Halloween party ideas 2015

ऋषिकेश:


अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के तत्वावधान में विश्व मधुमेह दिवस पर बृहस्पतिवार को सार्वजनिक व्याख्यान का आयोजन ​किया जाएगा,जिसमें विशेषज्ञ चिकित्सक लोगों को मधुमेह रोग के कारण एवं बचाव को लेकर जागरुक करेंगे। एम्स की डिवीजन ऑफ डाइबिटिक एंड मैटाबोलिज्म मेडिसिन विभाग की ओर से विभिन्न सामाजिक व शिक्षण संस्थाओं से मधुमेह जैसी गंभीर बीमारी पर आधारित पब्लिक लेक्चर में प्रतिभाग सुनिश्चित करने की अपील की गई है।                                                                                                                                                                                                                                                                                   एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि संस्थान की ओर से विभिन्न गंभीर बीमारियों के साथ साथ रक्तदान व नेत्रदान जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर लोगों को जागरुक करने को लेकर सततरूप से मुहिम चलाई जा रही है। इसी अ​भियान के तहत बृहस्पतिवार को विश्व मधुमेह दिवस पर संस्थान में सार्वजनिक व्याख्यान कार्यक्रम आयोजित किया गया है,जिससे अधिकाधिक लोगों को मधुमेह जैसी घातक बीमारियों के कारण एवं निवारण को लेकर जागरुक किया जा सके।                                                                                                                                                              निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने इस आयोजन के लिए मेडिसिन विभाग की सराहना की है और उम्मीद जताई कि इस पहल से लोग मधुमेह रोग को लेकर जागरुक होंगे व अपना बचाव कर सकेंगे। निदेशक एम्स ने क्षेत्र की अधिकाधिक सामाजिक संस्थाओं व शिक्षण संस्थानों के प्रतिनिधियों से सार्वजनिक व्याख्यान में प्रतिभाग का आह्वान किया है।                                                                                                                                                                                                                                                                                     मेडिसिन विभाग की डिवीजन ऑफ डाइबिटिक एंड मैटाबोलिज्म प्रमुख डा. रविकांत ने बताया कि विश्व मधुमेह दिवस का आज की जीवनशैली में अधिक महत्व है। उन्होंने बताया कि भारत में वर्तमान में लगभग 7 करोड़ 40 लाख लोग मधुमेह से पीड़ित हैं। डा. रविकांत के अनुसार आधुनिक जीवनशैली, अनियमित दिनचर्या व खानपान के कारण मधुमेह रोगियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है जो कि चिंता का विषय है।                                     

   उन्होंने मेटाबोलिक सिंड्रोम को मधुमेह का मुख्य घटक बताया और कहा कि यह सिंड्रोम भारत वर्ष में 20 से 25 प्रतिशत लोगों में व्याप्त है। लिहाजा संस्थान द्वारा इस घातक बीमारी के प्रति लोगों में जागरुकता बढ़ाने के लिए खासतौर से सार्वजनिक व्याख्यान का आयोजन किया गया है। उन्होंने पब्लिक लेक्चर में प्रतिभाग करने की इच्छुक सामाजिक व शैक्षणिक संस्थाओं से अपने नामित प्रतिनिधियों की जानकारी 13 नवंबर-2019 तक संस्थान की ई-मेल आईडी diabetescontrol@aiimsrishikesh.edu.in  पर उपलब्ध कराने की अपील की है।

Post a comment

Powered by Blogger.