Halloween party ideas 2015

  •  प्रदेशभर के विश्वविद्यालयों एवं राजकीय महाविद्यालयों में आयोजित की गई प्रतियोगिता
  • विषय:  स्वामी विवेकानंद जी के विचारों की प्रासंगिकता उत्तराखंड के संदर्भ में था  ।

देहरादून:

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की पहल आज प्रदेशभर के विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में स्वामी विवेकानंद की जयंती को ‘युवा चेतना दिवस’ के तौर पर मनाया गया। इस अवसर पर और उच्च शिक्षा मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत के निर्देश पर उच्च शिक्षा विभाग द्वारा राज्यभर के विश्वविद्यालयों एवं राजकीय महाविद्यालयों में युवाओं के बौद्धिक और वैचारिक विकास के लिए निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें 4479 छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। विभागीय मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत ने प्रतियोगिता के सफल आयोजन के लिए विभागीय अधिकारियों एवं प्रतिभागियों की सराहना की। 

राज्य स्तरीय निबंध प्रतियोगिता का विषय ‘स्वामी विवेकानंद जी के विचारों की प्रासंगिकता उत्तराखंड के संदर्भ में’ था। इस निबंध प्रतियोगिता में प्रदेशभर में छात्र-छात्रओं ने बढ़चढ़ कर प्रतिभाग किया। स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर आज प्रदेशभर के सभी राजकीय विश्वविद्यालय व निजी विश्वविद्यालय सहित राजकीय महाविद्यालयों में सुबह 11 बजे से दोपहर 02 बजे तक निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। निबंध प्रतियोगिता में न्यूनतम तीन हजार और अधिकतम पांच हाजर की शब्द सीमा निर्धारित की गई थी। साथ ही विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों के प्राचार्यों को निर्देशित किया गया था कि अपने संस्थानों के प्रथम तीन श्रेष्ठ प्रतिभागियों के लेख 15 जनवरी तक दून विश्वविद्यालय प्रशासन को उपलब्ध करा दें। ताकि एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन कर प्राप्त लेखों में से राज्य स्तर पर तीन श्रेष्ठतम प्रतिभागियों को चयन कर 20 जनवरी तक निदेशक उच्च शिक्षा को सूची उपलब्ध कराई जा सके तथा प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को 23 जनवरी को सुभाष चन्द्र बोस की जयंती पर क्रमशः एक लाख, 75 हजार और 50 हजार रूपये का नगद पुरस्कार दिये जाने की योजना है।  

निदेशक उच्च शिक्षा डाॅ. कुमकुम रौतेला ने बताया कि निबंध प्रतियोगिता के सफल आयोजन के लिए विभाग द्वारा उप निदेशक डाॅ. रचना नौटियाल को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया था।


 उन्होंने बताया कि आज आयोजित निबंध प्रतियोगिता में कुल 4479 छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। जिसमें 105 राजकीय महाविद्यालयों में 2908 छात्र-छात्राएं, सहायता प्राप्त 18 अशासकीय महाविद्यालयों में 1218, निजी विश्वविद्यालयों में 297 तथा राज्य विश्वविद्यालयों में 56 छात्र-छात्राएं शामिल हुए। राज्य के चार निजी विश्वविद्यालयों में ग्राफिक एरा, डीआईटी, श्रीगुरू रामराय और सुभारती विश्वविद्यालय ने प्रतिभाग किया। जबकि राजकीय विश्वविद्यालयों में दून विश्वविद्यालय के 20 तथा कुमाऊं विश्वविद्यालय के 36 छात्र-छात्राओं ने ही प्रतिभाग किया। सर्वाधिक प्रतिभागीय 153 छात्र-छात्राओं ने एमबी पीजी काॅलेज हाल्द्वानी में प्रतिभाग किया। इसी प्रकार राजकीय महिला महाविद्यालय हल्द्वानी में 151 छात्राओं ने प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। अशाकीय महाविद्यालयों में बीएसएम पीजी काॅलेज रूड़की के 178, एसएमजेएन पीजी काॅलेज हरिद्वार 138, हर्ष विद्या मंदिर पीजी काॅलेज हरिद्वार 132, डीएवी पीजी काॅलेज देहरादून 128, एमकेपी पीजी काॅलेज देहरादून 75 तथा डीबीएस पीजी काॅलेज के 78 छात्र-छात्राओं ने निबंध प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। 


Post a Comment

Powered by Blogger.