Halloween party ideas 2015

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में आयुष विभाग के तत्वावधान में माइंड बॉडी मेडिसिन विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें वक्ताओं ने आयुष की विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों को बढ़ावा देने पर जोर दिया,जिससे मरीजों को इलाज के लिए विभिन्न तरह की चिकित्सा प्रणाली के विकल्प का लाभ मिल सके।
                                                                                                                                                                               शुक्रवार को एम्स के मेडिकल कॉलेज स्थित मिनी ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यशाला का संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत, अपर सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार डा. धर्मेंद्र सिंह गंगवार व सीसीआरवाईएन के निदेशक  डा. राघवेंद्र राव ने संयुक्तरूप से विधिवत शुभारंभ किया।                                                                                                                                                                                                                   इस अवसर पर निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि एलोपैथी मेडिसिन में संपूर्ण उपचार नहीं है,लिहाजा ऐसे में समग्र बीमारियों के उपचार व मरीजों के स्वास्थ्य लाभ के लिए हमें दूसरी चिकित्सकीय पद्धतियों को भी बढ़ावा देना होगा। उन्होंने बताया कि​ शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हमें पहले मन को शांत एवं स्वस्थ रखना होगा। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि जितनी बीमारियां आज के समय में हो रही हैं, उसमें कहीं न कहीं हमारा मन भी सम्मिलित होता है, लिहाजा मन को स्वस्थ एवं शांत रखने के लिए योगाभ्यास आदि क्रियाओं को अवश्य करना चाहिए, उन्होंने बताया कि आयुष विभाग द्वारा नियमिततौर पर इस तरह की कार्यशालाओं का आयोजन करते  रहना चाहिए।                                                            अपर  सचिव भारत सरकार डा. धर्मेंद्र गंगवार ने कहा कि वर्तमान परिदृश्य में समय की उपयोगिता को समझ बेहद जरूरी है, समय का सही उपयोग करने से हमारा तन और मन स्वस्थ रहता है। सीसीआरवाईएन के निदेशक  डा. राघवेंद्र राव ने कैंसर के उपचार में योग की भूमिका के बारे में  विस्तृत जानकारी दी।                                                                                                                                                                                              कार्यशाला में बतौर मुख्यवक्ता डा. प्रदीप कुमार वासु ने माइंड बॉडी मेडिसिन विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि हमें अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि हमारा मन कैसे कार्य करता है, साथ ही हमें पता होना चाहिए कि चेतन अवचेतन मन क्या है। उन्होंने कहा कि एक स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है।                                                                                                                       आयुष विभागाध्यक्ष प्रो. वर्तिका सक्सेना ने कार्यशाला में आए अतिथियों का अभिनंदन किया। प्रो. वर्तिका ने बताया कि एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत के कुशल निर्देशन में आयुष विभाग निरंतर प्रगति कर रहा है, निदेशक एम्स की देखरेख में विभाग ने आयुष से जुड़ी कई पद्धतियों पर अनुसंधान  एवं रेंडमाइज्ड कंट्रोल्ड ट्रायल भी किए हैं ।                                                                                                                                                                                                इस अवसर पर डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता, मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश,डीन एलुमिनाई व आईबीसीसी की प्रमुख प्रोफेसर बीना रवि, प्रो. किम मेमन, डा. संतोष कुमार, आयुष चिकित्साधिकारी डा. मीनाक्षी जगझापे ,डा. रविंद्र अन्थवाल ,डा. अन्विता सिंह ,डा. वैशाली गोयल, संदीप कंडारी,दीपक जोशी, अनीता, सौरभ,संदीप भंडारी,अत्रेश उनियाल ,अंजू ,हेमा,विकास, सीना जोसेफ,नितेंद्र आदि मौजूद थे।

Post a comment

Powered by Blogger.