Halloween party ideas 2015

 देहरादून :



मुख्यमंत्री आवास पर  गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ध्वजारोहण कर, प्रदेशवासियों को शुभकामनाये  भी दी। 


 
देवभूमि होने के नाते पर्यावरण संरक्षण के लिए कृतसंकल्प हों; मुख्य सचिव
      मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश ने मंगलवार को गणतन्त्र दिवस के अवसर पर सचिवालय प्रांगण में झण्डारोहण किया। मुख्य सचिव ने  प्रदेशवासियों एवं सचिवालय के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को गणतन्त्र दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएँ दी।


        मुख्य सचिव ने सभी ज्ञात-अज्ञात स्वतंत्रता सेनानियों को नमन किया जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया। उन्होंने उन सभी संविधान निर्माताओं को भी नमन किया जिन्होंने एक महान और गौरवशाली संविधान के निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को हम भारतवासी एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाते हैं, इसी दिन सन् 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था, जिसकी बदौलत भारत एक प्रभुता संपन्न, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक गणराज्य बन सका।
        मुख्य सचिव ने कहा कि भारत एक विविधतापूर्ण देश है। संविधान निर्माताओं ने इसका ख्याल रखा और सभी वर्गों के हित सुरक्षित रखे। भारत के संविधान में स्वतंत्रता, समता, बंधुता, न्याय, विधि का शासन, विधि के समक्ष समानता, लोकतांत्रिक प्रक्रिया बिना  किसी भेदभाव के सभी व्यक्तियों के लिए गरिमामय जीवन समाहित हैं। मुख्य सचिव ने कहा कि यह शताब्दी भारत की शताब्दी होगी। हमारी संस्कृति विश्व बंधुत्व की संस्कृति रही है। कोरोना की वेक्सिन बनाने के बाद 100 देशों को देने की घोषणा वासुदेव कुटुंबकम् को परिणित करता है। उन्होंने कहा कि हमारे संविधान ने हमें वो मौलिक अधिकार दिए जो हर व्यक्ति को समानता के साथ आगे बढ़ने का अवसर प्रदान करते हैं। भारत के संविधान के प्रति हमारी आस्था, उसके बारे में जानना और उसका पूर्ण रूप से अनुपालन करना हम भारतीयों का प्रथम कर्त्तव्य हैं। उन्होंने कहा कि आज के दिन हमारे मौलिक कर्त्तव्य प्रासंगिक हैं। हमें अपने संविधान में निहित मौलिक कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए प्रदेश के विकास में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले जिम्मेदार नागरिक होने का संकल्प लेना चाहिए। सरकार द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रत्येक पात्र व्यक्ति तक पहुंचे, इसके लिए हमें लगातार प्रयास करते रहने होंगे।       

 गणतंत्र दिवस(26 जनवरी) के अवसर पर मेला अधिकारी, श्री दीपक रावत ने आज मेला नियंत्रण भवन(सी0सी0आर0) में ध्वजारोहण किया।

हरिद्वार:



ध्वजारोहण के पश्चात मेला नियंत्रण भवन के सभागार में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन हुआ। कार्यक्रम के दौरान मेलाधिकारी ने सभी को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुये कहा कि हमारी एकता एवं अखण्डता में आध्यात्मिकता का भी महत्वपूर्ण स्थान है। हमारे देश को बनाने में तीर्थों का महत्वपूर्ण स्थान है। उन्होंने कहा कि कुम्भ से सम्बन्धित हमारे सभी कार्य लगभग पूर्ण होने हो हैं, जिसके पीछे भी कोई न कोई शक्ति जरूर है। उन्होंने कहा कि सनातन परम्परा को समझना ह,ै तो थ्योरी में गीता तथा प्रैक्टिस में गंगा है। उन्होंने कहा कि हम एक भव्य, दिव्य, सुरक्षित कुम्भ का सफल आयोजन करेंगे।
उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम् प्रबंधन बोर्ड ने मनाया गणतंत्र दिवस।

 नैनीताल :


देश का 72वाॅ गणतन्त्र दिवस जिला सूचना कार्यालय में पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। सूचना कार्यालय में उप निदेशक सूचना कुमाऊॅ योगेश मिश्रा तथा पत्रकार बन्धुओं द्वारा सामुहिक रूप से ध्वजारोहण किया तथा राष्ट्र ध्वज को सलामी भी दी। श्री मिश्रा के साथ मीडिया बन्धुओं ने संविधान की शपथ भी ली।


इस अवसर पर शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए उप निदेशक श्री मिश्रा ने कहा कि हमारा देश धर्म निरपेक्ष देश है, जहाॅ धर्म की आजादी के साथ ही विकास की पूर्ण स्वतंत्रता है। उन्होंने कहा कि देश की आजादी को हासिल करने में तत्कालीन पत्रकारों, अखबार नवीसों, कवियों, लेखकों, गीतकारों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वहीं आजाद देश को विकास की धारा में निरन्तर आगे बढ़ाने में पत्रकारों एवं मीडिया की भूमिका आज भी सर्व मान्य है। उन्होंने पत्रकार बन्धुओं से अपील की कि वे अपने दायित्वों का निर्वहन रचनात्मक एवं स्वस्थय पत्रकारिता के माध्यम से निरन्तर करते रहें। इस अवसर पर उन्होंने सभी पत्रकार बन्धुओं को शुभकामनाऐं भी दी। 
कार्यक्रम में पत्रकार चन्द्रेक बिष्ट, दामोदर लोहनी, प्रशान्त दीक्षित, भूपेन्द्र सिंह रौतेला, नवीन जोशी, अफजल फौजी, अजमल, नवीन तिवारी, तेज सिंह, संदीप कुमार, विनोद कुमार के अलावा, सूचना विभाग के मोहन चन्द्र फुलारा, प्रकाश पाण्डे, सुधीर कुमार, दिवान बिष्ट, पवन नेगी, उमेद सिंह जीना,नीलम राज सहायक अध्यापिका टीकरी देहरादून सहित आदि मौजूद थे।   

 

Post a Comment

Powered by Blogger.