Halloween party ideas 2015

नई दिल्ली:


बीजापुर छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में शनिवार को लगभग 22 सुरक्षा बल के सैनिक ने अपना जीवन देश पर निछावर कर दिया और लगभग 31 जवान मुठभेड़ में घायल हुए हैं.बीजापुर छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में शनिवार को लगभग 22 सुरक्षा बल के सैनिक ने अपना जीवन देश पर निछावर कर दिया और लगभग 25 से अधिक जवान मुठभेड़ में घायल हुए हैं . 22 सुरक्षा बल के जवानों ने नक्सली अटैक में सुकमा बीजापुर छत्तीसगढ़ में अपनी जान गवाई है.

     छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के हमले में शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों की संख्या आज सुकमा-बीजापुर जिलों की सीमाओं पर जगरगुंडा क्षेत्र से 17 और शवों की बरामदगी के साथ बढ़कर 22 हो गई। 

भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर शहीद हुए जवानों और उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है उन्होंने कहा है कि देश इनके बलिदान को कभी भी नहीं भूलेगा और उनके दर्द परिजनों के दर्द को पूरा देश महसूस करता है .राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने छत्तीसगढ़ में माओवादी विद्रोह से जूझते हुए सुरक्षाकर्मियों की हत्या पर दुख व्यक्त किया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनके विचार छत्तीसगढ़ में माओवादियों से लड़ते हुए शहीद हुए लोगों के परिवारों के साथ हैं। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, वीर शहीदों की कुर्बानी को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। उन्होंने उन घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने परिजनों को मारे गए परिजनों के संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा और उनको सदैव याद किया जाएगा .असम दौरे से दिल्ली लौटे गृह मंत्री अमित शाह ने छत्तीसगढ़ की स्थिति पर एक हाई लेवल मीटिंग बुलाई .
हालांकि, गृह मंत्री ने कहा कि हताहतों की सही संख्या का पता लगाया जा रहा है। शाह ने कहा, "जहां तक ​​संख्याओं का संबंध है, दोनों पक्षों को नुकसान हुआ है और सटीक हताहतों के आंकड़े का तुरंत पता नहीं लगाया जा सका है।"

उन्होंने कहा, "हमारे सुरक्षाकर्मियों ने अपनी जान गंवा दी है। हम इस रक्तपात को बर्दाश्त नहीं करेंगे और उचित समय पर जवाब दिया जाएगा।" असम छोड़ने से पहले, उन्होंने सैनिकों को श्रद्धांजलि दी और कहा कि सैनिकों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

 पुलिस ने रविवार को कहा कि उन्होंने पांच जवानों के मारे जाने के एक दिन बाद सैनिकों के 17 शव बरामद किए।
पुलिस ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बीजापुर और सुकमा जिलों के बीच सीमा पर एक जंगल में गोलियां चलीं।जो सैनिक मारे गए हैं, उनमें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), इसकी कुलीन इकाई कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रिजॉल्यूट एक्शन) और जिला रिजर्व गार्ड (डीआरजी) के कर्मी शामिल हैं।

सुरक्षा बलों की अलग-अलग टीमों ने दक्षिण बस्तर के जंगलों में एक ऑपरेशन शुरू किया, जिसे शुक्रवार की रात एक माओवादी गढ़ माना जाता था। यह ऑपरेशन पांच स्थानों ताराम, उस्सोर और पामेड (बीजापुर में), और मिनपा और नरसापुरम (सुकमा में)  से शुरू किया गया था।

सत्यवाणी परिवार भी शहीद जवानों के प्रति संवेदना व्यक्त करता है।

Post a comment

Powered by Blogger.