Halloween party ideas 2015

 प्राचीन काल से ही कुम्भ मेले के दौरान  नागा साधुओं का आगमन हरिद्वार में होता रहा है।  जैसे कि  नाम से विदित है ये साधु संत नग्न रहकर ही जीवन यापन करते है।  इस प्रकार से जीवन व्यतीत करना ,इनकी दीक्षा का एक अंग माना  जाता है। नागा साधु सभी प्रकार के अस्त्र शस्त्र चलाने में निपुण होते है।  इनके दर्शन  दुर्लभ होते है।  

ये अपना जीवन कहाँ व्यतीत करते है ?यह जानना सम्भव नहीं है। कुम्भ अथवा अर्ध कुम्भ के अवसर पर  ही ये गंगा स्नान हेतु दिखाई देते है।  आज भी आह्वान अखाड़े की पेशवाई के दौरान नागा साधुओं के करतब देखने लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। 





पेशवाई  दौरान शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए शासन, प्रशासन सहित , पुलिस और अन्य सेना के जवानो की मुस्तैदी देखने लायक रही।




Photo by sandeep khanna



पेशवाई में सबसे आगे हाथी, उसके पीछे धर्मध्वजा, देव डोली व नागा साधुओं का जत्था चला। पेश्वाई में नागा साधु आज भी आकर्षण का केन्द्र रहे। अपने करतबों से नागा साुधओं ने सभी को आकर्षित किया। नागा संन्यासियों के पीछे आन्नद अखाड़े के आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरि की पालकी निकाली गयी उसके पीछे मण्डलेश्वरों व महंतों की पालकी निकली। 


बैडबाजों के साथ निकली पेशवाई में झांकियों भी विशेष आकर्षण का केन्द्र रहीं। आज भी सड़कों पर पेशवाई को देखने व संतों का दर्शन करने के लिए लोगों का हुजुम उमड़ा। लोगों ने जगह-जगह पुष्पवर्षा कर संतों का स्वागत किया। पेशवाई मार्ग पर मेला प्रशासन द्वारा सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए थे। भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। पेशवाई के चलते यातायात डायवर्जन प्लान लागू किया गया था।



 पेशवाई चन्द्राचार्य चैक, शंकर आश्रम, सिंहद्वार, कनखल थाना, चौक बाजार, शंकराचार्य चैक होते हुए श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी की छावनी में पंहुची  ।



 आवाहन अखाड़े की पेशवाई गुघाल रोड पांडेवाला से ऊंचापुल, आर्य नगर, चंद्राचार्य चैक, ऋषिकुल, देवपुरा होकर शिवमूर्ति चैक पहुंची। यहां पर मेलाधिकारी दीपक रावत, जिलाधिकारी सी. रविशंकर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरिद्वार सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस, एसएसपी कुंभ जन्मेजय खंडूड़ी आदि ने स्वामी कृष्णा नंद गिरि जी महाराज, स्वामी बालयोगेश्वर गिरि महाराज, राष्ट्रीय अध्यक्ष सभापति पूनम गिरि, महंत भूपेंद्र गिरि जी महाराज, राष्ट्रीय महामंत्री महंत सत्यगिरि जी महाराज, महंत श्री जगदीश्वरानंद महाराज आदि संतों का माल्यार्पण कर स्वागत किया। यहां से पेशवाई जूना अखाड़े की छावनी मायापुर की ओर बढ़ गई। 
इस मौके पर स्वागत करने वालों में अपर मेलाधिकारी डाॅ0 ललित नारायण मिश्र, हरबीर सिंह, रामजी शरण शर्मा, उप मेलाधिकारी किशन सिंह नेगी, एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय, पुलिस उपाधीक्षक अखाड़ा प्रबोध घिल्डियाल, सीओ प्रकाश देवली आदि मौजूद थे। 




Post a Comment

Powered by Blogger.