक्षण किया। 

ज्ञातव्य हो कि  वर्तमान में जोलीग्रांट  एयरपोर्ट के निकट 23 हेक्टर क्षेत्र में कार्यदायी संस्था UDRP  (PIU) द्वारा  SDRF वाहिनी मुख्यालय का निर्माण कार्य किया जा रहा  है जिसका निरीक्षण माननीय आपदा प्रबंधन एवमं पुनर्वास मंत्री  द्वारा किया गया।

कार्यक्रम के आरम्भ में श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल DIG SDRF  के द्वारा कोविड संकटकाल में  SDRF की 24×7 समय तत्परता की प्रतिबद्धता की बात कही गयी,साथ ही  उत्तराखंड पुलिस के




मिशन हौंसला के घटक रक्त /प्लाज्मा दान  के प्रति जवानों के आगे आने पर भी अपना सम्बोधन दिया.

उन्होंने  कहा गया कि SDRF ने अत्यंत  अल्प समय मे अपनी महत्ता को स्थापित किया है यह समय है जब हम सब  मानव धर्म सेवा के अभियान में अपना महत्तम दें और खाकी का ऐसा उदाहरण जो सभी के लिए पथ पर्दशक का कार्य करें।श्री नवनीत भुल्लर  सेनानायक SDRF  द्वारा  वाहिनी की संरचना, कार्यशैली, कार्ययोजना एवमं रेस्क्यू कायों के विवरण से  अवगत कराया. 

उन्होंने  बताया गया कि वर्तमान में SDRF की 4 कम्पनियां सम्पूर्ण राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में  कार्यरत है कार्यों में पारंगता एवम दक्षता हासिल करने हेतु SDRF के जवानों ने ,  माउंटेनियरिंग, फ्लड CBRN , प्राथमिक चिकित्सा , सर्च एन्ड रेस्कयू  जैसे अनेक आपदा सम्बन्धी  प्रशिक्षण विभिन्न संस्थाओं से प्राप्त किये  हैं,

 वैश्विक महामारी  कोविड के राज्य में प्रथम दस्तक से ही  कोविड से बचाव  सम्बन्धी अनेक सामाजिक एवम मानवीय अभियान आरम्भ किये SDRF ने आइसोलेशन ड्यूटी, अन्य राज्यों से नागरिक को  सकुशल लाने के अभियान, सम्पूर्ण प्रदेश में कोविड काल के दौरान  SDRF द्वारा चलाये गए प्रशिक्षण एवम अवेर्नेस प्रोग्राम, प्रशिक्षण हेतु बनाया कोरोना वारियर्स एप्प,लॉक डाउन के दौरान फ़ूड पैकेट वितरण, सेनेटाइज एवमं मास्क वितरण ,कोविड केयर सेंटर निर्माण में योगदान अथवा कोविड कंट्रोल के माध्यम से लगभग 1 लाख से अधिक नागरिकों की समस्याओं को सुनना ओर उसका निदान  सभी मे अपना  सर्वस्व दिया 

               महा कुम्भ आयोजन के दौरान सम्पूर्ण कुम्भ क्षेत्र में कोविड मुक्त कुम्भ  के प्रयास में  पेम्पलेट, बेनर, जिंगल, कैप्सूल वीडयो एवमं जनभागीदारी के माध्यम से लाखों लोगों को कोविड अनुरूप व्यवहार हेतु प्रेरित किया।   वर्तमान में कोविड महामारी की द्वितीय लहर में भी SDRF अपने सम्पूर्ण त्याग समर्पण एवम ऊर्जा से हर दिन मिशन हौंसला को सार्थक रूप दे रहे है, बल के जवानो के द्वारा प्रतिदिन ही सेकड़ो जरूरतमंद तक कोविड मेडिसिन किट पहुँचाई जाती है.

जबकि सम्पूर्ण प्रदेश में कोविड संक्रमित लावारिश शवों का  दाह संस्कार भी SDRF जवानों के द्वारा किया जा रहा है। साथ ही कॉन्ट्रेक्ट ट्रेसिंग,  होम आएशोलेशन सम्पर्क, एवम अस्पताल में आएशोलेशन वार्ड ड्यूटी को भी जवानों के द्वारा अंजाम दिया जा रहा है।

   अपने  समीक्षा सम्बोधन में उन्होंने   SDRF  वाहिनी के निर्माण कार्यों को समय सीमा में तैयार किये जाने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि यदि  कार्य मे   वित्त अथवा अन्य किसी प्रकार के अवरोधक  है तो  उस की भी आख्या प्रस्तुत की जाए जिससे जल्द से जल्द अवरोधक को दूर कर कायों को तय शर्तों ओर समय मे पूरा किया जा सके।

      उन्होंने  कहा कि  SDRF ने इतने अल्प समय मे अनेक क्षेत्रों में महारथ हासिल कर एक अनिवार्य बल का घटक बनना साधारण नही है  साथ ही उन्होंने  बल की जनशक्ति को बढ़ाये जाने की भी बात रखी गयी,जिसमे कहा गया कि SDRF की पंचम कम्पनी का  वास्तविक स्वरूप में  जल्द गठन किया जाएगा। 

        निर्माणाधीन वाहिनी के कार्यों की समीक्षा के दौरान श्री विकास बड़थ्वाल  उपकार्यक्रम प्रबन्धक द्वारा भी अपना प्रस्तुति करण दिया गया। 

   भ्रमण एवम निरीक्षण के दौरान श्रीमती रिद्धिम अग्रवाल उपमहानिरीक्षक SDRF एवम श्री नवनीत भुल्लर सेनानायक  , श्री अजय भट्ट  उप सेनानायक  , श्री विकास बड़थ्वाल उप कार्यक्रम  प्रबन्धक , श्री मुकेश कुमार बेनीवाल  वरिष्ठ आवासीय अभियंता,  श्री राजीव रावत  शिवीरपाल एवम अन्य SDRF / वाहिनी निर्माणाधीन अधिकारी उपस्थित रहे।

Post a Comment

Powered by Blogger.