Halloween party ideas 2015

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोविद -19 के लिए नैदानिक ​​प्रबंधन प्रोटोकॉल जारी किया है। गंध की हानि और स्वाद की हानि दूसरों के बीच कोरोना वायरस के नए लक्षणों में शामिल हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सुझाव दिया कि जांच चिकित्सा और दवाओं-रेमेडीसविर, कंवलसेंट प्लाज्मा थेरेपी, टोसीलुज़िमाब और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का उपयोग केवल कोरोना  रोगियों के परिभाषित उपसमूह में किया जाना चाहिए। मंत्रालय ने सलाह दी कि रेमिडीसिविर उन रोगियों को दिया  जा सकता है , जो मध्यम बीमारी के हैं या जो ऑक्सीजन पर हैं।
 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी सुझाव दिया कि टोक्सिलिज़ुमाब का उपयोग मध्यम रोग वाले रोगियों में उत्तरोत्तर बढ़ती ऑक्सीजन आवश्यकताओं के साथ और वेंटीलेटर पर रहने  वाले रोगियों में किया जा सकता है, जिनमे  स्टेरॉयड के उपयोग के बावजूद सुधार नहीं दिखाई दे रहा हो। ।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के उपयोग पर मंत्रालय ने कहा कि इस दवा ने कोरोना वायरस के खिलाफ इन विट्रो गतिविधि में अच्छा  प्रदर्शन किया है और महत्वपूर्ण सीमाओं के साथ चिकित्सकीय रूप से फायदेमंद दिखाया गया है। यह सलाह दी जाती है कि इस दवा का उपयोग किसी भी सार्थक प्रभाव को प्राप्त करने के लिए रोग के पाठ्यक्रम में जल्द से जल्द किया जाना चाहिए और इसे गंभीर बीमारी वाले रोगियों से बचा जाना चाहिए।
 
 अध्ययन से पता चला है कि COVID-19 केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकता है जिससे गंध और स्वाद का नुकसान हो सकता है। भारतीय आईआईटी, जोधपुर के वैज्ञानिकों ने COVID-19 वायरस के न्यूरोनिवसिव प्रकृति का पता लगाया है, जिसमें बताया गया है कि संक्रमित रोगियों की गंध और स्वाद की हानि उनके पूरे सेंट्रल नर्वस सिस्टम और मस्तिष्क में अंतर्निहित संरचनाओं को विनाशकारी प्रभावों के साथ वायरल संक्रमण के लिए अधिक आर- पार  बनाती है।

उन्होंने इस तथ्य के लिए गंध या स्वाद के नुकसान को जिम्मेदार ठहराया है कि नाक और मुंह दोनों वायरस के बहुत महत्वपूर्ण प्रवेश बिंदु हैं, जो फिर घ्राण श्लेष्म के न्यूरॉन्स का उपयोग करके धीरे-धीरे घ्राण बल्ब तक अपना रास्ता बना सकते हैं।

Post a comment

Powered by Blogger.