Halloween party ideas 2015





दिनांक 28 मार्च को नैनीताल से कुम्भ मेला ड्यूटी हेतु आये जवान का शव जवान के वाहन में ही रायवाला में प्राप्त हुआ, जिस सूचना पर तत्काल ही कुम्भ मेला पुलिस द्वारा जवान के शव को ऋषिकेश भेजा गया जहां 29 मार्च को जवान गणेश नाथ का पोस्टमार्टम किया  गया जिसके पश्चात  जवान के पार्थिव शव को ससम्मान  बागेश्वर भेजा गया , शव के साथ एक सहायक उपनिरीक्षक , एक हेडकोंस्टेबल ओर 2 जवानों को भी सरकारी वाहन के साथ भेजा गया, शव के साथ सुरक्षा गार्ड के अतिरिक्त 2 अन्य जवान जो मृतक गणेश नाथ के सम्बन्धी थे वे भी रवाना हुए।


वाहन दिनांक 30 मार्च को  बागेश्वर पहुंचा, अत्यधिक गर्मी से शव  गलने लगा था ओर फूल गया था जिस कारण जवान के शव को बर्फ में रखा गया। जवान का घर मुख्य मार्ग तक लगभग 700 मीटर की खड़ी चढ़ाई  ओर उबड़ खाबड़ मार्ग  से पहुँचा जा  सकता है  जिस कारण सम्भवत शव को   ले जाते  समय सहारा देने के  लिए जवानों के द्वारा मृतक गणेश नाथ के बिस्तर बन्द को निकाल कर शव को सहारा देने में प्रयोग किया ,  चूंकि मृतक नाथ सम्प्रदाय से है जहाँ रीती रिवाजो के अनुसार शव को  समाधि दी जाती है  आरक्षी  गणेश नाथ के पार्थिव शव को समाधि देने से पूर्व उत्तराखंड पुलिस जवानों के द्वारा  ससम्मान शोक सलामी दी  गयी। 

 आरक्षी गणेश नाथ की नियुक्ति नैनीताल जनपद  थी जो कुम्भ ड्यूटी हेतु जनपद हरिद्वार आया था  घटना के पश्चात मृतक आरक्षी की माँ और उसकी पत्नी को नैनीताल पुलिस द्वारा  1,10,000 रु की धनराशि भी दी गयी।

Post a comment

Powered by Blogger.