Halloween party ideas 2015



भारत में कोविड के दैनिक नए मामलों में गिरावट लगातार जारी है। पिछले 24 घंटों में 9,110 नए रोगी सामने आये हैं। दैनिक मरीज़ों की घटती संख्या और बढ़ती रिकवरी दर ने सक्रिय मामलों की संख्या में निरंतर गिरावट सुनिश्चित की है।

देश में आज कोरोना वायरस के संक्रमण का उपचार करा रहे रोगियों की संख्या 1,41,511 है

अब तक संक्रमण मुक्त होने वाले लोगों की कुल संख्या 1,05,61,608 तक पहुंच गई है। पिछले 24 घंटों में 13,087 मरीज संक्रमण से ठीक हुए हैं और उन्हें छुट्टी दी गई है। स्वस्थ होने वाले रोगियों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर लगातार बढ़ता जा रहा है।

कोविड से स्वस्थ होने वालों के आंकड़ों में लगातार वृद्धि के साथ, भारत की रिकवरी दर 97.27% तक पहुंच गई है, जो विश्व स्तर पर उच्चतम है। ब्रिटेन, अमरीका, इटली, रूस, ब्राजील और जर्मनी में ठीक होने की दर भारत की तुलना में काफी कम है।

भारत में कोविड से होने वाली दैनिक मौतों का औसत भी तेजी से घट रहा है। जनवरी 2021 के दूसरे सप्ताह में यह संख्या प्रतिदिन की मृत्यु के उच्च स्तर 211 पर थी, जबकि फरवरी 2021 के दूसरे सप्ताह में औसत दैनिक मृत्यु घटकर 94 हो गई। इस प्रकार 55% की गिरावट दर्ज की गई है।

भारत में कोविड से होने वाली मृत्यु दर (सीएफआर) दुनिया में सबसे कम 1.43% है। जबकि वैश्विक औसत 2.18% है।

देशव्यापी कोविड 19 टीकाकरण अभ्यास के तहत 10 फरवरी, 2021 के सुबह 8:00 बजे तक लगभग 66.1 लाख (66,11,561) लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया है।

टीकाकरण अभियान के 24 दिनों के दौरान 10,269 सत्रों में 4,46,646 लोगों (1,60,710 स्वास्थ्य कर्मचारियों और 2,85,936 अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं) को टीका लगाया गया था। अब तक 1,26,756 सत्र आयोजित किए गए हैं।



                                                                                                                                                                                                                              अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में कोविड-19 वैक्सीनेशन के तहत अब तक कुल 3,554 हैल्थ केयर वर्करों को कोविड वैक्सीन लगाई जा चुकी है। टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के उद्देश्य से कोविड वैक्सीनेशन सेंटर में अलग-अलग 10 काउंटर स्थापित किए हैं।   

गौरतलब है कि देशभर में कोविड वैक्सीन के टीकाकरण की शुरुआत बीते महीने 16 जनवरी से हुई थी। एम्स ऋषिकेश में चलाए जा रहे कोविड टीकाकरण अभियान के तहत फैकल्टी, नर्सिंग ऑफिसर्स, तकनीशियन, सपोर्टिंग स्टाफ, सुरक्षाकर्मियों, सफाई कर्मी और संस्थान के अन्य कर्मचारियों को टीके लगाए जा रहे हैं।                                                                                                                                           एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने टीकाकरण अभियान के बाबत बताया कि 16 जनवरी से अब तक संस्थान के 65 प्रतिशत से अधिक स्टाफ को कोविड वैक्सीन लगाई जा चुकी है। उन्होंने कहा कि अभियान की शुरुआत में कोविड एरिया में ड्यूटी दे रहे फ्रंट लाइन हैल्थ केयर वर्करों का प्राथमिकता से टीकाकरण किया गया था। जबकि इसके बाद अब एम्स में कार्यरत अन्य कार्मिकों को भी चरणबद्ध तरीके से टीके लगाए जा रहे हैं।                                                                                                                                                                                                                         निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने कहा कि भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार प्रत्येक हैल्थ केयर वर्कर को पहले टीके के ठीक 28 दिन बाद दूसरा टीका लगाया जाना है। 

उल्लेखनीय है कि एम्स के आयुष भवन में बनाए गए कोविड टीकाकरण केंद्र में इस अभियान को सफल बनाने के लिए कम्युनिटी एंड फेमिली मेडिसिन विभाग विशेष भूमिका निभा रहा है। सीएफएम विभागाध्यक्ष प्रो. वर्तिका सक्सैना जी दैनिक तौर पर स्वयं इस अभियान की माॅनिटरिंग कर रही हैं।

प्रो. वर्तिका सक्सैना ने बताया कि संस्थान में कुल 5,632 लोगों का स्टाफ कार्यरत है। जिनमें से अब तक 3,554 लोगों को कोविड वैक्सीन लगाई जा चुकी है। उन्होंने बताया कि टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के उद्देश्य से कोविड वैक्सीनेशन सेंटर में बीती 2 फरवरी से 10 अलग-अलग टीकाकरण काउंटरों की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। जिससे कोविड नियमों का पालन करते हुए कम समय में अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण किया जा सके और टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों को किसी प्रकार की असुविधा का सामना नहीं करना पड़े।                                                                                                                                                                    उन्होंने कोविड वैक्सीन को पूरी तरह से भरोसेमंद और सुरक्षित बताया। बताया कि सभी लोग स्वैच्छा से कोविड वैक्सीन लगाने के लिए आगे आ रहे हैं। टीकाकरण अभियान के दौरान सीएफएम विभाग की डा. रंजीता कुमारी, डा. महेंद्र सिंह, डा. योगेश बहुरूपी, डा. अजीत भदौरिया आदि मौजूद थे।

Post a comment

Powered by Blogger.