Halloween party ideas 2015

देहरादून :



 जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव द्वारा दिए गए निर्देशों के अुनपालन में कल उप जिलाधिकारी मसूरी एवं उप जिलाधिकारी सदर द्वारा अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत अवस्थित मेडिकल स्टोर की दुकानों पर छापेमारी कर कोविड-19 के उपचार में प्रयुक्त हो रही दवाइयों, रेमडेसिविर, थर्मामीटर, आक्सीमीटर आदि उपकरणों के स्टाॅक की जानकारी प्राप्त की। 

निरीक्षण के दौरान उन्होनें मेडिकल स्टोर संचालकों को स्पष्ट निर्देश दिए कि कालाबाजारी करने वालो के विरूद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम के तहत विधिक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। तहसील सदर में निरीक्षण के दौरान ड्रग इंस्पैक्टर नीरज पंवार, तहसीलदार दयाराम शामिल रहे। इसके अलावा ऋषिकेश में उप जिलाधिकारी ऋषिकेश द्वारा विभिन्न खाद्य सामग्री की दुकानों का औचक निरीक्षण किया गया साथ ही उप जिलाधिकरी डोईवाला द्वारा जौलीग्रान्ट में परिवहन विभाग के साथ एम्बुलेंस के रेट के सम्बन्धी निरीक्षण किया गया।  


जिलाधिकारी के निर्देशों के अुनपालन में आज अपर जिलाधिकारी प्रोटोकाॅल गिरीश गुणवंत एवं डॉक्टर राजीव दीक्षित द्वारा  अरिहंत कोविड हॉस्पिटल का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण में हॉस्पिटल में भर्ती कोविड मरीजों के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की गयी तथा मरीजों को आवश्यकतानुसार आक्सीजन की आपूर्ति के सम्बंध में जानकारी प्राप्त की गयी तथा अस्पताल प्रबंधन को कड़े निर्देश दिए गए की आक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति लगातार सुनिश्चित की जाए। 

जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि जनपद  के ऋषिकेश क्षेत्रान्तर्गत स्थित श्यामपुर के गुड्डू प्लाट, ग्राम चन्द्रेश्वर नगर चन्द्रश्वर मन्दिर मार्ग, चन्द्रेश्वर नगर में दयानन्द मार्ग स्थित गली न0 3, मसूरी क्षेत्रान्तर्गत स्थित गणेश होटल लण्ढौर कैन्ट, तथा तहसील डोईवाला क्षेत्रान्तर्गत स्थित ग्राम खत्ता  में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति चिन्हित होने के फलस्वरूप उक्त क्षेत्रों को कन्टेंनमेंट जोन घोषित किया गया है। 

 
 इसके अतिरिक्त नगर निगम देहरादून क्षेत्रान्तर्गत स्थित 625 सत्यविहार माया निवास किशननगर चैक, 104 सालावाला एवं यूनिशन वल्र्ड स्कूल मसूरी रोड में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति चिन्हित होने के फलस्वरूप उक्त क्षेत्रों को कन्टेनमेंट जोन घोषित किया गया था, उक्त क्षेत्रों का 14 दिवसों तक एक्टिव सर्विलांस किया गया एवं किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण नही पाए गए तथा मुख्य चिकित्साधिकारी की संस्तुति के आधार पर उक्त 3 क्षेत्रों को कन्टेंनमेंट जोन मुक्त किया गया है।

 

अस्पताल प्रबंधन द्वारा ऑक्सिजन की आपूर्ति  हेतु नया संयंत्र भी लगाया जा रहा है तथा 02 टैंक भी उपलब्ध कराए गए हैं। अस्पताल में 51 मरीजों का उपचार किया जा रहा है । अपर जिलाधिकारी प्रोटोकाॅल ने बताया कि कि अब लगातार चिकित्सालयों में निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया जाएगा ।

 
 जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कल आपदा परिचालन केन्द्र का स्थलीय निरीक्षण किया। कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु उन्होनंे होम आयशोलेशन में रह रहे कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों के लिए कन्ट्रोलरूम में हेल्पलाईन नम्बर अगले 48 घण्टे के अन्दर जारी करने के निर्देश दिए।
 
 
 उन्होंने ऐसे परिवारों या बुजुर्ग दम्पति जिनके यहां परिवार के सभी सदस्य कोविड संक्रमित हो तथा जिन संक्रमित व्यक्तियों के सैम्पलिंग के समय मोबाईल नम्बर अथवा पता त्रुटिवश सही नही अंकित हुआ है और ऐसे व्यक्तियों को दवाई किट नही मिल पा रही है की सहायता के लिए पृथक से सहायता नम्बर जारी करने के निर्देश अपर जिलाधिकारी वि/रा एवं जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी को दिए, ताकि ऐसे व्यक्ति कन्ट्रोलरूम में काल कर अपनी किट प्राप्त कर सकें तथा अन्य सहायता के लिए सूचित कर सकें। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन दो बार पहले 01 बजे तक प्राप्त हुई काॅल के व्यक्तियों को किट/सहायता भिजवाई जाए तथा 01 बजे से 04 बजे तक प्राप्त होने वाली काॅल के व्यक्तियों को सांय तक दवाईया सहायता भिजवाई जाएं। 
 
उन्होंने निर्देश दिए कि होम आयशोलेशन में रह रहे व्यक्तियों की स्वास्थ्य की माॅनिटिरिंग काॅल कर फोलोअप करने का कार्य शिक्षक घर से ही सम्पादित करेंगे तथा यदि किसी फोलोअप के दौरान किसी व्यक्ति को स्वास्थ्य खराब होने सम्बन्धी समस्या पर सम्बन्धित का नम्बर चिकित्सकों को देगें, चिकित्सक उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त करेंगें तथा स्वास्थ्य की स्थिति के अनुसार मार्गदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति का आक्सीजन लेवल 94-90 आ रहा है को तत्काल आक्सीजन बैड उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि चिकित्सक स्मार्ट सिटी के कन्ट्रोलरूम पर चिकित्सकीय सलाह हेतु प्राप्त होने वाली काॅल पर परामर्श देंगे। 

उन्होंने कहा कि शहर क्षेत्र में होम आयशोलेशन किट का वितरण एसडीआरएफ के द्वारा ही संचालित किया जाएगा। उन्होनंे कहा जिन लोगों द्वारा पूर्व में दवाई ले रखी है तथा किट के लिए मना कर रहे हैं ऐसे व्यक्तियों का नम्बर भी प्राप्त कर लें ताकि असमंजस की स्थिति ना रहे। 
 
उन्होंने निर्देश दिए कि यदि किसी व्यक्ति द्वारा होमआयसोलेशन किट मांगी गई है तथा उस घर में अन्य व्यक्ति भी संक्रमित हैं को भी किट उपलब्ध करा दी जाए। जिलाधिकारी ने निर्देश दिए की जनपद में आक्सीजन की प्रतिदिन की खपत आपूर्ति का विवरण भी पोर्टल पर अपडेट करें ताकि खपत के अनुसार आक्सीजन समय से उपलब्ध रहे। उन्होंने कहा कि जनपद अवस्थित मेडिकल स्टोर पर ड्रग इंस्पैक्टर के साथ चैकिंग करते हुए दवाईयों की मांग एवं स्टाॅक का विवरण भी प्राप्त कर लिया जाए। 
 

 







Post a comment

Powered by Blogger.