Halloween party ideas 2015





असम और पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 77 विधानसभा क्षेत्रों के 21825 मतदान केंद्रों पर सफलतापूर्वक मतदान हुआ। आयोग ने प्रलोभन और भय मुक्त चुनाव के लिए पारदर्शी और सतर्क तंत्र सुनिश्चित करने पर बहुत जोर दिया है।

पश्चिम बंगाल में 30 विधानसभा क्षेत्रों के लिए पहले चरण के चुनाव हुए। इस चरण में अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए 10,288 मतदान केंद्रों के लगभग 74 लाख मतदाता पंजीकृत हैं। असम की 47 विधानसभाओं में 11,537 मतदान केंद्रों पर पंजीकृत कुल 81 लाख मतदाताओं के साथ मतदान हुआ। मतदान केंद्रों की संख्या इस तथ्य के मद्देनजर बढ़ी है कि सोशल डिस्टेंसिंग मानदंड को ध्यान में रखते हुए प्रत्येक मतदान केंद्र पर मतदाता की संख्या 1500 से घटाकर 1000 कर दी गई है।


स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए 50% से अधिक मतदान केंद्रों पर जिसमें संवेदनशील मतदान केंद्र को शामिल किया गया है वहां पर लाइव मॉनीटरिंग और वेबकास्टिंग मैकेनिज्म का इस्तेमाल किया गया। आयोग, सीईओ, डीईओ, ऑब्जर्वर मतदान केंद्र का लाइव स्ट्रीमिंग देख सकते हैं। असम और पश्चिम बंगाल के मतदान केंद्रों पर इससे कड़ी निगरानी रख सकते हैं। पश्चिम बंगाल में 5392 मतदान केंद्रों और असम में 5039 मतदान केंद्रों के लिए वेबकास्टिंग व्यवस्था की गई थी।

      समावेशी और सुलभ चुनाव कराने की दिशा में एक पहल के रूप में, पोस्टल बैलट सुविधा का विकल्प पीडब्ल्यूडीएस, 80 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों, कोविड-19 संदिग्ध या प्रभावित व्यक्तियों और आवश्यक सेवाओं में कार्यरत व्यक्तियों तक विस्तार किया गया है। इन मतदाताओं की सुविधा के लिए पर्यवेक्षकों को विशेष रूप से व्यवस्था करने के लिए कहा गया था।

      मतदान जारी रखने और राज्यों को गाइडलाइन देने के लिए आयोग ने विशेष पर्यवेक्षक बलों की तैनाती और चुनाव कर्तव्यों के लिए उनके यादृच्छिककरण में अतिरिक्त भूमिका निभाने का निर्देश दिया।

      सभी मतदान केंद्रों को कोविड-19 सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया था। फलस्वरूप यह सुनिश्चित किया गया कि मतदान से एक दिन पहले मतदान केंद्रों को सेनेटाइज कर दिया गया और मतदान केंद्रों पर थर्मल स्कैनिंग, हैंड सैनिटाइजर, फेस मास्क की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई।

      सोशल डिस्टेंसिंग की उचित व्यवस्था की गई। पूरे निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान कोविड-19 संबंधित व्यवस्थाओं और निवारक उपायों की देखरेख के लिए राज्य, जिला और विधानसभा क्षेत्रों के लिए नोडल स्वास्थ्य अधिकारियों को नियुक्त किया गया है।

      असम और पश्चिम बंगाल में पहले चरण के सभी 21825 मतदान केंद्रों पर न्यूनतम सुविधाओं (एएमएफ) को सुनिश्चित किया गया जिसमें पीने का पानी, वेटिंग शेड, पानी की सुविधा के साथ शौचालय, प्रकाश की पर्याप्त व्यवस्था, पीडब्ल्यूडी के लिए व्हीलचेयर के साथ सभी पोलिंग स्टेशनों पर इलेक्टर्स और एक मानक वोटिंग कम्पार्टमेंट आदि उपलब्ध कराए गए थे। विकलांग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए परिवहन सुविधा, स्वयंसेवकों की सहायता करने जैसी सभी व्यवस्थाएं भी की गई हैं।

Post a comment

Powered by Blogger.