Halloween party ideas 2015




रेल मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि कुछ विशेष ट्रेनें जो विभिन्न स्थानों पर फंसे प्रवासी श्रमिकों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों, छात्रों और अन्य व्यक्तियों के लिए चलाई जा रही हैं, राज्य सरकारों के अनुरोध पर संचालित की जा रही हैं।
कल देर रात तेलंगाना के हटिया रेलवे स्टेशन पर पहुंचे 1200 फंसे और प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित रूप से उनके संबंधित जिलों में पहुंचा दिया गया है। सभी प्रवासी कामगारों को चिकित्सकीय रूप से जांचा-परखा गया है, जिनके हाथों पर नॉन-वॉशेबल होम-क्वारंटेड स्टैंप लगा हुआ है। अपने घर कस्बों में गर्मजोशी से स्वागत के बाद, उनमें से अधिकांश की चिकित्सकीय जांच की गई है, थर्मल स्क्रीन और संबंधित जिला प्रशासन द्वारा 17 मई तक दो सप्ताह के विस्तारित लॉकडाउन आने के लिए आवश्यक खाद्य आपूर्ति और राशन स्टॉक प्रदान किया गया है।

 अन्य सभी यात्री ट्रेन सेवाएं निलंबित रहेंगी और रेलवे केवल राज्य सरकारों द्वारा लाए और सुविधा प्राप्त यात्रियों को स्वीकार कर रहा है। इसमें किसी अन्य यात्री या व्यक्ति को यात्रा करने के लिए स्टेशन पर आने की अनुमति नहीं है और किसी भी स्टेशन पर कोई टिकट नहीं बेचा जा रहा है।

रेलवे राज्य सरकारों द्वारा अपेक्षित होने के अलावा कोई ट्रेन नहीं चला रहा है। इसमें कहा गया है, अन्य सभी यात्री और उपनगरीय ट्रेनें निलंबित हैं और इसलिए, किसी को भी रेलवे स्टेशन नहीं आना चाहिए। मंत्रालय ने कहा, किसी को भी इसके बारे में कोई झूठी खबर नहीं फैलानी चाहिए।

इस बीच, तिरुवनंतपुरम सेंट्रल रेलवे स्टेशन से एक अन्य ट्रेन आज रात रांची के हटिया स्टेशन के लिए रवाना होगी, जो रेल मंत्रालय द्वारा चलाए जा रहे विशेष श्रमिक ट्रेनों के तहत 1200 प्रवासी मजदूरों के एक और सेट को वापस लाने के लिए है। केरल से मजदूरों को झारखंड भेजने की तैयारी केरल राज्य के पुलिस अधिकारियों द्वारा की जा रही है।

जबकि, रांची जिला प्रशासन उन छात्रों का पहला बैच प्राप्त करने के लिए लगातार तैयारियों का जायजा ले रहा है, जो राजस्थान के कोटा से विशेष ट्रेन से कल शाम को रवाना हुए हैं। ट्रेन के डिब्बों में मौजूद छात्रों की जानकारी उनको वापस लाने के लिए आवश्यक पास प्राप्त करने के लिए अभिभावकों को प्रसारित की गई है। 942 बच्चों को ले जाने वाली ऐसी ही एक ट्रेन आज कोटा से रांची पहुंचेगी जबकि दूसरी ट्रेन कल धनबाद जिले के अपने गंतव्य के लिए रवाना होगी।

झारखंड राज्य सरकार ने पहले अपनी बैठक में राज्य के बाहर फंसे प्रत्येक व्यक्ति को वापस लाने का फैसला किया था।

मजदूरों को चरणबद्ध तरीके से परिवहन करने की कार्य योजना के तहत, पड़ोसी राज्यों बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में बसें भेजी जा रही हैं ताकि इन राज्यों में फंसे लगभग 34,000 श्रमिकों को झारखंड वापस लाया जा सके। जबकि विशेष ट्रेनें दूर-दराज के राज्यों से फंसे मजदूरों को वापस लाने का माध्यम बनी रहेंगी।
 

Post a comment

Powered by Blogger.