Halloween party ideas 2015

                                                      


                                                                                                                                                                        

                                           

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में 72वां गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर संस्थाना के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने ध्वजारोहण किया। साथ ही आर्मी बैंड द्वारा देशभक्ति गीतों की शानदार प्रस्तुतियां दी गई।                                 

एम्स ऋषिकेश में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने कहा कि सामुहिक जिम्मेदारी का निर्वाह करने से ही देश उन्नति के पथ पर आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने कर्तव्यों के प्रति संकल्पद्ध होने की नितांत आवश्यकता है।                                                                                                      लिहाजा हमें अधिकारों के साथ-साथ अपनी जिम्मेदारियों को भी ध्यान में रखना होगा। 

समारोह को संबोधित करते हुए एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने कहा कि संस्थान में कार्यरत प्रत्येक चिकित्सक, अधिकारी व कर्मचारी को मरीजों की सेवा को अपनी प्रथम प्राथमिकता बनानी चाहिए, ऐसे में जब सभी लोग सामुहिकतौर पर जिम्मेदारी निभाते हैं तो देश तरक्की की ओर अग्रसर होता है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौर में जिस तरह से चिकित्सकों, नर्सों, तकनीशियनों, सफाईकर्मियों सहित प्रत्येक हेल्थ केयर वर्कर और स्टाफ के अन्य सदस्यों ने जोखिम उठाकर मरीजों की सेवा की है, वह प्रशंसनीय कार्य है। उन्होंने कोरोना काल में संस्थान में मोनाल और प्राणवायु वेन्टिलेटर के आविष्कार के साथ साथ वैभव समिट के सफल आयोजन का जिक्र करते हुए कहा कि यह उपलब्धियां टीम भावना के तहत जिम्मेदारी निर्वहन करने से ही हासिल हो पाई हैं। कहा कि हमें याद रखना होगा कि अभी कुंभ मेलाकाल में जनस्वास्थ्य की चुनौती हमारे समक्ष है। ऐसे में हमें अलग-अलग समय में पृथक-पृथक चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार रहना होगा। लिहाजा हम सभी को कुंभ के दौरान मरीजों की सेवा के लिए प्रतिबद्धता दोहरानी होगी। मेडिकल क्षेत्र में कम्युनिकेशन स्किल्स होना बहुत जरूरी है। निदेशक एम्स ने कहा कि मेडिसिन में आर्ट और साइंस की विशेष भूमिका होती है। एक चिकित्सक को मेडिकल साइंस का ज्ञान होने के साथ ही हमें मरीजों के साथ व्यवहार कुशलता से भी पेश आना होगा, जिससे सेवा की परिभाषा सार्थक हो सके। 


इस दौरान विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया। समारोह में डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता जी, मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रो. लतिका मोहन जी, डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रो. यूबी मिश्रा जी, वित्तीय सलाहकार कमांडेंट पीके मिश्रा जी, रजिस्ट्रार राजीव चौधरी जी, जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी, प्रशासनिक अधिकारी संतोष जी समेत संस्थान के कई अधिकारी व कर्मचारी शामिल हुए।

Post a comment

Powered by Blogger.